Search

अंतर्राष्ट्रीय विकास संघ (International Development Association)

अंतर्राष्ट्रीय विकास संघ (International Development Association), विश्व बैंक की एक अनुषंगी संस्था है.
Dec 9, 2014 12:29 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

अंतर्राष्ट्रीय विकास संघ (International Development Association) (IDA), विश्व बैंक की एक अनुषंगी संस्था है. इसे विश्व बैंक की रियायती ऋण देने वाली खिड़की अर्थात उदार ऋण-खिड़की भी कहते हैं. इसकी स्थापना 24 सितम्बर 1960  को की गयी थी. इसकी सदस्यता बैंक के सभी सदस्यों के लिए खुली हुई है. इंटरनेशनल डेवलपमेंट एसोसिएशन, आर्थिक विकास को बढ़ाने के लिए एवं विभिन्न कार्यक्रमों के लिए ऋण व अनुदान उपलब्ध कराने का कार्य करता है. साथ ही अपने विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से गरीबी रेखा के नीचे रहने वाले लोगों के लिए अनेक कार्यक्रमो का संपादन समय-समय पर सम्पादित करता रहता है.

इसे अर्थात अंतर्राष्ट्रीय विकास संघ (इंटरनेशनल डेवलपमेंट एसोसिएशन) (आईडीए) को पुनर्निर्माण और विकास के लिए अंतरराष्ट्रीय बैंक (आईबीआरडी) की रियायती ऋण देने वाली खिड़की के रूप में जाना जाता है. इससे प्राप्त ऋण पर कोई ब्याज नहीं देना होता है तथा यह ऋण विश्व के निर्धन राष्ट्रों को ही उपलब्ध कराये इस संघ का कार्य संचालन उन्हीं व्यक्तियों द्वारा किया जाता है जो विश्व बैंक का संचालन करते हैं.

आईडीए के प्रमुख कार्य

दुनिया के सबसे गरीब देशों में उनके महत्वपूर्ण विकास कार्यों में धन की जरूरत होती है. ये गरीब देश इतने सक्षम नहीं होते हैं की वे अपने विकास कार्य को गति दे सकें जिसकी वजह से उन्हें अनेक धन सम्बन्धी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. इन्ही परेशानियों के कारण ही इन देशों में शिक्षा की बेहद कमी पायी जाती हैं साथ ही स्वास्थ्य की स्थिति भी अयंत बुरी होती है, जिसकी वजह से इन देशों में अनेक बीमारियों पैदा होती रहती हैं. इन्ही कार्यों में मदद करने हेतु यह संस्था आगे आती है और इन देशो में विद्यमान समस्याओं को निबटाने में अथक प्रयत्न करती है, उदाहरण के लिए बुनियादी स्वास्थ्य सेवाओं, प्राथमिक शिक्षा, साफ पानी और स्वच्छता, कृषि, पर्यावरण सुरक्षा उपायों, व्यापार जलवायु में सुधार, संस्थागत सुधारों और बुनियादी सुविधाओं के लिए किये जाने वाले प्रयास. उल्लेखनीय है की इन परियोजनाओं की वजह से ही आर्थिक विकास, समानता, रोजगार सृजन, बेहतर रहने की स्थिति और उच्च आय की परिस्थिति का जन्म हुआ है.

1 जुलाई 2014-जून 30, 2017  तक की अवधि के लिए इस संस्था नें अपने विविध कार्यों के संचालन के लिए  चार विषयगत क्षेत्रों पर विशेष ध्यान दिया है:

  • कमजोर और संघर्ष से प्रभावित देश
  • जलवायु परिवर्तन
  • समावेशी विकास
  • लैंगिक समानता