Search

आखिर कौन है भारत का “फोरेस्ट मैन”?

भारत मे पूर्वोत्तर के मुख्य द्धार कहे जाने वाले असम के जोरहट मे ब्रह्रपुत्र के किनारे पर बसे गांव मे जन्मे जादव मोलाई पियांग ने प्रकृति की गोद मे रहकर प्रकृति प्रेम का अदभुत पाठ सीखा, जिसने उन्हे पशु-पक्षी तक के दर्द से रूबरू करा दिया। जादव ने ब्रह्रपुत्र के एक-एक वीरान टापू पर बीस- बीस बांस के पौधे लगाकर 1350 एकड़ से भी ज्यादा का जंगल अर्थात लगभग 550 हेक्टेयर वनक्षेत्र विकसित कर लिया है |
Jul 25, 2016 19:17 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

भारत को यूँ तो विश्व में एक ऐसे स्थान के रूप में देखा जाता है जहाँ अद्धितीय करतब करने वाले अनगिनत पाए जाते है। विशेष करतब कर दिखाने वाले विशेष लोगो की जननी यह धरती, अति विशिष्ट और असंभव दिखने वाले कार्यों को कर दिखाने वाले साधारण लोगों के लिए भी उतनी ही प्रसिद्ध है। इन्हीं असाधारण कार्यो को संभव कर दिखाने वाले साधारण लोगो में एक नाम जादव मोलाई पियांग का भी आता है |

Jagranjosh

भारत मे पूर्वोत्तर के मुख्य द्धार कहे जाने वाले असम के जोरहट मे ब्रह्रपुत्र के किनारे पर बसे गांव मे से एक मे जन्मे जादव ने प्रकृति की गोद मे रहकर प्रकृति प्रेम का अदभुत पाठ सीखा जिसने उन्हे पशु-पक्षी तक के दर्द से रूबरू करके मानवतावादी बना दिया। जादव का बचपन जंगलो के निकट व्यतीत होने से उन्हे पशु-पक्षी एवं जीव-जन्तुओ से अदभुत प्रेम था। वर्तमान परिप्रेक्ष्य के आर्थिक युग मे वनों की घटती अवस्था ने वातावरण को अन्य जीवों के लिए प्रतिकूल कर दिया है, इसका अनुभव जादव ने अपनी किशोरावस्था मे ही कर लिया था। अपने आस-पास मे पक्षियों की घटती संख्या को देखकर उन्होने वन विभाग के अधिकारियों से थोड़ी मदद की अपील की और कुछ वृक्ष उगा देने की आग्रह की पर वहां से उन्हे निराशा ही प्राप्त हुई। यहाँ तक कि वन विभाग के लोगों ने कहा कि इस बंजर भूमि पर पेड़ नही उगाए जा सकते, हाँ तुम चाहो तो बांस लगाने का प्रयास कर सकते हो।

Jagranjosh

भारत में गंभीर रूप से संकटग्रस्त 10 पक्षी प्रजातियों की सूची

जादव की बाल हठ ने इस बात को पूरी शिद्दत से पकड़ लिया और कुछ समय पश्चात् ब्रह्रपुत्र के एक बंजर द्वीप पर बहुत सारे सांपो को मरा देख कर जादव दृढ़ निश्चय के साथ बिना किसी मदद के ‘तबे एकला चलो रे’ की तर्ज पर आगे एक अविश्वसनीय कार्य के लिए आगे बढे जो तकरीबन असंभव ही था। जादव ने अपने इस निश्चय की शुरुआत ब्रह्रपुत्र के एक-एक वीरान टापू पर बीस बांस के पौधे लगाकर की। लगातार तीस वर्षो तक जादव प्रतिदिन सुबह एक पौधा लगाते रहे और जब उन्हे लगा कि इनको पानी देना भी संभव नही होगा तो इसके लिए एक मिट्टी के घड़े मे पानी वृक्षों के पास टांग दिया करते ताकि बारीक छिद्रो से थोड़ा-थोड़ा पानी पौधो को प्राप्त होता रहे। 1980 मे वन विभाग की वृक्षारोपण परियोजना ने काम प्रारंभ किया जो पांच वर्षों मे पूर्ण हो गई और सभी लोग विदा हो गए लेकिन एक इंसान अपने दृढ़ निश्चिय के साथ अब भी वहीँ लगा रहा और आज 1350 एकड़ से भी ज्यादा का जंगल अर्थात लगभग 550 हेक्टेयर वनक्षेत्र विकसित करने वाले व्यक्ति जादव मोलाई पियोग अपने आप मे एक जीवित किंवदंती की तरह है। कमाल की बात यह है कि मुलाई जंगल न्यूयॉर्क के नेशनल पार्क से भी बड़ा है|

Jagranjosh

इनका प्रारंभिक समय बांस के पौधो के साथ प्रारंभ हुआ और तकरीबन 300 एकड़ सिर्फ बांस का ही जंगल विकसित है। आज जादव के द्धारा विकसित यह वन क्षेत्र मोलाई फारेस्ट के नाम से प्रचलित है और बहुप्रकार के जीवों और पक्षियों के लिए प्रसिद्ध है। जादव के चट्टानी मानसिकता को भारत सरकार द्धारा पदम श्री से सम्मानित किया गया तथा जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय एव भारतीय वन प्रबंधन विभाग ने भी इनका सम्मान किया है।

Jagranjosh

आज जादव अपने ही उगाए जंगल मे अपने परिवार के साथ एक कुटिया मे रहते है और गायों का दूध बेचकर जीवन-यापन करते है। प्राचीन काल मे ऋषि महर्षियो की कथा से भरपूर इस भारत भूमि ने इस युग मे एक ऐसे व्यक्ति को जन्म दिया है जिसका योगदान पूरे विश्व के लिए एक मिशाल है क्योकि इस अर्थयुग मे भी मोलाई जंगल से उत्पादित ऑक्सीजन की मात्रा सम्पूर्ण विश्व के लिए लाभदायक है |

शेर के मुंह जैसा बन्दर-मकाक (मकाका सिलेनस): तथ्यों पर एक नजर

भारतीय गिद्ध विलुप्त क्यों हो रहे हैं– एक संपूर्ण विश्लेषण