Jagran Josh Logo
  1. Home
  2.  |  
  3. सामान्य ज्ञान तथ्य
  4.  |  
  5. आर्थिक तथ्य

आर्थिक तथ्य

General Knowledge for Competitive Exams

Read: General Knowledge | General Knowledge Lists | Overview of India | Countries of World

विश्वकर्मा अकाउंट प्राइवेट नौकरी करने वालों की कैसे मदद करेगा?

Aug 10, 2018
विश्वकर्मा अकाउंट एक ऐसा अकाउंट होगा जो कि असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले लोगों के लिए मददगार होगा. इस अकाउंट की सबसे बड़ी खासियत यह होगी कि यदि प्राइवेट नौकरी करने वाले किसी व्यक्ति की नौकरी चली जाती है तो उस व्यक्ति के खर्चे (जैसे बच्चे की फीस, मकान का किराया इत्यादि) कुछ समय के लिए विश्वकर्मा अकाउंट से पूरे किये जायेंगे. आइये इस लेख में जानते है कि विश्वकर्मा अकाउंट में कौन कौन सी स्कीमें कवर की गयी हैं.

भारत को सोने की चिड़िया क्यों कहा जाता था?

Aug 8, 2018
प्राचीन काल में भारत को सोने की चिड़िया इस लिए कहा जाता था क्योंकि भारत में अकूत धन सम्पदा मौजूद थी. 1600 ईस्वी के आस-पास भारत की प्रति व्यक्ति जीडीपी 1305 अमेरिकी डॉलर थी जो कि उस समय अमेरिका, जापान, चीन और ब्रिटेन से भी अधिक थी. भारत की यह अकूत संपत्ति ही विदेशी आक्रमणों का कारण भी बनी थी.

जानें किन देशों में निवेश करके वहां की नागरिकता हासिल कर सकते हैं?

Aug 1, 2018
यह लेख उन देशों पर आधारित है जो कि अपनी नागरिकता उन लोगों को दे देते हैं जो कि इन देशों में कुछ लाख या करोड़ रुपयों का निवेश करते हैं. आज की तारीख़ में अमेरिका से सिंगापुर तक क़रीब 23 ऐसे देश हैं जो निवेश के बदले अपने देश की नागरिकता देते हैं.

भारत के नोटों के पीछे कौन-कौन से चित्र बने हुए हैं?

Jul 18, 2018
दुनिया में शायद ही ऐसा कोई देश होगा जिसकी अपनी करेंसी नहीं है. लगभग हर देश अपनी मुद्रा पर अपने देश के किसी महत्वपूर्ण व्यक्ति की तस्वीर लगाने के साथ साथ अपने देश की किसी विशिष्ट पहचान वाली चीज की फोटो जरूर लगाता है. भारत के सभी नोटों पर महात्मा गाँधी की फोटो के साथ साथ अन्य इमारतों जैसे लाल किला और साँची स्तूप तथा हाथी, बाघ इत्यादि की फोटो छापी जाती है.

असली और नकली नोटों में अंतर कैसे पहचानें

Jul 17, 2018
आरबीआई के एक अनुमान में कहा गया है कि भारत में वित्त वर्ष 2017 में नकली नोटों की संख्या में 20% की वृद्धि हुई है और यह संख्या 7.62 लाख नोटों तक पहुंच गई है. नकली नोटों में सबसे अधिक संख्या 500 और 2000 रुपये के नोटों की है. आम लोगों की जागरूक को बढ़ाने के लिए हमने इस लेख में यह बताने का प्रयास किया है कि लोग किन-किन फीचर्स को देखकर पता लगा सकते हैं कि कोई नोट असली है या नकली.

सिक्का अधिनियम 2011: भारत में सिक्कों के साथ क्या नहीं कर सकते

Jul 11, 2018
भारतीय रिज़र्व बैंक; भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934 के प्रावधानों के अनुसार मुद्रा नोट्स प्रिंट करता है, जबकि भारत में सिक्के, सिक्का अधिनियम, 2011 के अनुसार बनाये जाते हैं. सिक्का अधिनियम, 2011 जम्मू-कश्मीर सहित पूरे भारत में लागू है. इस लेख में माध्यम से यह बताने का प्रयास किया गया है कि भारत में सिक्कों के इस्तेमाल को लेकर क्या क्या नियम बनाये गए हैं.

भारतीय नोटों पर गाँधी जी की तस्वीर कब से छपनी शुरू हुई थी?

Jul 10, 2018
एक RTI के जवाब में केंद्र सरकार और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने बताया था, कि नोट के दाहिनी तरफ गांधी जी की तस्वीर को छापने की सिफारिश 13 जुलाई 1995 को RBI ने केंद्र सरकार को की थी. इसके बाद आरबीआई ने 1996 में नोटों में बदलाव का फैसला लिया और अशोक स्तंभ की जगह राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के फोटो का इस्तेमाल किया गया.

RuPay Card, VISA Card और MasterCard के बीच क्या अंतर है?

Jul 4, 2018
क्या आपने कभी ध्यान दिया है कि क्रेडिट या डेबिट कार्ड पर RuPay card या Visa card या MasterCard लिखा होता है, भले ही हमने यह किसी भी बैंक से लिया हो. ऐसा क्यों होता है, क्या इनके बीच में कोई अंतर होता है, क्या RuPay Card अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है इत्यादि के बारे में आइये इस लेख के माध्यम से अध्ययन करते हैं.

जानें अकबर के शासन के दौरान अमेरिकियों की तुलना में भारतीय कितने अमीर थे?

Jul 3, 2018
सन 1600 ईस्वी के आस पास भारत में अकबर का शासन था और इसी साल अंग्रेजों ने भारत में ईस्ट इंडिया कंपनी की स्थापना की थी. ग्रोनिंगेन विश्वविद्यालय, नीदरलैंड की एक रिपोर्ट के मुताबिक जब भारत में अकबर का शासन था उस समय भारत की प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद आज के ज़माने में विकसित देश कहे जाने वाले फ़्रांस, जर्मनी, अमेरिका और जापान से भी अधिक थी.

विश्व बैंक से सबसे अधिक कर्ज लेने वाले देश कौन से हैं?

Jul 3, 2018
विश्व बैंक की वर्ष 2017 की रिपोर्ट के अनुसार, चीन विश्व बैंक समूह से सबसे ज्यादा ऋण लेने वाला देश है. चीन ने विश्व बैंक समूह से 2420 मिलियन डॉलर का कर्ज लिया है, इसके बाद 1776 मिलियन डॉलर के साथ भारत और तीसरे नंबर पर इंडोनेशिया का नम्बर आता है जिसने 1692 मिलियन डॉलर उधार लिया है.

जानें भारत की करेंसी कमजोर होने के क्या मुख्य कारण हैं?

Jun 28, 2018
भारत की आजादी के समय एक डॉलर का मूल्य एक रुपये के बराबर है लेकिन वर्ष 2018 में भारतीय रुपये का मूल्य अपने सबसे निचले स्तर पर पहुँच गया है और एक डॉलर में खरीदने के लिए 69 रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं. इस लेख में भारतीय रुपये की वैल्यू में गिरावट के कारणों की व्याख्या की गयी है.

यूरो जोन किसे कहते हैं और इसमें शामिल होने की क्या शर्तें हैं?

Jun 25, 2018
यूरोप में स्थित 28 सदस्य देशों का संघ यूरोपियन यूनियन कहलाता है. इस संघ के 28 सदस्यों में से 19 देशों में यूरो को साझा मुद्रा के रूप में मान्यता मिली हुई है अर्थात यूरो 19 देशों की आधिकारिक मुद्रा है. अतःजिन देशों में यूरोप की साझी मुद्रा यूरो चलन में है उसे ही यूरो जोन कहते हैं.

बैंक ऑफ महाराष्ट्र घोटाला 2018 क्या है?

Jun 22, 2018
आजकल बैंक घोटाला एक आम बात हो गुई है, पंजाब नेशनल बैंक के बाद बैंक ऑफ महाराष्ट्र में हाल ही में घोटाला हुआ है. आइये बैंक ऑफ महाराष्ट्र घोटाला 2018 क्या है, किसने किया, कैसे किया और इसके खिलाफ क्या करवाई की गई है, बैंक फ्रॉड होता क्या है आदि के बारे में इस लेख के माध्यम से अध्ययन करेंगे.

नोट पर क्यों लिखा होता है कि “मैं धारक को 100 रुपये अदा करने का वचन देता हूँ.”

Jun 21, 2018
भारत में करेंसी नोटों को छापने का कम भारत की रिज़र्व बैंक के जिम्मे है. एक रुपये के नोट को छोड़कर सभी नोटों पर RBI के गवर्नर के हस्ताक्षर होते हैं. किसी भी नोट पर “मैं धारक को 100 या 500 रूपए अदा करने का वचन देता हूँ” जरूर लिखा होता है यह RBI के गवर्नर की शपथ होती है कि जिसके पास भी यह नोट है उसको हर हाल में उसकी लिखी गयी कीमत देने का दायित्व RBI के गवर्नर का है.

भारत की मुख्य योजनाएं जिन्हें विश्व बैंक की सहायता प्राप्त है?

Jun 14, 2018
विश्व बैंक अपने सदस्य देशों को विकास परियोजनाएं चलाने के लिए IDA के माध्यम से सस्ती दरों पर लोन मुहैया कराता है. वर्ष 2017 में भारत ने विश्व बैंक से 1776 मिलियन डॉलर का कर्ज लिया था. वर्तमान में विश्व बैंक, भारत के 783 से ज्यादा प्रोजेक्ट्स में आर्थिक सहायता दे रहा है. इस लेख में द्वारा भारत में विश्व बैंक की सहायता से चलायी जा रही कुछ महत्वपूर्ण योजनाओं के बारे में बताया गया है.

किस व्यक्ति के मरने पर कई देशों की करेंसी बदल जाएगी?

Jun 13, 2018
एलिज़ाबेथ II 6 फरवरी 1952 से ब्रिटेन की महारानी का पद संभाल रहीं हैं. इंग्लैंड की मुद्रा पाउंड पर यहाँ की महारानी एलिज़ाबेथ II की फोटो लगी हुई है. ब्रिटेन के अलावा ऐसे 10 देश और हैं जहाँ की मुद्रा पर ब्रिटेन की महारानी का फोटो लगा हुआ है. यदि ब्रिटेन की महारानी की मृत्यु हो जाती है तो इन सभी देशों की मुद्रा को बदलना पड़ेगा. इस लेख में इन्ही देशों की मुद्रा का बारे मे बताया गया है.

प्रधानमन्त्री मुद्रा योजना में कैसे और किन-किन उद्योगों के लिए लोन मिलता है?

Jun 12, 2018
प्रधानमन्त्री मुद्रा योजना को 8 अप्रैल 2015 को मोदी जी ने शुरू किया था. इस योजना का उद्येश्य देश में स्वरोजगार के अवसरों और विनिर्माण गतिविधियों को बढ़ावा देना शामिल है. मुद्रा योजना के तहत; वित्त वर्ष 2017-2018 के दौरान लगभग 4 करोड़ 80 लाख लोगों को 2.46 लाख करोड़ रुपयों का आवंटन किया जा चुका है. इस लेख में आप पढेंगे कि प्रधानमन्त्री मुद्रा योजना के तहत कैसे लोन प्राप्त करें.

भारत के सबसे बड़े बैंकिंग घोटाले कौन-कौन से हैं?

Jun 8, 2018
किसी भी देश की बैंकिंग व्यवस्था में लोगों की छोटी छोटी बचतों का पैसा जमा होता है. यह जमा राशि जब बड़ी रकम का रूप ले लेती है तो बैंक इस जमा को व्यक्तियों, व्यापारियों, संस्थाओं को उधार दे देते हैं. कई बार देश के बड़े उद्योग घराने जनता की इन छोटी बचतों को अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने के लिए उधार ले लेते हैं लेकिन समय पर लौटाते नही हैं जिससे देश की बैंकिंग व्यवस्था चरमरा जाती है.

जानें भारत में डीजल और पेट्रोल की वास्तविक कीमत और उस पर लगने वाले टैक्स

Jun 6, 2018
अंतरराष्ट्रीय बाजार में वर्तमान कच्चे तेल की कीमतों के आधार पर भारत में इसकी कीमत 31 रुपये प्रति लीटर आती है लेकिन भारत में केंद्र सरकार द्वारा लगाये जाने वाले उत्पाद कर और राज्य सरकार द्वारा लगाये जाने वाले वैट के कारण उपभोक्ताओं को पेट्रोल खरीदने के लिए दिल्ली में 76.24 रुपये प्रति लीटर और डीजल खरीदने के लिए 67.54 खर्च करने पड़ रहे हैं.

राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति, 2017: प्रमुख लक्ष्य एक नज़र में

May 29, 2018
राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति, 2017 को 15 मार्च, 2017 को “स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय” द्वारा शुरू किया गया था. इस नीति में सरकार का ध्यान “बीमार की देखभाल” से शिफ्ट होकर “बीमार के कल्याण” पर होगा. यह भारत सरकार की तीसरी राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति है. भारत की पहली स्वास्थ्य नीति 1983 में बनी थी जबकि दूसरी स्वास्थ्य नीति 2002 में बनी थी. तीसरी नीति में सरकार स्वास्थ्य क्षेत्र पर खर्च बढ़ाकर, सकल घरेलू उत्पाद का 2.5% करना चाहती है.

Latest Videos

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Newsletter Signup
Follow us on
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK