Search

भारत के प्रमुख ऐतिहासिक शहर व स्थल

किसी भी देश की पहचान उस देश के सांस्कृतिक और पुरातात्विक विकास से होती है | भारत में भी वैदिक काल से लेकर वर्तमान तक अनेक शहरों, मंदिरों और स्थलों इत्यादि की खोज की जा चुकी है, जिन्होंने इस देश के महत्व को विश्व स्तर पर कई गुना बढ़ाया है | इस लेख में ऐसे की कुछ महत्वपूर्ण शहरों, मंदिरों और स्थलों के बारे में बताया जा रहा है |
Jul 22, 2011 17:28 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

किसी भी देश की पहचान उस देश के सांस्कृतिक और पुरातात्विक विकास से होती है | भारत में भी वैदिक काल से लेकर वर्तमान समय तक अनेक शहरों, मंदिरों और स्थलों इत्यादि की खोज की जा चुकी है, जिन्होंने इस देश के महत्व को विश्व स्तर पर कई गुना बढ़ाया है | इस लेख में ऐसे ही कुछ महत्वपूर्ण शहरों, मंदिरों और स्थलों के बारे में बताया जा रहा है |

अहिच्छेत्र - उ. प्र. के बरेली जिले में स्थित यह स्थान किसी समय में पांचालों की राजधानी थी।

Jagranjosh

Image source: travel. vibrant4.com

अजंता की गुफाएँ - यह स्थान महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में स्थित है। इसमें 29 बौद्ध गुफाएँ मौजूद हैं। ये गुफाएँ अपनी चित्रकारी के लिए प्रसिद्ध हैं। इनका काल 1 सदी ई. पू. से 7 शताब्दी ई. तक है।

Jagranjosh

Image source: www.touristcarbooking.com

यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची के लिए 15 भारतीय स्थलों की दावेदारी

अमरावती- यह ऐतिहासिक स्थल आधुनिक विजयवाड़ा के निकट स्थित है। सातवाहन वंश के समय में यह नगर कला, वास्तुकला एवं मूर्तिकला का प्रसिद्ध केंद्र था|

Jagranjosh

Image source: navbharattimes.indiatimes.com

अरिकमेडू- चोल काल के दौरान यह पांडिचेरी के निकट स्थित समुद्री बंदरगाह था, जहाँ से चोल और रोमन साम्राज्य के बीच व्यापार होता था|

Jagranjosh

Image source: www.thehindu.com

भारत का राष्ट्रीय ध्वजः तथ्यों पर एक नजर

अयोध्या- यह आधुनिक फैज़ाबाद से कुछ दूरी पर सरयू नदी के किनारे स्थित है। यह कोसल राज्य की राजधानी थी और भगवान राम का जन्मस्थान भी यहीं है।

Jagranjosh

Image source: en.wikipedia.org

आगरा - इस शहर की नींव लोदी वंश के बादशाह सिकंदर लोदी ने 1509 में रखी थी। बाद में मुगल सम्राटों ने इसे अपनी राजधानी बनाया। शाहजहाँ ने यहीं अपनी पत्नी मुमताज महल की याद में ताजमहल का निर्माण कराया था।

Jagranjosh

Image source: www.dodlastoursandtravels.com

अमृतसर- यहाँ पर सिक्खों का पवित्र तीर्थ स्थल स्वर्ण मंदिर स्थित है। इसका निर्माण सिक्खों के चौथे गुरू रामदास ने करवाया था।

Jagranjosh

Image source: hi.wikipedia.org

ओदन्तपुरी- यह नगर बिहार में गया के निकट स्थित था, जो बौद्धकालीन भारत का प्रमुख शिक्षा केंद्र था| पाल राजाओं ने इस शिक्षा केंद्र के विकास और संवर्धन में महत्वपूर्ण योगदान दिया था, जो बाद में विश्वविद्यालय में बदल गया था|

Jagranjosh

Image source: www.letsseeindia.com

अमरकंटक- मध्य प्रदेश के शहडोल जिले में स्थित यह स्थल भारत के पवित्र स्थलों में से एक है| पवित्र नदी नर्मदा का उद्गम यहीं से होता है|

नर्मदा उद्गम कुण्ड

Jagranjosh

Image source: www.ibc24.in

इंद्रप्रस्थ- नई दिल्ली के निकट स्थित यह नगर महाभारत काल में कुरू राज्य की राजधानी थी।

एहोल- यह स्थान कर्नाटक में स्थित है। इसकी मुख्य विशेषता चालुक्यों द्वारा बनवाए गए पाषाण के मंदिर हैं।

Jagranjosh

Image source: hindi.nativeplanet.com

कुमारी कंदम की अनकही कहानी: हिंद महासागर में मानव सभ्यता का उद्गम स्थल

एलीफेंटा की गुफा- यह मुंबई से लगभग 6 मील की दूरी पर स्थित है। इसमें 7वीं व 8वीं शताब्दी की पत्थर को काटकर बनाई गई गुफाएँ स्थित हैं।

Jagranjosh

Image source: ftp.samaylive.com

एलोरा गुफायें - यह स्थान महाराष्ट्र राज्य के औरंगाबाद जिले के उत्तर-पश्चिम में स्थित है। इसमें पत्थर को काटकर बनाई गईं 34 गुफाएं स्थित हैं।

Jagranjosh

Image source: en.wikipedia.org

उज्जयिनी- छठी सदी ई. पू. में यह शहर उत्तरी अवन्ति की राजधानी थी। यहाँ प्रत्येक 12 साल के बाद महाकुम्भ लगता है|

Jagranjosh

Image source: www.aajkikhabar.com

कन्नौज- उत्तर प्रदेश में स्थित यह शहर हर्ष की राजधानी थी। इसका प्राचीन नाम कान्यकुब्ज था|

Jagranjosh

Image source: kannauj.nic.in

कन्याकुमारी- पद्मपुराण में वर्णित यह शहर भारत के सुदूर दक्षिण में स्थित है।

Jagranjosh

Image source: archives.deccanchronicle.com

हाथी: भारत का राष्ट्रीय विरासत पशु

कपिलवस्तु- नेपाल के तराई में स्थित इसी स्थान पर महात्मा बुद्ध का जन्म हुआ था

Jagranjosh

Image source: www.thevoyagetravels.com

कांचीपुरम- वर्तमान में कांजीवरम के नाम से विख्यात यह प्राचीन नगर सात पवित्र नगरों में से एक है।

Jagranjosh

Image source: www.indianmirror.com

कुशीनगर- उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले में स्थित इसी स्थान पर महात्मा बुद्ध का महापरिनिर्वाण हुआ था।

Jagranjosh

Image source: vinhdeloctravel.com

कोणार्क - यह स्थान ओडिशा राज्य में स्थित है जो सूर्य मंदिर के लिए विख्यात है।

Jagranjosh

Image source: www.energyenhancement.org

खजुराहो - दसवीं से बारहवीं शताब्दी के मध्य चंदेल शासकों द्वारा निर्मित मंदिरों के लिए प्रसिद्ध खजुराहों मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में स्थित है।

Jagranjosh

Image source: www.makemytrip.com

गया- बिहार में स्थित इस नगर की गणना पवित्र नगरियों में की जाती है। सम्पूर्ण भारत के ऐसे हिन्दू जो कर्मकाण्ड में विश्वास रखते हैं, वे अपने पितरो का पिंडदान करने यहीं आते हैं|

Jagranjosh

Image source: www.hotelviraatinn.com

चिदम्बरम- यह स्थान चेन्नई के 150 मील दक्षिण में स्थित है और एक समय यह चोल राज्य की राजधानी थी। यहाँ के मंदिर भारत के प्राचीनतम मंदिरों में से हैं और वे द्रविड़ स्थापत्यकला व वास्तुकला का प्रतिनिधित्व करते हैं।

Jagranjosh

Image source: www.asia.si.edu

यूनेस्को द्वारा घोषित भारत के 32 विश्व धरोहर स्थल

जयपुर- 1721 में कछवाहा शासक सवाई जयसिंह ने इस नगर की स्थापना की थी।

Jagranjosh

Image source: www.noicomitmilano.altervista.org

झांसी- उत्तर प्रदेश का यह नगर रानी लक्ष्मी बाई की वजह से प्रसिद्ध है।

Jagranjosh

Image source: merashangharsh.blogspot.com

दौलताबाद- प्राचीनकाल में देवगिरि के नाम से विख्यात यह नगर महाराष्ट्र के औरंगाबाद में स्थित है। मुहम्मद बिन तुगलक ने इसे अपनी राजधानी बनाया था।

Jagranjosh

Image source: www.thehistoryhub.com

नालंदा-बिहार की राजधानी पटना से दक्षिण की ओर लगभग 55 किमी. की दूरी पर प्राचीन काल में नालंदा विश्वविद्यालय स्थित था| इसकी स्थापना कुमारगुप्त ने की थी| प्राचीन समय में यह बौद्ध धर्म एवं शिक्षा का महान केंद्र था| यहाँ 10000 छात्रों के अध्ययन की व्यवस्था थी|

Jagranjosh

Image source: www.patrika.com

ये हैं भारत के पांच खास मंदिर

पाटलिपुत्र- बिहार स्थित पाटलिपुत्र वर्तमान में पटना के नाम से प्रसिद्ध है। यह मौर्यों की राजधानी थी।

Jagranjosh

Image source: www.buzzntravel.com

पावापुरी- बिहार राज्य में स्थित पावापुरी में जैन धर्म के प्रवर्तक महावीर स्वामी को निर्वाण की प्राप्ति हुई थी|

Jagranjosh

Image source: ultraliant.com

पुणे- मराठा सरदार शिवाजी तथा उनके पुत्र शम्भाजी की राजधानी पुणे महाराष्ट्र का एक प्रमुख शहर माना जाता है।

Jagranjosh

Image source: www.puneonline.in

पुरूषपुर- प्रथम शताब्दी ई.पू. में कनिष्क द्वारा स्थापित पुरूषपुर पाकिस्तान के पश्चिमोत्तर सीमा प्रांत में स्थित है। इसे वर्तमान में पेशावर के नाम से जाना जाता है।

Jagranjosh

Image source: indiannova.in

प्लासी- प्लासी 1757 में ईस्ट इंडिया कंपनी एवं बंगाल के नवाब सिराजुद्दौला के बीच हुए युद्ध के लिए प्रसिद्ध है।

Jagranjosh

Image source: www.flickr.com

विश्व के पांच रहस्यमय स्थल

प्रयाग- तीर्थराज कहलाने वाला यह नगर गंगा-यमुना के संगम पर बसा है। प्राचीन काल से ही इस स्थली की गणना पवित्र नगरियों में की जाती है। बाद में अकबर ने इसका नाम बदलकर इलाहाबाद कर दिया था।

Jagranjosh

Image source: www.templenet.com

पारसनाथ- यह स्थान झारखण्ड राज्य में स्थित है| जैन धर्म के 24 तीर्थंकरों में से 21 को यहाँ निर्वाण प्राप्त हुआ था| यह स्थान सुमेर शिखर के नाम से भी प्रसिद्ध है|

Jagranjosh

Image source: www.hoparoundindia.com

फतेहपुर सीकरी - यह स्थान आगरा से 23 मील की दूरी पर स्थित है। इसकी स्थापना 1569 में अकबर ने की थी। यहाँ पर 176 फीट ऊँचा बुलंद दरवाजा मौजूद है।

Jagranjosh

Image source: uptourism.gov.in

बोधगया- यह स्थान बिहार के  गया जिले में स्थित है। इसी स्थान पर भगवान बुद्ध को ज्ञान प्राप्ति हुई थी|

Jagranjosh

Image source: www.samaylive.com

बीजापुर- युसूफ आदिलशाह द्वारा स्थापित यह नगर कर्नाटक में स्थित है। यहां गोल गुंबज मुहम्मद आदिलशाह का मकबरा है।

Jagranjosh

 

Image source: journeymart.com

 

बादामी या वातापी- कर्नाटक में स्थित यह स्थान चालुक्य मूर्तिकला के लिए प्रसिद्ध है जो कि गुहा-मंदिरों में पाई जाती है। यह स्थान द्रविड़ वास्तुकला का उत्तम उदाहरण है।

Jagranjosh

Image source: www.nativeplanet.com

भुवनेश्वर- वर्तमान समय में ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर प्राचीन समय में उत्कल की राजधानी के रूप में प्रसिद्ध था। यहाँ के मंदिर विशेष रूप से प्रसिद्ध हैं।

Jagranjosh

Image source: wikimapia.org

भीतरगांव- उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले में स्थित यह स्थल गुप्तकालीन ईंटों से बने मंदिर के लिए प्रसिद्ध है।

Jagranjosh

Image source: puratattva.in

मुंगेर- बिहार राज्य स्थित मुंगेर नगर प्राचीन अंग साम्राज्य का प्रमुख केंद्र था| कुछ विद्वानों के अनुसार इस नगर की स्थापना चन्द्रगुप्त द्वारा की गयी थी| महाभारत काल में चंपा इसकी राजधानी थी|

Jagranjosh

Image source: www.holidayiq.com

मदुरै- पाण्ड्य राजाओं की राजधानी एवं तमिलनाडु में स्थित यह नगर मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है।

Jagranjosh

Image source: www.mayatravel.de

मथुरा- उत्तर प्रदेश में स्थित यह नगरी भगवान श्रीकृष्ण की जन्म स्थली होने की वजह से प्रसिद्ध है।

Jagranjosh

Image source: www.happytrips.com

भारत की धार्मिक महत्व वाली पांच नदियां

मामल्लपुरम- पल्लव नरेश नरसिंह वर्मन द्वारा चेन्नई के पास निर्मित यह नगर वर्तमान में महाबलीपुरम के रुप में विख्यात है। यहां के मंदिर विशेष रूप से प्रसिद्ध हैं।

Jagranjosh

Image source: www.chardhambooking.com

माउंट आबू- दिलवाड़ा के जैन मंदिर के लिए प्रसिद्ध यह स्थान अरावली पर्वत पर स्थित है।

Jagranjosh

Image source: parichay-india.blogspot.com

रामेश्वरम- तमिलनाडु में स्थित यह स्थान रामनाथ स्वामी मंदिर के लिए प्रसिद्ध है।

Jagranjosh

Image source: www.ndtv.com

राजगीर या राजगृह- यह बिहार की राजधानी पटना से दक्षिण की ओर लगभग 74 किमी. की दूरी पर स्थित है| प्राचीनकाल में यह मगध की राजधानी था और इसका नाम गिरिव्रज था|

Jagranjosh

Image source: en.wikipedia.org

वैशाली- बिहार में स्थित इस नगर को इक्ष्वाकुवंशीय राजा विशाल ने बसाया था| यहाँ जैन धर्म के चौबीसवें तीर्थंकर महावीर स्वामी का जन्म हुआ था| यहाँ द्वितीय बौद्ध संगीति का भी आयोजन किया गया था|

Jagranjosh

Image source: divyamkumar.wordpress.com

सांची स्तूप : भारत का प्रसिद्ध बौद्ध स्मारक

वाराणसी- वरुणा और असी के मध्य स्थित होने के कारण यह नगर वाराणसी के नाम से जाना जाता है| उत्तर वैदिक कल से लेकर वर्तमान काल तक यह भारत का प्रमुख सांस्कृतिक केंद्र रहा है| धार्मिक एवं शैक्षिक दृष्टि से भी यह महत्वपूर्ण स्थल रहा है|

Jagranjosh

Image source: www.makemytrip.com

विजयनगर - इस राज्य की नींव 1336 में तुंगभद्रा नदी के तट पर हरिहर व बुक्का द्वारा रखी गई थी।

Jagranjosh

Image source: www.historyfiles.co.uk

सारनाथ- यह स्थान उत्तर प्रदेश के वाराणसी के पास स्थित है जहां भगवान बुद्ध ने अपना पहला उपदेश दिया था।

Jagranjosh

Image source: www.uptourism.gov.in

चोल काल में निर्मित मंदिरों की सूची

हम्पी- कर्नाटक में स्थित यह स्थान मध्यकालीन युग में विजयनगर साम्राज्य की राजधानी थी।

Jagranjosh

Image source: alchetron.com

हरिद्वार- गंगा के तट पर स्थित इस नगर की गणना भारत के प्रमुख तीर्थस्थलों में की जाती है| ‘हर की पौड़ी’ यहाँ का प्रसिद्ध स्थान है| यहाँ महाकुम्भ और अर्धकुम्भ मेले का आयोजन किया जाता है|

Jagranjosh

Image source: archive.indianexpress.com

हड़प्पा- पाकिस्तान के पँजाब प्रांत के माँटगोमेरी जिले में स्थित यह स्थल हड़प्पा संस्कृति काल में एक प्रमुख शहर था।

Jagranjosh

Image source: www.sci-news.com

श्रवणबेलगोला- कर्नाटक के हासन जिले में स्थित श्रवणबेलगोला जैन धर्म के मुख्य केंद्र के रूप में प्रसिद्ध है। यहां जैन तीर्थंकर बाहुबली की विशाल मूर्ति है।

Jagranjosh

Image source: blogs.hungrybags.com

राष्ट्रपति भवन के बारे में 20 आश्चर्यजनक तथ्य

Related Categories