Search

कृषि वित्त

कृषि वित्त ग्रामीण विकास एवं कृषि संबंधित गतिविधियों से जुड़े कार्यों के सम्पादन से सम्बंधित ऐसी वित्त व्यवस्था है जो उसके आपूर्ति, थोक, वितरण, प्रसंस्करण और विपणन के वित्तपोषण के लिए समर्पित एक विभाग के रूप में जाना जाता है.
Sep 1, 2014 17:50 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

कृषि वित्त ग्रामीण विकास एवं कृषि संबंधित गतिविधियों से जुड़े कार्यों के सम्पादन से सम्बंधित ऐसी वित्त व्यवस्था है जो उसके आपूर्ति, थोक, वितरण, प्रसंस्करण और विपणन के वित्तपोषण के लिए समर्पित एक विभाग के रूप में जाना जाता है.

किसानों की ऋण आवश्यकताओं को निम्नलिखित तथ्यों ले आधार पर निर्धारित किया जा सकता है:

• समय के आधार पर
• उद्देश्य के आधार पर

समय के आधार पर: समय के आधार पर किसानों की ऋण आवश्यकताओं को निम्न रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है:

• लघु अवधि
• मध्यम अवधि
• लंबे समय तक की अवधि के लिए ऋण

लघु अवधि के ऋण:

इस तरह के ऋण उर्वरक, बीज, कीटनाशकों और पशुओं के चारे आदि को खरीदने आदि के लिए दिया जाता है. साथ ही मजदूरों की मजदूरी के भुगतान, कृषि उपजों के विपणन एवं  उपभोग और अनुत्पादक उद्देश्यों एवं मजदूरी के भुगतान के लिए आवश्यक हैं. इन ऋणों के लिए अवधि 15 महीने से भी कम है.

किसानों की जरूरत एवं  उद्देश्य के आधार पर कृषि ऋण को तीन भागों में वर्गीकृत किया जा सकता है:

• उत्पादक आवश्यकता
• खपत की जरूरत
• अनुत्पादक आवश्यकता

उत्पादक आवश्यकता -

उत्पादक जरूरतों के सन्दर्भ की बात करें तो कृषि ऋण कृषि उत्पादन को गहरे तक प्रभावित करते हैं. कुछ किसानो की बात करें तो वे आदतन भी खपत के लिए ऋण की जरूरत महसूस करते हैं.. कृषि की बुवाई एवं उसके उपज और बाद में फसल की कटाई और उसके विपणन होने के मध्य इतनी अवधि का समय होता है की किसान अपनी तमाम जरूरतों को पूरा करने में अक्षम होते हैं. अतः वे अपनी तमाम जरूरतों को ही पूरा करने के लिए मजबूरन ऋण लेते हैं. अर्थात यदि कोई किसान ऋण लेता है तो कुछ किसानो को छोड़ दे तो अधिकांश किसानो के ऋण लेने की परंपरा गलत नहीं है.

कृषि वित्त से जुड़े स्रोत निम्नवत हैं:-

• गैर संस्थागत स्रोतों
• संस्थागत स्रोतों

गैर संस्थागत स्रोत हैं:

• साहूकार
• रिश्तेदार
• व्यापारी
• घूस लेने वाले एजेंट
• जमींदार

संस्थागत स्रोत:

• सहकारी बैंक
• अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक
• क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक

और जानने के लिए पढ़ें:

क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों की समस्याएं

वाणिज्यिक बैंकों का संचालन

कीटनाशक