Search

उत्तर भारत के मैदान का संरचनात्मक विभाजन

उत्तर भारत का मैदान हिमालय और प्रायद्वीपीय भारत के मध्य स्थित एक लगभग समतल व उपजाऊ मैदान है|हिमालयी व प्रायद्वीपीय नदियों द्वारा लाये गए जलोढ़ के निक्षेपण से निर्मित यह मैदान भारत का सर्वाधिक उपजाऊ क्षेत्र है| संरचना और ढाल के आधार पर उत्तर भारत के मैदान को भाबर, तराई, खादर और बांगर में बाँटा जाता है|
Apr 27, 2016 15:20 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

उत्तर भारत का मैदान हिमालय और प्रायद्वीपीय भारत के मध्य स्थित एक लगभग समतल व उपजाऊ मैदान है|हिमालय से आने वाली नदियों (जैसे-गंगा,यमुना,कोसी,ब्रह्मपुत्र आदि) व प्रायद्वीप से आने वाली नदियों (जैसे-चंबल,सोन आदि) ने अपने साथ लाये गए जलोढ़ के निक्षेपण द्वारा इस मैदान को भारत का सर्वाधिक उपजाऊ क्षेत्र बना दिया है| संरचना और ढाल के आधार पर उत्तर भारत के मैदान को निम्नलिखित चार भागों में बाँटा जाता है:

  1. भाबर
  2. तराई
  3. खादर
  4. बांगर

Jagranjosh

Image Courtesy: wordpress.com

भाबर

यह शिवालिक के पर्वतपाद पर सिंधु से लेकर तीस्ता तक एक पट्टी के रूप में विस्तृत है| यह कंकरीला और पारगम्य मैदानी भाग है, जिसका निर्माण नदियों द्वारा लाये गए कंकड़ व अन्य पथरीले अवसादों के हिमालय से उतरते समय निक्षेपण से होता है, जिन्हें ‘जलोढ़ पंख’ या ‘जलोढ़ शंकु’ कहा जाता है| पहाड़ों से उतरती हुई नदियां इस क्षेत्र में आकर विलुप्त हो जाती हैं|

Jagranjosh

Image Courtesy: slidesharecdn.com

तराई

यह भाबर के दक्षिण में स्थित एक पट्टी है, जिसका निर्माण महीन बालू और कीचड़ से होता है| भाबर क्षेत्र में विलुप्त हुई नदियां यहाँ पुनः धरातल पर बहने लगती हैं|पूर्व में यह क्षेत्र घने वनों से ढका हुआ था लेकिन वर्तमान में उनका निर्वनीकरण हो गया है और यह क्षेत्र कृषि भूमि में बदल गया है|यह एक दलदली क्षेत्र होता है|

बांगर

यह पुरानी जलोढ़ मृदा से निर्मित मैदान है, जिसका विस्तार दो नदियों के बीच स्थित दोआब क्षेत्र में पाया जाता है| इसकी ऊँचाई  खादर की तुलना में अधिक होती है| ये बाढ़ के मैदानों से ऊपर स्थित होते हैं और खादर मैदान की तुलना में कम उपजाऊ होते हैं|

Jagranjosh

Image Courtesy: wikipedia.org

खादर

यह नवीन जलोढ़ मृदा से निर्मित मैदान है, जिसकी ऊँचाई बांगर से कम होती है| प्रत्येक वर्ष आने वाली बाढ़ के द्वारा लाये जलोढ़ अवसादों के निक्षेपण के कारण इसका नवीनीकरण होता रहता है| इसीलिए यह सर्वाधिक उपजाऊ क्षेत्र होता है| बिहार, पूर्वी उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल खादर क्षेत्र के अंतर्गत आते हैं|