Search

जानें विश्व की 10 सबसे महंगी किताबें कौन सी हैं

किताबों से मनुष्य का रिश्ता सभ्यता के शुरुआत से ही रहा है | इन किताबों की मदद से ही हम कई सभ्यताओं के उत्थान और पतन के बारे में जान पाते हैं और एक पीढ़ी का ज्ञान दूसरी पीढ़ियों तक आसानी से पहुंचा पाते हैं | प्रस्तुत लेख में हमने विश्व की उन किताबों के बारे में जानकारी दी है जो अपनी किसी खास विशेषता के कारण बहुत ही कीमती हो गयी हैं |
Aug 23, 2016 18:03 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

किताबों से मनुष्य का रिश्ता सभ्यता के शुरुआत से ही रहा है | इन किताबों की मदद से ही हम कई सभ्यताओं के उत्थान और पतन के बारे में जान पाते हैं और एक पीढ़ी का ज्ञान दूसरी पीढ़ियों तक आसानी से पहुंचा पाते हैं | प्रस्तुत लेख में हमने विश्व की उन किताबों के बारे में जानकारी दी है जो अपनी किसी खास विशेषता के कारण बहुत ही कीमती हो गयी हैं |

विश्व की 10 सबसे महंगी किताबों के नाम इस प्रकार हैं:-

1. पुस्तक शीर्षक – कोडेक्स लीसेस्टर (Codex Leicester)

लेखक – लियोनार्दो दा विन्ची
देश – फ्लोरेंस, इटली
भाषा – इतालवी
प्रकाशन का वर्ष – 1510 (1504–1508) A.D.
मूल्य – 30.80 मिलियन डॉलर

मुख्य तथ्य – इस छोटी सी मूल्यवान पुस्तक में लियोनार्दो दा विन्ची के वैज्ञानिक लेखों का एक संग्रह है जिसे थामर कोक ने 1719 में खरीदा और बिल गेट्स को 1994 में बेच दिया। इस विशिष्ट पुस्तक की मुख्य प्रति 30,802,500 अमेरिकी डॉलर में बिकी थी।

Jagranjosh

Image source:blog.paperblanks.com

2॰ पुस्तक शीर्षक – मैग्ना कार्टा (एक्सम्पलर) (Magna Carta (Exemplar)

लेखक – जॉन (किंग ऑफ इंग्लैंड) और स्टीफन लैग्टन
देश – ब्रिटिश पुस्तकालय तथा लिंकन और सेलिसबरी कैथेड्रल
भाषा – लैटिन
प्रकाशन का वर्ष – 1215 A.D.
मूल्य – 21.3 मिलियन डॉलर

मुख्य तथ्य – 1297 की मैग्ना कार्टा की मुख्य प्रति को डेविड रूबेंस्टेन ने दिसम्बर 2007 में 21,300,000 अमेरिकी डॉलर में साउथ बाई, न्यूयार्क में खरीदा था ।

Jagranjosh

Image source:www.christies.com

3॰ पुस्तक शीर्षक – सेन्ट कथबर्ट गोस्पेल (St Cuthbert Gospel)

लेखक – अज्ञात
देश – इंग्लैंड
भाषा – लैटिन
प्रकाशन – आठवीं सदी
मूल्य – 14.3 मिलियन अमेरिकी डॉलर

मुख्य तथ्य – यह पुस्तक बनने का पहला उदाहरण तथा सबसे छोटी आंग्ल–सैक्सन हस्तलिपि है । यह आठवीं शताब्दी की पुस्तक है, जिसका लेखक अज्ञात है| इसे ब्रिटेन के पुस्तकालय ने 14,300,000 अमेरिकी डॉलर (9,156,764 ब्रिटिश पाउंड) में अप्रैल, 2012 में खरीदा था।

Jagranjosh

Image source:commons.wikimedia.org

भारत की धार्मिक महत्व वाली पांच नदियां

4॰ पुस्तक शीर्षक – वेय साल्म पुस्तक (Bay Psalm Book)

लेखक – अज्ञात
देश – ब्रिटेन नियंत्रित उत्तरी अमेरिका
भाषा – अंग्रेजी
प्रकाशन का वर्ष – 1640 A.D.
मूल्य – 14.2 मिलियन अमेरिकी डॉलर

मुख्य तथ्य – संयुक्त राज्य अमेरिका में यह पहली छपी हुई पुस्तक थी| इस पुस्तक को स्टीफन डे प्रकाशन द्वारा प्रकाशित किया गया था। इस पुस्तक की ग्यारह प्रतियां उपलब्ध हैं जिनमें से पांच प्रतियां पूर्ण हैं।

Jagranjosh

Image source:most–expensive.com

आजादी के बाद भारत की 10 महत्वपूर्ण उपलब्धियां

5॰ पुस्तक शीर्षक – रोथ्सचाइल्ड प्रार्थना पुस्तक (Rothschild Prayerbook)

लेखक – अज्ञात
देश – विएना (आस्ट्रिया)
भाषा – जर्मन
प्रकाशन – 1500 – 1520 A.D.
मूल्य – 13.4 मिलियन अमेरिकी डॉलर

मुख्य तथ्य – 1500–1520 के बीच कलाकारों के एक समूह द्वारा लिखी गयी एक फ्लेमिश प्रबुद्ध हस्तलिपि है जिसे 2014 में 13,600,000 अमेरिकी डालर (8,708,347 पाउंड) में बेचा गया। यह मूल्य विश्व में किसी प्रबुद्ध लिपि (illuminated manuscript) के लिए अधिकतम है।

Jagranjosh

Image source:www.thecourier.com.au

6॰ पुस्तक शीर्षक – गॉस्पेल ऑफ हेनरी द लायन (Gospels of Henry the Lion)

लेखक – ऑर्डर ऑफ सेंट बेनेडिक्ट
देश – जर्मनी
भाषा – लैटिन
प्रकाशन – 1175 A.D.
मूल्य – 11.7 मिलियन अमेरिकी डॉलर

मुख्य तथ्य – इस पुस्तक को बर्नसाविक कैथेड्रल में विर्जिन मैरी के दरबार में ‘सैक्सानी के ड्यूक’ के लिए बारहवीं सदी में लिखा गया। दिसम्बर 1983 में जर्मन सरकार ने इस रोमन प्रबुद्ध हस्तलिपि को 11,700,000 अमेरिकी डालर में खरीदा।

Jagranjosh

Image source:onceiwasacleverboy.blogspot.com

7॰ पुस्तक शीर्षक – द बर्डस ऑफ अमेरिका (The Birds of America)

लेखक – जॉन जेम्स ओडोबन
देश – यूनाइटेड किंगडम
भाषा – अंग्रेजी
प्रकाशन – 1827 – 1838 A.D.
मूल्य – 11.5 मिलियन अमेरिकी डॉलर

मुख्य तथ्य – यह पुस्तक अमेरिका के जाने माने कलाकार तथा प्रकृतिविद जान जेम्स ओडोबन द्वारा 1827 तथा 1838 के बीच अमेरिका के पक्षियों के बारे में जानकारी के बारे में लिखी गई है। इस पुस्तक की पूर्ण प्रति को लंदन के साउथबाई में दिसम्बर 2010 में 11,500,000 अमेरिकी डालर में खरीदा गया। माइकल टालमैक ने इस पुस्तक के लिए अंतिम बोली लगाई।

Jagranjosh

Image source:en.wikipedia.org

मुम्बई को भारत की आर्थिक राजधानी क्यों कहा जाता है ?

8॰ पुस्तक शीर्षक : द कैंटरबरी टेल्स (The Canterbury Tales)

लेखक – जैफरे चाउसर
देश – इंग्लैंड
भाषा – मध्य अंग्रेजी
प्रकाशन – 1478 A.D.
मूल्य – 7.5 मिलियन अमेरिकी डॉलर

मुख्य तथ्य – इस 15वीं शताब्दी की पुस्तक का पहला संस्करण 7,500,000 अमेरिकी डालर में (4,802,397 पाउंड) में जुलाई 1998 में बेचा गया। 1477 के विलियम कैक्स्टन प्रतियों में से केवल दर्जन भर ही शेष हैं। यह प्रति मैग्स ब्रदर्स (लंदन बुक डीलर्स) ने खरीदी।

Jagranjosh

Image source:www.haikudeck.com

9॰ पुस्तक शीर्षक – मिस्टर विलियम शेक्सपीयर्स, कामेडीस, हिस्ट्रीज एंड ट्रैजडी (Mr. William Shakespeares Comedies, Histories & Tragedies)

लेखक – विलियम शेक्सपीयर्स
देश – इंग्लैंड
भाषा – प्रारंभिक आधुनिक अंग्रेजी
प्रकाशन – 1623 A.D.
मूल्य – 6.1 मिलियन अमेरिकी डॉलर

मुख्य तथ्य – लगभग 36 नाटकों सहित विलियम शेक्सपीयर के सहकर्मियों हेनरी कोन्डेल तथा जान हैमिन्गेस द्वारा संग्रहित की गई यह पुस्तक लगभग 20 लिखित नाटकों का जीवित साक्ष्य है। इसे 1623 में प्रकाशित किया गया। 2001 में क्रिस्टी से यह प्रति माइक्रोसाफ्ट के सह – संस्थापक पॉल एलेन ने 6,100,000 अमेरिकी डालर में (3,905,949 पाउंड) में खरीदी। यह प्रति 220 प्रतियों में से एक है और 40 पूर्ण प्रतियों में से एक पूर्ण प्रति है।

Jagranjosh

Image source:history1726.rssing.com

10॰ पुस्तक शीर्षक – गुटेनबर्ग बाइबल (Gutenberg Bible)

लेखक – पीयरे जोसेफ रिडाउट
देश – जर्मनी
भाषा – लैटिन
प्रकाशन – 1450 – 1455 A.D.
मूल्य – 4.9 मिलियन अमेरिकी डॉलर

मुख्य तथ्य – पश्चिम में छापी गई यह पहली पुस्तक थी जिससे छपी हुई पुस्तकों का प्रारंभ हुआ तथा गुटेनबर्ग क्रांति का जन्म हुआ|

Jagranjosh

Image source:library.unimelb.edu.au

क्या आप दुनिया के 10 सबसे पुराने पेड़ों के बारे में जानते हैं?

जहाँगीर ने ऐसा ना किया होता तो भारत अंग्रेजों का गुलाम कभी ना बनता