Search

भारतीय सेना के 25 आश्चर्यजनक तथ्य जो कि हमें भारतीय होने पर गर्व कराते हैं

भारतीय शस्‍त्र सेना में तीन प्रभाग हैं: थलसेना, जलसेना और वायुसेना | भारतीय सेना दुनिया की सबसे बड़ी और प्रमुख सेनाओं में से एक है। सँख्या की दृष्टि से भारतीय थलसेना के जवानों की सँख्या दुनिया में चीन के बाद सबसे अधिक है। भारतीय शस्‍त्र सेनाओं की सर्वोच्‍च कमान भारत के राष्‍ट्रपति के पास है।
Jul 29, 2016 17:58 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

भारतीय शस्‍त्र सेना में तीन प्रभाग हैं: थलसेना, जलसेना और वायुसेना | भारतीय सेना दुनिया की सबसे बड़ी और प्रमुख सेनाओं में से एक है। सँख्या की दृष्टि से भारतीय थलसेना के जवानों की सँख्या दुनिया में चीन के बाद सबसे अधिक है। भारतीय शस्‍त्र सेनाओं की सर्वोच्‍च कमान भारत के राष्‍ट्रपति के पास है। भारतीय शस्‍त्र सेनाओं के कार्यों का निर्वाहन रक्षा मंत्रालय से किया जाता है, जो सशस्‍त्र बलों को देश की रक्षा के संदर्भ में उनके दायित्‍व के निर्वहन के लिए नीतिगत रूपरेखा और जानकारियां प्रदान करता है।

आइये इस महान राष्ट्र के सैन्य शक्ति के विषय में कुछ अदभुत तथ्य जानते हैं:-

1. भारत में लड़ाई की परंपरा रिग वैदिक काल से ही चली आ रही है जब इंडो-आर्यन जनजातियाँ आपस में और अन्य जनजातियों के साथ युद्ध में लगी रहती थीं | उस समय कोई नियमित रूप से खड़ी सेना (standing army) नहीं थी। सैन्य कार्यों को वैदिक विधानसभाओं में निहित किया जाता था । तीन व्यक्ति अर्थात व्रजापति, कुलापा  (परिवार के मुखिया) और ग्रामानी  सैन्य नेताओं के रूप में कार्य करते थें। राजन वे लोग थे जो जासूसों के आचरण पर नजर रखने के लिए रखे गए थे । उगरा और जिवाग्रिभा  दो अधिकारियों को शायद अपराधियों से निपटने के लिए रखा गया था । वैदिक युग में कोड ऑफ लॉ (Code of law) जैसा कुछ नही था । इस समय में युद्ध के मुख्य हथियार पत्थर, भाले, तीर-धनुष और कुल्हाड़ी हुआ करते थे |

Jagranjosh

2. मध्य कालीन इतिहास में लड़ाई का मुख्य आधार हाथी, घोड़े, धनुष-तीर, भाले, तोपें इत्यादि हो गये थे | जैसा की मुगल सरकार का मूल चरित्र सैन्य था और उसने अपने इस सैन्य चरित्र को आखिर तक बनाए रखा । वहा के सम्राट, सेना के प्रमुख थे और उसके कमांडर इन चीफ भी । सभी सरकारी अधिकारियों को सेना में दाखिल किया गया और घुड़ सवारों के भी कमांडर बनाए गए। मुगल बल में पैदल सेना, घुड़सवार सेना, आग्नेयास्त्र, हाथि और युद्ध वाली नावों की भी पांच शाखाएं शामिल थी । इनमे घुड़सवार सेना सबसे महत्वपूर्ण थी और इन्फैंट्री सेना उसकी सबसे बड़ी शाखा थी , लेकिन उन लोगो की पगार बहुत कम हुआ करती थी । आग्नेयास्त्रों को सिर्फ पुरुष ही चलाते थे और ये गनर्स भी थे क्युकि बारुद और कैवेलरी का चलन मध्य काल से ही शुरू हुआ था ।

Jagranjosh

3. अंग्रेजों के शासन काल में भारतीय सेना को कुछ आधुनिक हथियार जैसे बंदूकें, आधुनिक तोपें, घातक गोला बारूद इत्यादि प्रयोग करने के लिए मिल गयी थीं|

Jagranjosh

source:www.historydiscussion.net

4. भारतीय सेना वर्ष 1776 में ईस्ट इंडिया कंपनी के द्वारा गठित की गयी थी|

Jagranjosh

source:www.pinterest.com

भारत रत्न : भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

5. वर्तमान में भारतीय सेना का गठन भी अंग्रेजों के समय का है किन्तु इसकी वर्तमान व्यवस्थाएं वर्ष 1947 से प्रारम्भ होती हैं| आज भी भारतीय सेना की वर्दी एवं नियम काफी हद तक ब्रिटिश सैन्य नियमों पर आधारित है|

Jagranjosh

source:en.wikipedia.org

6. भारतीय सेनाध्यक्षों का क्रम जनरल के.एम.करिअप्पा से प्रारम्भ होकर जनरल दलबीर सिंह सुहाग तक चुका है, परंतु अब तक केवल दो हीं सेनाध्यक्षों को फील्ड मार्शल की उपाधि दी गयी है| ये हैं, जनरल के.एम.करिअप्पा एवं एस.एम.जे.मानिकशॉ| 

Jagranjosh

source:plus.google.com

7. भारतीय सेना में लगभग 11,30,000 कार्यरत एवं 9,60,000 रिज़र्व कर्मचारी हैं और इस लिहाज़ से भारतीय सेना विश्व की तीसरी सबसे विशाल सेना के रूप में जानी जाती है| 

8. 16 दिसंबर, 1971 को युद्ध के बाद लगभग 80,000 पाकिस्तान के सैनिकों द्वारा भारतीय सेना के समक्ष आत्म समर्पण कर दिया था | यह आत्मसमर्पण द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद किसी भी सेना द्वारा सबसे बड़ा आत्मसमर्पण था|

(1971 का  युद्ध हारने के बाद पाकिस्तानी सेना के लेफ्टिनेंट जनरल A.K. नियाजी, भारतीय लेफ्टिनेंट जनरल जगजीत सिंह अरोडा के सामने आत्मसमर्पण पर हस्ताक्षर करते हुए)

Jagranjosh

image source:http://iadnews.in

9. 1971 के युद्ध में अमेरिका के राष्ट्रपति निक्सन ने पाकिस्तान की हार लगभग निश्चित होते देख उसकी मदद के लिए अपना समुद्री जहाज़ बंगाल की खाड़ी में भेज दिया था, परन्तु रूस ने भी भारत के पक्ष में परमाणु हथियारों से सुसज्जित अपने दो समुद्री जहाज़ भेज दिए तो अमेरिका को पीछे हटने पर मजबूर होना पड़ा था |

(यही वह जहाज है जिसे अमेरिका ने भारत के खिलाफ परमाणु हथियार से सजाकर भेजा था)

Jagranjosh

source:http://pazhayathu.blogspot.in

10. रूस ने भारत की मदद इस युद्ध में इसलिए की थी क्योंकि अगस्त 1971  में भारत और रूस के बीच एक ‘मित्रता संधि’ हई थी |

(यही वे दो जहाज हैं जिन्हें रूस ने भारत की मदद के लिए भेजा था )

Jagranjosh

source:http://www.indiandefensenews.in

भारत द्वारा प्रदान किए जाने वाले वीरता पदकों की सूची

11. भारत की स्वतंत्रता के बाद ब्रिटिश भारतीय सैन्य शक्ति में से भारत को कुल 45 रेजिमेंट मिली जिसमें लगभग 2.5 लाख सैनिक थे जो कि वर्तमान में उसके 10 गुना हो चुके हैं|  

12. भारतीय एयरफोर्स का गठन ब्रिटिश भारत में वर्ष 1932 में हुआ और उस समय इसे रॉयल इंडियन एयरफोर्स नाम दिया गया था, लेकिन वर्ष 1950 में इसे इंडियन एयरफोर्स के नाम से भारतीय सेना में शामिल किया गया था |

(रॉयल इंडियन एयरफोर्स द्वारा इस्तेमाल किया गया प्लेन)

Jagranjosh

source:https://www.linkedin.com

13. भारत की 61वीं कैवेलरी रेजिमेंट भारतीय सेना का घुड़सवार दस्ता है जो विश्व की वर्तमान व्यवस्था में एकमात्र अयांत्रिक घुड़सवार है|राज्य सेनाओं से मिलकर बने इस दस्ते का यह नामकरण वर्ष 1954 में किया गया था|   

14. भारतीय थल सेना छह कमानों में संगठित है जो क्रमशः पश्चिमी कमान (शिमला), पूर्वी कमान (कोलकाता), उत्तरी कमान (उधमपुर), दक्षिणी कमान (पुणे), मध्य कमान (लखनऊ) और दक्षिणी पश्चिमी कमान (जयपुर)| वर्ष 2005 में गठित दक्षिणी-पश्चिमी कमान सबसे बड़ी है|

15. भारतीय सेना द्वारा वर्ष 2013 में चलाया गया राहत एवं बचाव कार्य का अभियान आपरेशन "राहत" पूरे विश्व का अब तक का सबसे बड़ा बचाव अभियान था जिसमें उत्तराखंड में प्रकृति की भीषण मार से लोगों को सफलतापूर्वक सेना द्वारा निकालने का प्रयास किया गया था| 

Jagranjosh

16. भारतीय सेना की अभियंत्रण शाखा द्वारा हीं भारत के सबसे ऊँचे पुल और सबसे ऊँची सड़क का निर्माण किया गया है, जो क्रमशः लद्दाख में द्रास और सुरु नदियों के बीच तथा खरदूला में है|  

Jagranjosh

Source: www.ichef-1.bbci.co.uk

भारत का राष्ट्रीय पक्षी मोरः तथ्यों पर एक नजर

17. भारतीय नौसेना द्वारा निर्मित केरल की ऐझीमाला नौसेना अकादमी पूरे एशिया की सबसे बड़ी अकादमी है|

18. भारतीय सेना ऊंचाइयों पर सफलतापूर्वक लड़ने के मामले में सर्वोत्तम है और इसके लिए HAWS (High Altitude Warfare School) दुनिया का सबसे बड़ा प्रशिक्षण शिविर चलाती है जिसमें अन्य देशों के सैनिक भी प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं|

Jagranjosh

Source:www. upload.wikimedia.org

19. भारतीय सेना विश्व के सबसे ऊँचे रणक्षेत्र सियाचिन ग्लेशियर को नियंत्रण में रखती है| इसकी ऊंचाई समुद्रतल से 5000 मीटर है|

(सियाचिन पर तैनात भारतीय सैनिक)

Jagranjosh

source:plus.google.com

20. भारतीय सेना ने देश की अंदरूनी नीति में अबतक केवल दो ही बार शक्ति प्रदर्शन किया है, पहली बार हैदराबाद और दूसरी बार गोवा को भारतीय गणराज्य का हिस्सा बनाने के लिए|

21. असम राइफल्स सबसे पुरानी अर्धसैनिक टुकड़ी है, जो की वर्ष 1835 में सृजित की गयी थी|

Jagranjosh

source:plus.google.com

22. ब्रह्मोस-2 भारतीय सेना द्वारा उपयोग में लायी जाने वाली विश्व की सबसे तेज गति की मिसाइल है|

Jagranjosh

source:indiatoday.intoday.in

23. भारतीय राष्ट्रपति की अंगरक्षक टुकड़ी भारतीय शसस्त्र बल की सबसे पुरानी टुकड़ी है जो वर्ष 1773 में बनी और राष्ट्रपति भवन में स्थायी है| इसके घोड़े युद्ध के लिए ही प्रशिक्षित किये जाते हैं|

Jagranjosh

source:hindi.pradesh18.com

24. वर्तमान में भारत की सेन्य ताकत इस प्रकार है-

1. कुल टैंक–6464

2. एयरक्राफ्ट –2068

3. हेलीकाप्टर - 646

4. पनडुब्बियां - 14

5. लड़ाकू विमान - 679

6. रक्षा बजट - 40 अरब डॉलर

25. भारतीय सेना ने इन युद्धों में भाग लिया है:

1. 1947 का भारत-पाकिस्तान युद्ध

2. 1962 का भारत-चीन युद्ध

3. 1965 का भारत-पाकिस्तान युद्ध

4. 1971 का भारत-पाकिस्तान युद्ध

5. 1999 का भारत-पाकिस्तान युद्ध

जन गण मन: भारत का राष्ट्र गान

हाथी: भारत का राष्ट्रीय विरासत पशु