Search

अरब मघरेब संघ (एएमयू)

अरब मघरेब संघ (एएमयू) अल्जीरिया, लीबिया, मॉरिटानिया, मोरक्को और ट्यूनीशिया के राज्य के प्रमुखों की मार्राकेश में एक बैठक में 17 फ़रवरी 1989 को बनाया गया था। इस संघ में चार देशों की विकास योजनाओं का समन्वय और सामंजस्य स्था पित करने का इरादा था साथ ही अंतरक्षेत्रीय व्यापार के अनुरूप एक ब्लॉक के रूम में एक यूरोपीय संघ बनाना था|
Jul 20, 2016 12:52 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

अरब मघरेब संघ (एएमयू) अल्जीरिया, लीबिया, मॉरिटानिया, मोरक्को और ट्यूनीशिया के राज्य के प्रमुखों की मार्राकेश के एक बैठक में 17 फ़रवरी 1989 को बनाया गया था।

Jagranjosh

इस संघ में चार देशों की विकास योजनाओं का समन्वय और सामंजस्य स्थाफपित करने का इरादा था साथ ही अंतरक्षेत्रीय व्यापार के अनुरूप एक ब्लॉक के रूम में एक यूरोपीय संघ बनाना था| 1988 में सीपीसीएम का मॉरिटानिया द्वारा पालन| सभी आर्थिक और राजनीतिक एकीकरण के प्रयास पश्चिमी सहारा मुद्दे के कारण विफल रहे हैं। एक 1992 के बाद यूरोपीयन एकल बाजार के पूरा होने की संभावना के प्रतिक्रिया के रूप में संयुक्त राष्ट्र महासचिव और कुछ अरब देशों की राजनयिक पहल से मुद्दे का समाधान निकालने में मदद हुई| इससे अरब मघरेब संघ के निर्माण के लिए एक अनुकूल वातावरण बना|

अरब मघरेब संघ के मुख्य संस्थान (एएमयू)

राज्य के प्रमुखों की परिषद (अपने पिछले सत्र 1994 में हुई थी): यहां एएमयू के भीतर एक घूर्णन अध्यक्षता है जो प्रत्येक राष्ट्र द्वारा बदले में आयोजित किया जाता है।

विदेश मंत्रियों की परिषद

संचालन समिति

न्याय कोर्ट: यह दस सदस्यों के साथ बना है- हर देश से दो सदस्यं-, सदस्य देशों से दोनों पक्षों के बीच विवादों को निपटाने के लिए :,

मघरेब सलाहकार चैंबर: देश के प्रति 30 सांसदों के साथ

मंत्रिस्तरीय विशेष समितियां: गृह मंत्रियों की परिषद, मानव संसाधन, आधारभूत संरचना, अर्थव्यवस्था और वित्त और खाद्य सुरक्षा।

प्रधान सचिवालयः यह स्थायी रूप से रबात में 1992 में स्थापित किया गया था| इसका अमेरिका 1|7 लाख डॉलर का वार्षिक बजट है (सदस्य देशों के समान शर्तों पर योगदान)

अरब मघरेब संघ (एएमयू) परामर्श, समन्वय और अरब दुनिया के विकासात्मक दृष्टिकोण, रणनीति और क्षमता विकास पर ध्यान, सहायता प्रभावशीलता और दक्षिण-दक्षिण सहयोग पर केंद्रित नीतियों के लिए एक आम आवाज लाता है। विकास की प्रभावशीलता उसका परिणाम प्राप्त करने की क्षमता लोगों के जीवन और समाज पर एक स्थायी रास्ते में सकारात्मक प्रभाव लाएं, उनकी क्षमताओं को मजबूत करें ताकि वे अपनी भलाई कर सकें और विकास के लिए जो अलग नीतियां हैं उनको आपस में जोड़ने के लिए मजबूती देना है |