Search

क्या आप ह्वेल मछलियों के बारे में ये बातें जानते हैं?

ह्वेल सीटेशीअ (cetacean) प्रजाति से ताल्लुक रखती हैं। इसमें ह्वेल, डॉल्फिन और पॉर्पस आते हैं। ह्वेल को दो उप–वर्गों में विभाजित किया जाता हैः बलीन और दांत वाली ह्वेल। बलीन ह्वेल में उसके उपरी जबड़े पर कंधी के जैसे झालर होते हैं, जिसे बलीन कहा जाता है। ह्वेल अपने आस–पास के माहौल का पता प्रतिध्वनि के वापस आने में लगने वाले समय (echolocation) के आधार पर लगाती हैं।
Jul 18, 2016 15:40 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

ह्वेल सीटेशीअ (cetacean) प्रजाति से ताल्लुक रखती हैं। इसमें ह्वेल, डॉल्फिन और पॉर्पस आते हैं। ह्वेल को दो उप–वर्गों में विभाजित किया जाता हैः बलीन और दांत वाली ह्वेल। बलीन ह्वेल में उसके उपरी जबड़े पर कंधी के जैसे झालर होते हैं, जिसे बलीन कहा जाता है, इसे प्लैंकटन के साथ–साथ छोटी मछलियों को फिल्टर करने के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है। दांत वाली ह्वेल्स में दांत होते हैं और मछलियों, अन्य ह्वेलों और समुद्री स्तनधारियों का शिकार करते हैं। ये अपने आस–पास के माहौल का पता प्रतिध्वनि के वापस आने में लगने वाले समय (echolocation) के आधार पर लगाती हैं।

और भी रोचक लेखों को पढने के लिए नीचे क्लिक करें...

केवलादेव घाना राष्ट्रीय पार्क : प्रवासी साईबेरियन सारसों का घर

ह्वेल की तस्वीरें–

Jagranjosh

Jagranjosh

ह्वेल की शरीरिक– रचना:

Jagranjosh

ह्वेल्स के बारे में तथ्यः

लंबाई: अलग– अलग; 110 फीट तक
वजनः अलग– अलग; 150 टन तक
जीवनकाल : आमतौर पर 20-40 वर्ष, लेकिन ये 80 वर्षों तक जीवित रह सकते हैं। अलग– अलग प्रजातियों के लिए यह अलग– अलग होता है।

अन्य स्तनधारियों की ही तरह ह्वेल फेफड़ों से सांस लेती हैं, गर्म खून की, अपने शिशुओं को दूध पिलाती हैं और इनके कुछ बाल ( हालांकि बहुत ही छोटे) होते हैं। इनका शरीर, एक मछली के सुव्यवस्थित रूप जैसा होता है जबकि आगे के हाथ या फ्लिपर्स चप्पू के आकार के होते हैं। पूंछ पंख या लंगर के तिकोने नुकीले हिस्से की तरह होता है, जो पानी में ह्वेल को आगे की तरफ ले जाने में मदद करता है। ह्वेल की ज्यादातर प्रजातियों में उनकी पीठ पर पंख होते हैं जिन्हें डोर्सल फिन (पृष्ठीय पंख) कहते हैं।

इसे भी पढ़ें...

अजंता की गुफाएँ : भारतीय चित्रकला का विश्व विरासत स्थल

क्या आप जानते हैं…..

ह्वेल स्तनधारी होती हैं और इसलिए उनके बाल भी होते हैं, हालांकि वे काफी छोटे होते हैं।

त्वचा के नीचे वसा की एक परत होती है जिसे ब्लबर कहते हैं। यह ऊर्जा भंडार और तापावरोधन दोनो ही की तरह काम करता है। ह्वेल वायु–छिद्र (blowholes) के माध्यम से सांस लेती हैं, ये सिर के उपरी हिस्से में बना होता है ताकि ये पानी में जलमग्न रह सकें। बलीन ह्वेल्स की दो वायु–छिद्र (blowholes) होती हैं जबकि दांत वाली ह्वेल की एक।

व्यवहार

कई ह्वेल मछलियां खास कर बलीन ह्वेल्स, प्रत्येक वर्ष अपने ठंडे–पानी के आहार स्थान से गर्म– पानी वाले प्रजनन स्थान पर जाने के लिए लंबी दूरी तय करती हैं। अपने वार्षिक प्रवास के दौरान ये अकेली या समूहों में यात्रा करती हैं। दांत वाली ह्वेल मछलियां अक्सर समूहों में शिकार करती हैं, एक साथ प्रवास पर निकलती हैं और शिशु– पालन दायित्वों को साझा करती हैं।

निवास स्थान

ह्वेल दुनिया के सभी महासागरों में रहती हैं हालांकि प्रजातियों के आधार पर इनकी विशेष रेंज बदलती है।

आहार

ह्वेल्स का आहार उनकी प्रजाति पर आधारित होता है, यह माइक्रोस्कोप से देखे जा सकने वाले प्लैंकटन से लेकर बड़े समुद्री स्तनधारी तक को खातीं हैं।

संचार

मुख्य लेखः (Whale vocalization)

ह्वेल का स्वरोच्चारण कई उद्देश्यों की पूर्ति करता है। कुछ प्रजातियां, जैसे हंपबैक ह्वेल, मधुर ध्वनियों का प्रयोग कर आपस में बातचीत करती हैं, इसे ह्वेल गीत कहते हैं। यह ध्वनियां प्रजाति के अनुसार बहुत तेज भी हो सकती हैं। हंपबैंक ह्वेल की ध्वनि बहुत गौर से सुनने पर ही सुनाई देती हैं जबकि दांत वाले ह्वेल सोनार का प्रयोग करती है जो ध्वनि का 20,000 वाट (+73 dBm or +43 dBw) तक उत्पन्न कर सकती है और यह कई मील दूर से ही सुना जा सकता है।

ह्वेल की ध्वनियों का उद्देश्य

माना जाता है कि हंपबैक ह्वेल (और कुछ ब्लू ह्वेल्स) द्वारा पैदा की जाने वाली जटिल ध्वनियां मुख्य रूप से यौन चयन में इस्तेमाल की जाती है। दांत वाली ह्वेल्स वस्तु के आकार और प्रकृति की पहचान करने के लिए प्रतिध्वनि के वापस आने में लगने वाले समय (echolocation) से कर लेती हैं, यह बलीन ह्वेलों में कभी नहीं पाया गया है।

क्या आप जानते हैं?

ब्लू ह्वेल अब तक प्राप्त जानकारी के अनुसार जीवित रहने वाली सबसे बड़ी स्तनधारी होती है और यह सबसे बड़ी जीवित पशु भी है। यह 110 फीट तक लंबी हो सकती है और इसका वजन 150 टन तक हो सकता है।

ज्यादातर ह्वेल्स पानी में बेहद सक्रिए होती हैं। ये पानी से उपर निकली है, ऊंची छलांग लगाती हैं और फिर वापस पानी में चली जाती हैं। ये अपनी पूंछ को भी पानी से बाहर निकालती है और उसे पानी की सतह पर जोर से पटकती हैं। माना जाता है कि ऐसा वे आस–पास मौजूद खतरे की चेतावनी देने के लिए करती हैं। ह्वेल्स एक दूसरे से बातचीत करने के लिए संवादात्मक ध्वनियों का प्रयोग करती हैं।

पानी की सतह पर आकर ह्वेल सांस लेती हैं। ये सतर्क ब्रीदर्स होती हैं यानि ये इस बात का फैसला कर सकती हैं कि उन्हें कब सांस लेना है। सभी स्तनधारी सोते हैं, ह्वेल्स भी सोती हैं लेकिन ये काफी लंबे समय के लिए कभी नहीं सोतीं।

प्रजननः

संभोग का मौसमः प्रजातियों के आधार पर निर्भर करता है।
गर्भावस्था: 9-15 माह, प्रजाति के आधार पर।
संतानों की संख्या: 1
नर्सिंग का समय अधिक (कई प्रजातियों के लिए एक वर्ष से अधिक) होता है, जो माता एवं शिशु के बीच मजबूत संबंध से जुड़ा है।

ह्वेल्स के लिए खतरे

जलवायु परिवर्तन ने समुद्री जीवों के जीवन को भी प्रभावित किया है और ह्वेल इसका अपवाद नहीं हैं। समुद्र के स्तर में बढ़ोतरी इन्हें अधिक कमजोर बना देगी। जलवायु परिवर्तन की वजह से आर्कटिक और अंटार्कटिक की ह्वेलों के निवास स्थान को खास खतरे का सामना करना होगा। ह्वेल के खाद्य संसाधनों को भी चुनौतियों का सामना करना होगा जैसे क्रिल की जनसंख्या में गिरावट। ह्वेल की कई बड़ी प्रजातियों का भोजन है क्रिल।

ह्वेल के बारे में प्रश्न और उत्तरः

प्र.1. सबसे बड़ी ह्वेल कौन है?

उ. पृथ्वी पर जीवनयापन करने वाली सबसे बड़ी पशु है ब्लू ह्वेल, यह किसी भी डायनासोर से भी बड़ी होती है।

सबसे बड़ी ब्लू ह्वेल एक मादा थी जो अंटार्कटिक महासागर में रहती थी। यह 30.5 मी लंबी ( डबल डेकर बस की लंबाई से 3.5 गुना से भी अधिक और बोइंग 737 विमान जितनी लंबी) थी। इसका वजन करीब 144 टन ( करीब 2,000 पुरुषों के वजन जितना) था। ब्लू ह्वेल की सिर्फ जीभ का वजन ही एक हाथी के वजन जितना हो सकता है और फुटबॉल की एक पूरी टीम इस पर खड़ी हो सकती है। ब्लू ह्वेल के हृदय का आकार करीब VW बीटल कार जितना होता है और इसका वजन 450 किलोग्राम तक हो सकता है।

प्र.2. ब्लू ह्वेल का शिशु कितना बड़ा होता है?

. ब्लू ह्वेल 10-12 माह तक गर्भवती रहती हैं। नवजात शिशु करीब 7.5 मी लंबा होता है और उसका वजन करीब 5.5 – 7.3 टन होता है। शिशु ब्लू ह्वेल एक दिन में अपनी माता का करीब 225 लीटर (एक टैंक को भरने के लिए पर्याप्त) चर्बी–युक्त दूध (इसमें 40-50% चर्बी होती है) पीता है, एक घंटे में करीब 3.7 किलोग्राम वजन बढ़ता है, आठ माह की उम्र तक यह 15 मीटर लंबा और 22.5 टन वजनी हो जाता है। शिशु और माता एक वर्ष या उससे अधिक समय तक साथ रह सकते हैं, (शिशु के 13 मी. लंबे होने तक)। ब्लू ह्वेल 10-15 वर्षों में व्यस्क हो जाती हैं।

प्र.3. कौन सी ह्वेल सबसे गहरा गोता लगाने वाली होती है?

उ. कुवियर जैसी चोंचवाली ह्वेल को 2 घंटे तक 3 किलोमीटर की गहराई तक गोता लगाते रिकॉर्ड किया गया है।

स्पर्म ह्वेल भी बहुत अच्छी गोताखोर होती हैं। व्यस्क करीब दो घंटों तक पानी के भीतर रह सकती हैं और 2,000 मीटर या इससे अधिक गहराई तक गोता लगा सकती हैं। ये स्क्विड खाते हैं, जो समुद्र की गराई में पाए जाते हैं इसलिए इन्हें पकड़ने के लिए स्पर्म ह्वेल्स को समुद्र में बहुत गहराई तक गोता लगाना होता है।

प्र.4.  किस ह्वेल का दिमाग सबसे बड़ा होता है?

उ. स्पर्म ह्वेल का सिर बहुत बड़ा होता है। यह उसके शरीर की लंबाई के एक तिहाई जितना हो सकता है। पशु जगत में सबसे भारी दिमाग इसी का होता है– 9 किलोग्राम तक।

प्र.5. कौन सी ह्वेल सबसे तेज ध्वनि पैदा करती है?

उ. बेलुगा ह्वेल को "समुद्र की कनारी चिड़िया (canaries of the sea)" के नाम से जाना जाता है क्योंकि ये छोटी पीली पक्षियों की तरह चहकती/ध्वनि पैदा करती हैं।

ब्लू ह्वेल्स पृथ्वी पर सबसे तेज ध्वनि पैदा करती हैं। इनकी ध्वनि की तीव्रता 188 डेसिबेल्स तक पहुंच जाती है और इसे सैंकड़ों मील दूर से भी सुना जा सकता है। ब्लू ह्वेल की ध्वनि जेट विमान, (जिसकी ध्वनि सिर्फ 140 डेसिबेल तक ही पहुंच पाती है) से भी तेज होती है। हम जानते हैं कि मनुष्य के कानों के लिए 120-130 डेसिबेल से उपर की ध्वनि दर्दनाक होती है।

पर्यावरण और पारिस्थितिकीय पर क्विज हल करने के लिए यहाँ क्लिक करें