1. Home
  2.  |  
  3. भारत दर्शन

भारत दर्शन

General Knowledge for Competitive Exams

Read: General Knowledge | General Knowledge Lists | Overview of India | Countries of World

बरसाना की लट्ठमार होली: इतिहास और महत्व

2 days ago
दरअसल बरसाना नामक जगह पर राधा जी का जन्म हुआ था और राधा जी को श्रीकृष्णा भगवान की प्रेमिका माना जाता है. ऐसी मान्यता है कि पुराने काल में श्रीकृष्णा होली के समय बरसाना आए थे. यहाँ पर कृष्ण ने राधा और उनकी सहेलियों को छेड़ा था. उसके बाद राधा अपनी सखियों के साथ लाठी लेकर कृष्ण के पीछे दोड़ने लगीं. बस तभी से बरसाने में लठमार होली शुरू हुई थी.

प्रसिद्ध भारतीय हस्तियाँ जिनके नाम पर उनके जीवनकाल में ही डाक टिकट जारी हुए हैं

Mar 15, 2019
दुनिया में कई ऐसे प्रसिद्ध व्यक्ति हुए हैं जो अपने जीवनकाल में ही वह प्रतिष्ठा और ख्याति प्राप्त कर लेते हैं, जो मरने के बाद भी कई व्यक्तियों को नसीब नहीं होती है। इन्हीं प्रसिद्धियों में से एक है- किसी जीवित व्यक्ति के नाम पर डाक टिकट जारी होना। भारत में भी कई ऐसे महान व्यक्तित्व हुए हैं जिनके नाम पर उनके जीवनकाल में ही डाक टिकट जारी किए गए हैं। इस लेख में हम उन प्रसिद्ध भारतीय हस्तियों का विवरण दे रहे हैं जिनके नाम पर उनके जीवनकाल में ही डाक टिकट जारी हुए हैं।

जानें भारतीय क्रिकेटरों को कितनी सैलरी मिलती है?

Mar 11, 2019
भारत में क्रिकेट की लोकप्रियता और अच्छी कमाई के कारण भारत का हर युवा क्रिकेट की दुनिया में अपना कैरियर बनाना चाहता है. अभी हाल ही में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने अपने खिलाडियों को अनुबंध में दी जाने वाली राशि को फिर से बढ़ा दिया है. BCCI अनुबंधित खिलाडियों को चार श्रेणियों में रखता है A+ , A, B और C. अब A+ ग्रेड में आने वाले खिलाडी को हर साल 7 करोड़ रुपये , A ग्रेड वाले खिलाडी को 5 करोड़ रुपये और B ग्रेड वाले को पूरे साल में 3 करोड़ रुपये और C ग्रेड के खिलाड़ी को हर साल 1 करोड़ रुपये दिए जायेंगे.

उत्तर प्रदेश के प्रमुख संग्रहालयों की सूची

Mar 8, 2019
उत्तर प्रदेश सांस्कृतिक और भौगोलिक विविधता का प्रदेश है. यह प्रदेश भारत के सांस्कृतिक, राजनैतिक, शिक्षा, कृषि, पर्यटन और उद्योग के क्षेत्रों में महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है. देश और प्रदेश की प्राचीन विरासत को भविष्य की पीढ़ी के लिए सहेजकर रखने के लिए प्रदेश में समय समय कई संग्रहालयों की स्थापना की गयी है. उत्तर प्रदेश में पहला संग्रहालय लखनऊ में 1863 में बना था.

जम्मू एवं कश्मीर के संविधान की क्या विशेषताएं हैं?

Mar 8, 2019
जम्मू एवं कश्मीर भारतीय गणतंत्र में शामिल एक मात्र ऐसा प्रदेश है जिसके पास अपना स्वयं का संविधान है और राष्ट्रीय झंडा है. इस प्रदेश में भारत का संविधान भी लागू होता है और यहाँ के स्थायी निवासियों को भारत के नागरिकों को मिलने वाले सभी अधिकार मिलते हैं. इस लेख में हम जम्मू एवं कश्मीर के संविधान की मुख्य विशेषताओं के बारे में जानेंगे.

जानें क्या है आर्टिकल 370?

Mar 8, 2019
आर्टिकल 370 को भारत के संविधान में शामिल किया गया था. यह आर्टिकल स्पष्ट रूप से कहता है कि रक्षा, विदेशी मामले और संचार के सभी मामलों में पहल भारत सरकार करेगी. इन प्रावधानों को 17 नवंबर 1952 से लागू किया गया था. आर्टिकल 370 के कारण जम्मू & कश्मीर का अपना संविधान है और इसका प्रशासन इसी के अनुसार चलाया जाता है ना कि भारत के संविधान के अनुसार.

पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) के बारे में 15 रोचक तथ्य और इतिहास

Mar 7, 2019
पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर भारत के जम्मू व कश्मीर राज्य का वह हिस्सा है जिस पर पाकिस्तान ने 1947 में हमला कर अधिकार कर लिया था. पाकिस्तान ने इसे प्रशासनिक रूप से दो हिस्सों में बांट रखा है, जिन्हें सरकारी भाषा में आज़ाद जम्मू-ओ-कश्मीर और गिलगित-बल्तिस्तान कहते हैं. पाकिस्तान में आज़ाद जम्मू-ओ-कश्मीर को केवल आज़ाद कश्मीर भी कहते हैं. यहाँ के लोगों मी जीविका का मुख्य साधन कृषि, पशुपालन, पर्यटन और कालीन उद्योग हैं.

भारत में वाहनों की लाइट अब दिन में क्यों जलती रहती है?

Mar 5, 2019
सड़क एवं परिवहन मन्त्री नितिन गडकरी ने अपने मंत्रलाय की वार्षिक रिपोर्ट में भारत में सड़क दुर्घटनाएं--2016 नामक रिपोर्ट जारी की थी. इस रिपोर्ट में कहा कहा गया है कि वर्ष 2015 भारत में 5,01,423 सड़क दुर्घटनाएं हुई थीं जबकि 2016 में देश में सड़क दुर्घटनाओं में लगभग 4.1% की कमी आई है, अर्थात अब सड़क दुर्घटनाओं की संख्या 4,80,652 पर आ गयी है. भारत में बढती सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए सरकार ने वाहन निर्माता कंपनियों के लिए यह अनिवार्य कर दिया है कि अब ऐसे वाहन बनायें जिनकी लाइट दिन में भी जलती रहे.

भारत, चीन और पाकिस्तान की वायु सेनाओं की तुलना

Mar 5, 2019
भारतीय वायु सेना को आधिकारिक रूप से 85 वर्ष पहले 8 अक्टूबर 1932 को ब्रिटिश साम्राज्य की सहायक वायु सेना के रूप में स्थापित किया गया था. वर्तमान में इसमें 1 लाख 40 हजार सैनिक काम कर रहें हैं, इस तरह यह दुनिया की चौथी सबसे बड़ी वायुसेना कहलाती है. भारत के पडोसी देश चीन के पास दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी वायुसेना है. इस लेख में हम इन तीनों देशों की वायुसेनाओं की ताकत की तुलना करके यह जानने के प्रयास करेंगे कि कौन देश ज्यादा मजबूत वायुसेना रखता है.

जानें भारतीय थलसेना कितनी ताकतवर है?

Mar 5, 2019
भारत के पास 14 लाख एक्टिव सेना और 11.55 रिज़र्व सेना होने के साथ-साथ 20 लाख पैरामिलिट्री फ़ोर्स भी है. वर्ल्ड इकनोमिक फोरम के अनुसार वर्ष 2017 में भारत का रक्षा बजट 67 अरब डॉलर था. इस लेख में हमने भारत की मिलिट्री पॉवर में कुछ मुख्य बिन्दुओं को बताया है.

क्या आप वाघा बॉर्डर झंडा सेरेमनी के बारे में ये बातें जानते हैं?

Mar 1, 2019
वाघा, भारत के अमृतसर, तथा पाकिस्तान के लाहौर के बीच ग्रैंड ट्रंक रोड पर स्थित गाँव है; जहाँ से दोनों देशों की सीमा गुजरती है. " वाघा बॉर्डर सेरेमनी" का उद्देश्य औपचारिक रूप से रात के लिए सीमा को बंद करना और राष्ट्रीय ध्वज को नीचे उतारना (Flag Lowering Ceremony) है. झंडा उतारने का काम सूर्यास्त से 2 घंटे पहले किया जाता है. हालांकि, यह एक मनोरंजन समारोह है लेकिन इसको देशभक्ति प्रदर्शन की तरह हर दिन प्रदर्शित किया जाता है.

मिराज 2000 के बारे में रोचक तथ्य

Feb 27, 2019
डसॉल्ट मिराज 2000 जेट विमान को फ़्रांस ने 10 मार्च 1978 में बनाया था और इसे फ़्रांस की वायुसेना में जुलाई 1984 शामिल किया गया था. यह विमान 2,000 किमी/घंटा की गति से उड़ान भरने में सक्षम है. भारत के पास लगभग 1720 एयरक्राफ्ट हैं जबकि भारत की वायुसेना के बेड़े में लगभग 49 मिराज लड़ाकू विमान हैं. डसॉल्ट मिराज 2000 एक फ्रांसीसी मल्टीरोल, डबल-इंजन वाला चौथी पीढ़ी का जेट फाइटर है जो डसॉल्ट एविएशन द्वारा निर्मित है.

भारत में परमाणु हमले का बटन किसके पास होता है?

Feb 26, 2019
हाल ही में ऐसी ख़बरें आयीं है जिसमे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग एक दूसरे को परमाणु हमले की धमकियाँ दे रहें हैं. ऐसे में यह प्रश्न उठता है कि भारत में परमाणु हमला करने का निर्णय कौन ले सकता है. इस लेख में आप जानेंगे कि परमाणु हमला करने का निर्णय कौन लेता है और इसमें कितना समय लगता है.

कुंभ मेले का संक्षिप्त इतिहास: कुंभ मेले की शुरुआत किसने और कब की

Feb 13, 2019
कुंभ मेले का अपना ही महत्व है. इसका आयोजन भारत में चार स्थानों पर किया जाता है. दुनिया के विभिन्न हिस्सों से लोग इस मेले में शामिल होते हैं और पवित्र नदी में स्नान करते हैं. हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, कुंभ मेला 12 वर्षों के दौरान चार बार मनाया जाता है. इसमें कोई संदेह नहीं है कि, यह मेला दुनिया का सबसे बड़ा धार्मिक और संस्कृति का प्रतीक है. यह मेला 48 दिनों तक चलता है. आइये इस लेख के माध्यम से कुंभ का अर्थ जानते हैं, इसे क्यों मनाया जाता है, इसके पीछे का इतिहास क्या है, किसने कुंभ मेले की शुरुआत की थी, इत्यादि. आइये लेख के माध्यम से अध्ययन करते हैं.

दक्षिण अफ्रीका से भारत तक महात्मा गाँधी की यात्रा एवं उनके प्रयोग

Feb 1, 2019
मोहनदास करमचंद गांधी जिन्हें 'महात्मा गांधी या बापू' के नाम से जाना जाता है, का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को हुआ था। वे निस्संदेह एक महान व्यक्ति थे, व्यक्तिगत बल और राजनीतिक प्रभाव से भारत में स्वतंत्रता के संघर्ष के चरित्र को ढाला था। उनकी सत्याग्रह की अवधारणा की नींव सम्पूर्ण अहिंसा के सिद्धान्त पर रखी गयी थी जिसने भारत को आजादी दिलाकर पूरी दुनिया में जनता के नागरिक अधिकारों एवं स्वतन्त्रता के प्रति आन्दोलन के लिये प्रेरित किया। इस लेख में हमने दक्षिण अफ्रीका से भारत तक महात्मा गाँधी की यात्रा एवं उनके प्रयोगों पर चर्चा की है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

क्या आप भारतीय झंडा संहिता,2002 के बारे में जानते हैं?

Jan 28, 2019
भारतीय राष्ट्रीय ध्वज का प्रदर्शन; प्रतीक और नाम (अनुचित प्रयोग का निवारण) अधिनियम, 1950 और राष्ट्रीय गौरव अपमान निवारण अधिनियम,1971 उपबंधों के अनुसार नियंत्रित होता है. भारतीय ध्वज संहिता, 2002 में इन सभी नियमों, रिवाजों, औपचारिकताओं और निर्देशों को एक साथ लाने के प्रयास किया गया है. इस लेख में हमने भारतीय ध्वज संहिता, 2002 में वर्णित मुख्य नियमों, रिवाजों, औपचारिकताओं और निर्देशों को बताया है.

गणतंत्र दिवसः भारतीय गणतंत्र की यात्रा

Jan 25, 2019
भारत 15 अगस्त 1947 को ब्रिटिश शासन से स्वतंत्र हुआ था और तब हमारे देश के पास संविधान नहीं था | 26 जनवरी 1950 को संविधान को अंगीकार किया गया था और उस दिन के बाद से प्रत्येक वर्ष पूरे देश में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में बहुत गर्व और खुशी के साथ मनाया जाता है। यह लेख भारतीय गणतंत्र दिवस के इतिहास, उत्पत्ति और पृष्ठभूमि से संबंधित है।

26 जनवरी की परेड से संबंधित 13 रोचक तथ्य

Jan 25, 2019
हर साल आप 26 जनवरी के अवसर पर राजपथ पर आयोजित परेड को दूरदर्शन के माध्यम से देखते हैं| लेकिन क्या आपको पता है कि 26 जनवरी की परेड के आयोजन की जम्मेवारी किसकी है एवं इसके आयोजन में कितना खर्च होता है? इस लेख में हम 26 जनवरी की परेड से जुड़े 13 रोचक तथ्यों का विवरण दे रहें हैं|

कौन से गणमान्य व्यक्तियों को वाहन पर भारतीय तिरंगा फहराने की अनुमति है?

Jan 25, 2019
आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि भारत के हर व्यक्ति को अपनी कार पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने की अनुमति नही है. हमारे देश में केवल कुछ गणमान्य व्यक्तियों को ही ऐसा करने की अनुमति है. भारतीय ध्वज संहिता, 2002 ने उन गणमान्य व्यक्तियों का नाम सूचीबद्ध किया है जो कि अपनी कारों पर राष्ट्रीय ध्वज फहरा सकते हैं. इस लेख में सभी गणमान्य व्यक्तियों के नामों की सूची दी गयी है.

‘जन गण मन’: भारत का राष्ट्र गान

Jan 25, 2019
भारत के राष्ट्रगान ‘जन गण मन’ की रचना नोबेल पुरस्कार प्राप्त भारतीय कवि रवीन्द्रनाथ टैगोर द्वारा मूलतः बांग्ला भाषा में 1911 ई. में की गयी थी| ‘जन गण मन’ के हिंदी संस्करण को भारतीय संविधान सभा द्वारा 24 जनवरी,1950 को राष्ट्रगान के रूप में स्वीकृति प्रदान की गयी| ‘जन गण मन’ को पहली बार 27 दिसंबर,1911 को कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन में गाया गया था|

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below