Search

बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यानः दक्षिण भारत का टाइगर रिजर्व

बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान को भारत के सबसे खूबसूरत और बेहतरीन प्रबंधन वाले राष्ट्रीय उद्यानों में से एक माना जाता है। यह कर्नाटक में मैसूर–ऊटी राजमार्ग पर स्थित है। यह भारत का सबसे बड़ा जीवमंडल (biosphere) रिजर्व बनाता है जिसे 'नीलगिरी जीवमंडल रिजर्व' के नाम से जाना जाता है। बांदीपुर में बाघों की संख्या भी अच्छी– खासी है।
Jul 12, 2016 11:42 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान को भारत के सबसे खूबसूरत और बेहतरीन प्रबंधन वाले राष्ट्रीय उद्यानों में से एक माना जाता है। यह कर्नाटक में मैसूर– ऊटी राजमार्ग पर पश्चिमी घाट के पहाड़ों के बीच सुरम्य वातावरण में स्थित है। बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान करीब 874.2 वर्ग किमी इलाके में फैला है। यह भारत का सबसे बड़ा जीवमंडल (biosphere) रिजर्व बनाता है जिसे 'नीलगिरी जीवमंडल रिजर्व' के नाम से जाना जाता है। बांदीपुर में बाघों की संख्या भी अच्छी– खासी है। पारिस्थितिकी के संरक्षण में भारत के प्रयासों में इस उद्यान का विशेष स्थान है। 

बांदीपुर में बाघ भी अच्छी संख्या में हैं। इस खूबसूरत प्राकृतिक निवास के अन्य निवासियों में गौर (एक प्रकार का बैल), सांभर, चीतल, पिसूरी (mouse deer), चार सींगों वाला काला हिरण, जंगली कुत्ते, जंगली सूअर, सियार, स्लोथ बीयर, तेंदुआ, मालाबार गिलहरी, साही और काले–रोएं वाला खरहा शामिल हैं। जंगली मुर्गे और हरे कबूतर जैसे पक्षी भी यहां पाए जाते हैं।

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क

बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान का स्थानः

Jagranjosh

Image source:wildlife-tours.waytoindia.com

बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान में वन्यजीवन:

Jagranjosh

                          चीतल                                                          गौर                                            

चार सींगों वाला हिरण

Jagranjosh

Image source:wildlife-tours.waytoindia.com

बादीपुर राष्ट्रीय उद्यानः तथ्यों पर एक नजर

1. यह चामराजनगर जिले के गुंडलुपेट तालुका में है। यह मैसूर शहर से करीब 80 किलोमीटर (50 मील) दूर, प्रमुख पर्यटन स्थल ऊटी के रास्ते में है।

2. शुरुआत में मैसूर साम्राज्य के राजा ने 1931 में 90 वर्ग किमी (35 वर्ग मील) में एक अभयारण्य बनवाया था और उसका नाम वेणुगोपाल वन्यजीव उद्यान रखा था।

3. वेणुगोपाल वन्यजीव उद्यान में वर्ष 1973 में करीब 800 वर्ग किमी (310 वर्ग मील) को शामिल कर प्रोजेक्ट टाइगर के तहत बांदीपुर टाइगर रिजर्व बनाया गया था।

4. यह करीब 874.2 वर्ग किमी के दायरे में फैला है।

5. यह भारत का सबसे बड़ा जीवमंडल रिजर्व (Biosphere Reserve) बनाता है जिसे 'नीलगिरी जीवमंडल रिजर्व' के नाम से जाना जाता है।

6. यह उद्यान 75° 12’ 17” पू से 76° 51’ 32” पू और 11° 35’ 34” उ से 11° 57’ 02” उ के बीच, जहां दक्कन का पठार पश्चिमी घाट से मिलता है, में स्थित है।

केवलादेव घाना राष्ट्रीय पार्क : प्रवासी साईबेरियन सारसों का घर

7. इस उद्यान में शुष्क पर्णपाती वन, नम पर्णपाती जंगल और झाड़ियों की कई प्रजातियां हैं।

8. उद्यान के उत्तर में काबिनी नदी और दक्षिण में मोयर नदी है जबकि नुगु नदी उद्यान के बीच से गुजरती है।

9. यह गौर (एक प्रकार का बैल), सांभर, चीतल, पिसूरी (mouse deer), चार सींगों वाला काला हिरण, जंगली कुत्ते, जंगली सूअर,सियार, स्लोथ बीयर, तेंदुआ, मालाबार गिलहरी, साही और काले–रोएं वाले खरहे का प्राकृतिक निवास स्थान है। जंगली मुर्गे और हरे कबूतर जैसे पक्षी भी यहां पाए जाते हैं।

10. बांदीपुर में लकड़ी के पेड़ों की अच्छी– खासी संख्या है। इसमें– शीशम (डलबर्गिया लातिफोलिया), विशाल बांसों का समूह, चंदन ( सैंटालम अल्बम वी), सागौन (टेकटोना ग्रांडिस), भारतीय– लॉरेल (टर्मिनालिया टोमेनटोसा), विजयसार ( टेरोकारपस मारसुपियम), (डेंड्रोकालमस स्ट्रिकटस), क्लंपिंग बैंबू (बम्बुसा अरुनडिनेसिया) और ग्रेविया टिलिएफोलिया शामिल है। 

यदि आप ‘पर्यावरण और पारिस्थितिकीय’ पर क्विज हल करना चाहते हैं तो नीचे क्लिक करें ...

पर्यावरण और पारिस्थितिकीय क्विज