Search

दुनिया के ऐसे देश जहाँ भारतीयों के लिए किसी वीज़ा की जरुरत नहीं है|

वीजा (लैटिन शब्द कार्टा वीजा से लिया गया है जिसका शाब्दिक अर्थ होता है 'वह कागज जो देखा गया हो'। वीजा इंगित करता है कि अमुक व्यक्ति वीजा जारी करने वाले देश में प्रवेश के लिए अधिकृत है | अर्थात वीजा वह दस्तावेज होता है जो किसी व्यक्ति को अन्य देश में प्रवेश करने की अनुमति देता है।
Aug 24, 2016 12:41 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

वीजा (लैटिन शब्द कार्टा वीजा से लिया गया है जिसका शाब्दिक अर्थ होता है 'वह कागज जो देखा गया हो'। वीजा यह बताता है कि अमुक व्यक्ति वीजा जारी करने वाले देश में प्रवेश के लिए अधिकृत है | अर्थात वीजा वह दस्तावेज होता है जो किसी व्यक्ति को अन्य देशों में प्रवेश करने की अनुमति देता है। किसी देश में प्रवेश करने के लिए वीजा की शुरुआत प्रथम विश्वयुद्ध के बाद हई ।

सामान्य तौर पर वीजा एक व्यक्ति को एक देश में प्रवेश करने और वहाँ रहने के अलावा और कोई अधिकार नहीं देता है।

दरअसल दूसरे देशों में जाने के लिए इस तरह के वीजा की जरुरत इस कारण से पड़ती है क्योंकि बाहरी लोगों का आगमन, प्रवेश देने वाले देश की अर्थव्यवस्था, सुरक्षा, संस्कृति आदि को प्रभावित करता है |

हर देश अपनी सहूलियत के हिसाब से अलग-अलग प्रकार का वीजा जारी करता है। उदाहरण के लिए भारत में 11तरह के वीजा जारी किए जाते हैं, जैसे टूरिस्ट, बिजनेस, जर्नलिस्ट, ट्रांसिट, एंट्री आदि। एंट्री वीजा भारतीय मूल के व्यक्ति को भारत आने के समय दिया जाता है। भारत फिनलैंड, जापान, लग्जमबर्ग, न्यूजीलैंड और सिंगापुर के नागरिकों को 'पर्यटक वीजा' जारी करता है।

ग्लोबल फाइनेंस एडवाइजरी फर्म अर्टन कैप्टिल ने हाल ही में एक रिपोर्ट जारी कर उन देशों की लिस्टिंग की है, जिनके पासपोर्ट सबसे पावरफुल हैं। ऐसे देश दूसरे देशों में बिना वीजा के अपने नागरिकों को घूमने की इजाजत देते हैं। इनमें सबसे पावरफुल पासपोर्ट स्वीडन का है, जो अपने नागरिकों को 174 देशों में बिना वीजा के ट्रैवल करने की इजाजत देता है | भारत के पासपोर्ट धारक 57 देशों में बिना वीजा के प्रवेश पा सकते हैं |

वीजा कितने प्रकार का होता हैं ?:

ट्रांजिट वीज़ा : यह वीज़ा ज्यादा से ज्यादा पांच दिनों के लिए वैलिड होता है।
टूरिस्ट वीज़ा : यह वीज़ा सिर्फ घूमने-फिरने के लिए जारी किया जाता है।
बिजनेस वीज़ा : किसी दूसरे देश में बिजनेस ऐक्टिविटीज में हिस्सा लेने के लिए यह वीज़ा दिया जाता है।
ऑन-अराइवल वीज़ा : यह किसी देश में एंट्री के वक्त तुरंत जारी किया जाता है। हालांकि इसके लिए पहले से वीज़ा होना भी जरूरी है |
पार्टनर वीज़ा : दूसरे देश में रहने वाला कोई शख्स अगर अपने जीवनसाथी को अपने पास बुलाना चाहता है |
स्टूडेंट वीज़ा : यह वीजा किसी देश में हायर स्टडीज के लिए दिया जाता है।
वर्किंग हॉलिडे वीज़ा : यह उन लोगों के लिए होता है जिन्हें कंपनी या ऑर्गनाइजेशन की तरफ से वर्किंग हॉलिडे प्रोग्राम के लिए किसी दूसरे देश भेजा जाता है।
डिप्लोमैटिक वीज़ा : यह वीज़ा सिर्फ राजनयिकों के लिए होता है।
कोर्टेज़ी वीज़ा : विदेशी सरकार या इंटरनैशनल ऑर्गनाइजेशनों के ऐसे अधिकारियों को यह वीज़ा दिया जाता है |
जर्नलिस्ट वीज़ा : न्यूज ऑर्गनाइजेशनों से जुड़े लोग इसी वीज़ा के जरिए एक देश से दूसरे देश में ट्रैवल करते हैं।
मैरिज वीज़ा : यह वीज़ा एक निश्चित समय के लिए जारी किया जाता है |
इमिग्रेंट वीज़ा : यह उस कंडिशन में दिया जाता है जब कोई शख्स किसी दूसरे देश में बसना चाहता है।
पेंशन वीज़ा (या रिटायरमेंट वीज़ा) : इस तरह का वीज़ा ऑस्ट्रेलिया और कुछ गिने-चुने देश ही जारी करते हैं। यह उन लोगों को ही दिया जाता है जिनका मकसद दूसरे देश में जाकर किसी तरह पैसा कमाने का नहीं होता।

(भारत द्वारा जारी किये गए वीजा की एक प्रति)

Jagranjosh

Image source:www.rathburn.net

आजादी के बाद भारत की 10 महत्वपूर्ण उपलब्धियां

उन देशों की सूची जहाँ भारतीय पासपोर्ट धारक ‘बिना वीजा के’ या ‘आगमन पर वीजा’ नामक सुविधा का लाभ उठाकर आ जा सकते हैं, नीचे दी गयी है |

इन देशों में जाने के लिए भारतीयों को वीजा लेने की जरुरत नही है:-

1. भूटान
2. हॉगकॉग
3. दक्षिण कोरिया (जाजू)
4. मकाऊ
5. नेपाल
6. अंटार्कटिका
7. सेशेल्स
8. मैसेडोनिया
9. स्वालबार्ड
10.डोमिनिका
11. ग्रेनाडा
12. हैती
13. जमैका
14. मोंटसेराट
15. सेंट किट्स और नेविस
16. सेंट विंसेंट और ग्रेनेडाइंस
17. ट्रिनिडाड और टोबैगो
18. तुर्क और कैकोस द्वीप समूह
19. ब्रिटिश वर्जिन आइसलैण्ड्स
20. एल साल्वाडोर
21. इक्वेडोर
22. कुक द्वीपसमूह
23. फ़िजी
24. माइक्रोनेशिया
25. समोआ
26. वानुअतु
27. कंबोडिया
28. इंडोनेशिया
29. लाओस
30. थाईलैंड
31. तिमोर लेस्ते
32. ईराक (बसरा)
33. जॉर्डन
34. कोमोरोस है।
35. मालदीव
36. मॉरीशस
37. केप वर्दे
38. जिबूती
39. इथियोपिया
40. गाम्बिया
41. गिनी-बिसाऊ
42. केन्या
43. मेडागास्कर
44. मोजाम्बिक
45. साओ टोम और प्रिंसिपे
46. तंजानिया
47. जाना
48. युगांडा
49. जॉर्जिया
50. तजाकिस्तान
51. सेंट लुशिया
52. निकारागुआ
53. बोलीविया
54. गुयाना
55. नाउरू
56. पलाऊ
57. तुवालु

भारत दर्शन: फेसबुक और एप्पल का "कैंची धाम आश्रम (नैनीताल)”का दौरा- एक नजर

भारतीयों को इन देशों में मिलेगी ‘वीजा ऑन अराइवल (VISA on Arrival)’ की सुविधा:-

1. बोलीविया - 90 दिन
2. बुरुंडी -  30 दिन
3. कंबोडिया - 30 दिन
4. केप वर्दे
5. कोमोरोस
6. जिबूती
7. इथियोपिया
8. गिनी-बिसाऊ - 90 दिन
9. गुयाना - 30 दिन
10. इंडोनेशिया - 30 दिन
11. जॉर्डन - 2 सप्ताह (कम से कम 3000 डॉलर लाना चाहिये)
12. केन्या - 3 महीने
13. लाओस - 90 दिन
14. मेडागास्कर - 90 दिन
15. मालदीव - 90 दिन
16. नाउरू
17. पलाऊ - 30 दिन
18. सेंट लूसिया – 42 दिन
19. समोआ - 60 दिन
20. सेशेल्स - 30 दिन
21. सोमालिया -30 दिन
22. तंजानिया
23. थाईलैंड - 15 दिन
24. टोगो - 7 दिन
25. तुवालु - 30 दिन
26. युगांडा
27. सोमालीलैंड - 30 दिन
28. नियू - 30 दिन
29. तिमोर-लेस्ते - 30 दिन

भारत में वीजा प्राप्त करने की प्रक्रिया इस प्रकार है|

Jagranjosh

Image source:www.ctgbay.com

जानें विश्व की 10 सबसे महंगी किताबें कौन सी हैं

मुम्बई को भारत की आर्थिक राजधानी क्यों कहा जाता है?