Search

दुनिया के 8 अनोखे स्थान जहाँ आपका जाना प्रतिबंधित है

दुनिया में कई ऐसी जगहें हैं जो प्रतिबंधित है और आप वहाँ नहीं जा सकते हैं| कुछ जगह वहाँ के दुर्लभ जीव और वातावरण को बचाने के लिए प्रतिबंधित किये गये हैं तो कुछ जगह पर जाना इसलिए प्रतिबंधित है क्योंकि वहाँ गुप्त सैन्य संस्थान हैं या आपका वहाँ जाना जानलेवा हो सकता है|
Oct 21, 2016 18:59 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

मनुष्य स्वभावतः जिज्ञासु होता है| प्रत्येक व्यक्ति अलग-अलग जगहों पर जाकर उस जगह को देखना चाहते हैं| लेकिन दुनिया में कई ऐसी जगहें हैं जो प्रतिबंधित है और आप वहाँ नहीं जा सकते हैं| कुछ जगह वहाँ के दुर्लभ जीव और वातावरण को बचाने के लिए प्रतिबंधित किये गये हैं तो कुछ जगह पर जाना इसलिए प्रतिबंधित है क्योंकि वहाँ गुप्त सैन्य संस्थान हैं या आपका वहाँ जाना जानलेवा हो सकता है| आइये हम आपको दुनिया के ऐसे 8 जगहों के बारे में जानकारी दे रहे है जहाँ आपका जाना प्रतिबंधित है|

1. स्नेक आइलैंड

ब्राजील के शहर साउपोलो से लगभग 144 किमी. की दूरी पर अटलांटिक महासागर में “क्वेमाडा ग्रांदे” द्वीप स्थित है जिसे “स्नेक आइलैंड” के नाम से भी जाना जाता है| यह द्वीप दुनिया के सबसे जहरीले साँप “गोल्डन लेंसहेड” का घर है| 110 एकड़ में फैले इस द्वीप पर लगभग 4000 साँप रहते हैं| ये साँप इतने जहरीले हैं कि इनका जहर इन्सान के मांस को भी गला देता है|

ब्राजील ने जहाजों को इस द्वीप से दूर रखने के लिए 1909 में इस द्वीप पर एक लाईट हाउस बनवाया था | इस लाईट हाउस को एक परिवार चलाता था लेकिन 1920 में यह पूरा परिवार मृत पाया गया क्योंकि गोल्डन लेंसहेड इनके घर में घुस आया था| साँपों की भारी संख्या एवं घनत्व को देखते हुए यहाँ इन्सानों का रहना सुरक्षित नहीं माना गया और इस लाईट हाउस को पूरी तरह से स्वचालित कर दिया गया है| इस द्वीप के खतरे को देखते हुए ब्राजील की सरकार ने इस द्वीप पर जाने पर पाबंदी लगा दी है और ब्राजील की नेवी इस द्वीप के चारों ओर गश्त लगाती है| इस द्वीप पर ब्राजील की नेवी के अलावा सरकार से इजाजत मिलने पर जैव विविधता संरक्षण से जुड़े “चिको मेंडेस संस्थान” के कुछ चयनित शोधकर्ताओं ही जा सकते हैं|

Jagranjosh

Image source: Padi

2. माउंट वेदर इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर

माउंट वेदर इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर अमेरिका का एक “सिविलियन कमांड” सुविधा है जो अमेरिका के वर्जिनिया प्रान्त में स्थित है| यह वह स्थान है जहाँ परमाणु हमले जैसे किसी भी बड़ी आपदा के समय अमेरिका के सबसे वरिष्ठ पद के सरकारी एवं सैनिक अफसरों को सुरक्षित करने के लिए लाया जाएगा| ऐसी मान्यता है कि यहाँ एक भूमिगत कॉम्प्लेक्स मौजूद है जो किसी भी आपदा को झेल सकता है| यह कॉम्प्लेक्स हर सुविधा में आत्मनिर्भर है| यहाँ पर हॉस्पिटल, पानी की जलाशय, इलेक्ट्रिक पॉवर प्लांट एवं रेडियो कम्युनिकेशन सिस्टम मौजूद है| यह रेडियो कम्युनिकेशन सिस्टम इस सेंटर को अन्य सरकारी संस्थाओं और सैनिक संस्थाओं से जोड़ता है| यहाँ की सारी सुविधाएँ 200 लोगों को 30 दिनों तक सुरक्षित रख सकती है| ऐसा मानना है कि 11 सितम्बर को वर्ल्ड ट्रेड सेन्टर हुए हमले के बाद ज्यादातर अमेरिकी कांग्रेस के सदस्यों को यहाँ पर सुरक्षित रूप से पहुँचा दिया गया था| इसी महत्व के कारण यहाँ पर किसी का भी अनाधिकृत प्रवेश वर्जित है|

Jagranjosh

Image source: Wikipedia

3. मेज्गोरये

मेज्गोरये एक प्रतिबंधित क्षेत्र है जो रूस के बश्कोरतोस्तान गणराज्य” में स्थित है| यह शहर यूराल पर्वत के दक्षिण में माउंट यमनाताऊ के नजदीक “उफा” शहर से 200 किमी. दक्षिण में स्थित है| ऐसी मान्यता है कि इस शहर में एक गुप्त परमाणु मिसाइल केन्द्र है जिसकी रक्षा रूसी सेना की एक पूरी बटालियन करती है| यहाँ स्थित बैलेस्टिक मिसाइल प्रणाली स्वचालित सेंसर से युक्त है जो किसी भी तरह के परमाणु हमले की स्थिति में स्वतः ही निर्धारित लक्ष्य पर हमला कर सकता है| अतः यहाँ किसी भी बाहर के व्यक्ति का आना सख्त मना है और यहाँ के निवासी भी सेना की इजाजत के बिना शहर के अन्दर-बाहर नहीं आ जा सकते हैं|

Jagranjosh

Image source: Unknown World

4. मेट्रो-2

मेट्रो-2 रूस के मास्को शहर में स्थित गुप्त “भूमिगत मेट्रो रेल सेवा” का नाम है| माना जाता है कि यह मेट्रो मास्को के पब्लिक मेट्रो के समानान्तर चलती है| ऐसी मान्यता है कि इस मेट्रो का निर्माण “जोसेफ स्टालिन” के समय शुरू हुआ था और इसका नाम रूस की गुप्त एजेंसी KGB ने D-6 रखा था| यह भी माना जाता है कि मेट्रो-2 की लम्बाई मास्को की पब्लिक मेट्रो से अधिक है| मेट्रो-2 की रेलवे लाईन रूस के राष्ट्रपति कार्यालय क्रेमलिन को फेडरल सिक्यूरिटी सर्विस के मुख्यालय, सरकारी एयरपोर्ट “व्नुकोवो-2” और एक भूमिगत शहर “रामेन्की” से जोड़ता है| ऐसी मान्यता है कि इसे जोसेफ स्टालिन ने किसी भी परमाणु हमले में आपातकालीन स्थिति में सुरक्षित जगह तक पहुँचने के लिए बनवाया था| इस वजह से यह मेट्रो लाईन जमीन से 50-200 मीटर की गहराई पर बनवाया गया था| 1994 में अर्बन एक्स्प्लोशन ग्रूप के एक नेता ने इस मेट्रो के अन्दर जाने का रास्ता ढूंढ निकालने का दावा किया था लेकिन रूस की सरकार इस तरह की मेट्रो लाईन होने से साफ इनकार करती है|

Jagranjosh

Image source: Wikipedia

प्राचीन भारत के 5 खोये हुए खजाने

5. नार्थ सेंटिनल आइलैंड

भारत के अंडमान निकोबार द्वीप समूह में स्थित यह द्वीप सेंटेनलीज लोगों का घर है| ये दुनिया के एकमात्र ऐसे लोग हैं जो आज भी पाषाण युग का जीवन जी रहे हैं और किसी भी आधुनिक टेक्नोलॉजी से कोसों दूर हैं| इन्हें बाहर के लोंगों का यहाँ आना पसंद नहीं है और अबतक इनसे संपर्क बनाने के सभी प्रयास घातक साबित हुए है क्योंकि जब भी कोई इस द्वीप के पास आता है तो ये लोग उन पर तीर और भालों से हमला कर देते है| आखिरी बार यह घटना 2006 में हुई थी जब दो मछुआरों की नाव गलती से बहकर इस द्वीप के किनारे लग गई थी और सेंटेनलीज लोगों ने तीर और भालों से इन्हें मार डाला था|

Jagranjosh

Image source: Unbelievable Facts

6. एरिया 51

पश्चिमी अमेरिका के नेवादा में स्थित यह सैन्य अड्डा अपनी रहस्यमय घटनाओं के कारण काफी चर्चा में रहा है| अमेरिकी सेना का कहना है कि इस सैन्य ठिकाने का उपयोग नवीनतम सैनिक उपकरणों एवं आधुनिक विमानों का परिक्षण करने के लिए किया जाता है लेकिन इसके आस-पास की कड़ी सुरक्षा और इसके आस-पास आने के कड़े प्रतिबंध को देखते हुए कुछ लोगों का मानना है कि यहाँ पर दुर्घटनाग्रस्त “अज्ञात उड़ती वस्तुएं” यूएफओ (UFO) रखा हुआ है और यूएफओ के मृत एलियन पर प्रयोग किया जाता है| वास्तविक कारण जो भी हो लेकिन इस क्षेत्र के आस-पास किसी भी आम नागरिक को आने की इजाजत नहीं है|

Jagranjosh

Image source: Aaj Ki Khabar

दुनिया का सबसे ऊंचा मंदिर: वृन्दावन चन्द्रोदय मंदिर

7. स्वालबार्ड वैश्विक बीज तिजोरी

उत्तरी ध्रुव से 1987 किमी. दूर नार्वे में स्पिट्सबर्गेन द्वीप पर एक तिजोरी मौजूद है जिसमें दुनिया भर से इकठ्ठा किये गए 8,40,000 बीज मौजूद हैं, जो 4000 अलग-अलग पेड़-पौधों के हैं| इस बीज बैंक का उद्देश्य बीजों का ऐसा सुरक्षित कोष बनाना है कि अगर किसी प्राकृतिक या मानव निर्मित आपदा से कोई जाति नष्ट हो जाती है तो इस कोष से उस लुप्त जाति को जीवित किया जा सकता है| 11000 वर्ग फीट में मौजूद इस तिजोरी की सुरक्षा अत्यंत आधुनिक उपकरणों से की जाती है और इसके कुछ कर्मचारियों के अलावा यहाँ पर किसी और को आने की इजाजत नहीं दी जाती है|

Jagranjosh

Image source: Crop Trust

8. कोका कोला बनाने की गुप्त रेसिपी की तिजोरी

ग्लोबल सॉफ्ट ड्रिंक कंपनी “कोका कोला” की शुरुआत 1886 में अमेरिका के जॉर्जिया से शुरू हुई थी। इसका हेडक्वार्टर अटलांटा में स्थित है। कोका कोला ने अपना बिजनेस एक खास रेसिपी के दम पर फैलाया है। लेकिन  यह रेसिपी क्या है यह एक सीक्रेट है। कोक का यह रेसिपी आज तक एक गुप्त तिजोरी में बंद है। यह तिजोरी अटलांटा के सन ट्रस्ट बैंक में है, जिसे “गुप्त रेसिपी की तिजोरी” कहते हैं| यदि आपके पास मोटी रकम है तो आप इस तिजोरी के अन्दर जा सकते हैं लेकिन फिर भी आप इस गुप्त रेसिपी तक नहीं पहुँच सकते हैं क्योंकि यह तिजोरी के अन्दर भी एक गुप्त सुरक्षित जगह पर रखा गया है|

Jagranjosh

Image source: Hindi.in.com

भारत के ऐसे 6 स्थान जहाँ भारतीयों को जाने की अनुमति नहीं है!