Search

छत्रपति शिवाजी टर्मिनस ( भूतपूर्व विक्टोरिया टर्मिनस): तथ्यों पर एक नजर

छत्रपति शिवाजी टर्मिनस (इसे पहले विक्टोरिया टर्मिनस स्टेशन के नाम से जाना जाता था) मुंबई में है और भारत में विक्टोरियन वास्तुकला का उत्कृष्ट उदारहण है। इस भवन का डिजाइन ब्रिटिश शिल्पकार एफ. डब्ल्यू. स्टीवेंस ने बनाया था| वर्ष 1878 में इसका निर्माण कार्य शुरु हुआ था और दस वर्षों के बाद यह बनकर तैयार हुआ। यह इस उपमहाद्वीप का पहला टर्मिनस स्टेशन था।
Aug 9, 2016 12:38 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

छत्रपति शिवाजी टर्मिनस, इसे पहले विक्टोरिया टर्मिनस स्टेशन के नाम से जाना जाता था, मुंबई में है और भारत में विक्टोरियन गॉथिक वास्तुकला का उत्कृष्ट उदारहण है। इस भवन का डिजाइन ब्रिटिश शिल्पकार एफ. डब्ल्यू. स्टीवेंस ने बनाया था, इसने बॉम्बे को 'गॉथिक सिटी' का प्रतीक बनाया। बॉम्बे भारत का प्रमुख अंतरराष्ट्रीय व्यापारिक बंदरगाह भी था। रोजाना 30 लाख से अधिक यात्री इस रेलवे स्टेशन का इस्तेमाल करते हैं। वर्ष 1878 में इसका निर्माण कार्य शुरु हुआ था और दस वर्षों के बाद यह बनकर तैयार हुआ। यह इस उपमहाद्वीप का पहला टर्मिनस स्टेशन था।

विश्व विरासत स्थल

छत्रपति शिवाजी टर्मिनस की तस्वीरः

Jagranjosh

Image source: www.thousandwonders.net

भारतीय नृत्य कला

तथ्यों पर एक नजरः

  1. पत्थरों से बने इसके गुंबद, बुर्ज, नुकीले मेहराब और उत्केंद्रित भू–योजना परंपरागत भारतीय महल वास्तुकला के काफी करीब हैं।
  2. यह दो संस्कृतियों (ब्रिटिश और भारतीय वास्तुकला) के मेल का अद्भुत उदाहरण है।
  3. 21 अप्रैल, 1997 को महाराष्ट्र राज्य सरकार अधिनियम के संकल्प के तहत इसे ' विरासत ग्रेड-1' संरचना घोषित किया गया था।
  4. इसके सभी कानूनी अधिकार भारत सरकार के रेल मंत्रालय के पास हैं।
  5. मुंबई, भारत का पहला शहर है जहां विरासत कानून है। इस कानून को 1995 में सरकारी विनियमन द्वारा अधिनियमित किया गया था।
  6. पूरे शहर में 624 सूचिबद्ध भवन है, जिनमें से 63 भवनों को ग्रेड–1 संरचना का खिताब दिया गया है। टर्मिनस का भवन इन्हीं भवनों में से एक है।
  7. भारत सरकार, टर्मिनस स्टेशन के प्रबंधन के लिए धन उपलब्ध कराती है।
  8. छत्रपति शिवाजी टर्मिनस (भूतपूर्व विक्टोरिया टर्मिनस) के प्रवेश द्वार पर दो स्तंभ हैं, एक पर शेर (यूनाइटेड किंगडम का प्रतिनिधित्व दर्शाता है) और दूसरे पर बाघ (भारत का प्रतिनिधित्व दर्शाता है) बना हुआ है। यहां अभिव्यक्ति करते मोर भी बने हैं।
  9. इसका निर्माण सफेद चूना पत्थर से किया गया है। दरवाजे और खिड़कियां बर्मा सागौन लकड़ियों से बनी हैं। कुछ खिड़कियां इस्पात की भी बनी लगी हैं।
  10. भवन का परिसर सख्त संरक्षित इलाका है जिसका रख– रखाव भारतीय रेलवे करती है।
  11. यह संपत्ति (शिवाजी टर्मिनस) 90.21 हेक्टेयर के बफर जोन से संरक्षित है।
  12. यह टर्मिनस मुंबई के प्रमुख रेलवे स्टेशनों में से एक है।
  13. 2 जुलाई, 2004 को इस स्टेशन को यूनेस्को की विश्व धरोहर समिति द्वारा ‘विश्व धरोहर स्थल’ घोषित किया गया था।
  14. यह इस उपमहाद्वीप का पहला टर्मिनस स्टेशन था।
  15. आंकड़ों के अनुसार यह स्टेशन ताजमहल के बाद; भारत का सर्वाधिक छायाचित्रित स्मारक है।

जानें भारत की 10 सबसे तेज गति की ट्रेन कौन सी हैं?

 रावण के बारे में 10 आश्चर्यजनक तथ्य