Search

भारत के सात उत्तर-पूर्वी राज्य (सेवन सिस्टर्स): एक नज़र में

उत्तर पूर्वी भारत में सात राज्य शामिल हैं, जिन्हें सम्मिलित रूप से ‘सात बहनें’ (Seven Sisters) कहा जाता है| इनमें अरूणाचल प्रदेश, असम, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड और त्रिपुरा राज्य शामिल हैं| अरूणाचल प्रदेश भारत का सबसे पूर्वी राज्य है और इसी कारण से देश में सबसे पहले सूर्योदय इसी राज्य में होता है| मैरीकॉम, बाइचुंग भूटिया, सोमदेव और सरिता देवी जैसे कई राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी इन्हीं राज्यों से सम्बन्ध रखते हैं|
Jan 12, 2016 14:16 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

उत्तर पूर्वी भारत में सात राज्य शामिल हैं जिन्हें सम्मिलित रूप से “सात बहनें”(Seven Sisters ) कहा जाता है| इनमें अरूणाचल प्रदेश,असम,मणिपुर,मेघालय,मिजोरम,नागालैंड और त्रिपुरा शामिल हैं|  उत्तर पूर्वी भारत पर्यटकों का आकर्षण केंद्र भी है क्योंकि यहाँ की सांस्कृतिक विविधता और प्राकृतिक सुन्दरता उन्हें अपनी ओर आकर्षित करती है|

Jagranjosh

Source: http://www.mapsofindia.com

1. अरुणाचल प्रदेश:

Jagranjosh

Source: www.travelindia

अरुणाचल प्रदेश के बारे में तथ्य:

क्षेत्रफल           

83,743 वर्ग किमी.(13 जिले)

राजधानी

ईटानगर

राज्य के रूप में गठन

20 फरवरी,1987 (अरुणाचल प्रदेश भारतीय संघ में शामिल होने वाला चौबीसवां राज्य है)

जनसंख्या(2011 की जनगणना के अनुसार)

13.84 लाख

भाषाएँ

अदि,अका,अपातानी,डफला,निशिंग,मिजी,गल्लोंग,नोक्टे,वान्चो,तागिन,हिल मिरि,इदु मिश्मी,मिजू मिश्मी,दिगारू मिश्मी,मोनपा,तंग्सा,खाम्प्टी,शेरदुकपेन और बंगनी

अर्थव्यवस्था

अरूणाचल प्रदेश की लगभग 35% जनसंख्या कृषि पर निर्भर है  और कूल कृषित भूमि के लगभग 17% भाग पर सिंचाई की सुविधा उपलब्ध है|राज्य की लगभग 62% भूमि पर वन पाए जाते हैं|यहाँ की मुख्य फसल धान है|

साक्षरता दर (2011 की जनगणना के अनुसार)

65.38%

विधानमंडल

एकसदनीय

जलवायु

निम्न ऊँचाई पर आर्द्र और उष्ण जलवायु पाई जाती है लेकिन ऊँचाई बढ़ने पर ताप कम होता जाता है

वर्षा

330 सेमी.(औसत)

त्यौहार/पर्व

सियांग नदी उत्सव,न्योकुम(न्यिशी जनजाति द्वारा मनाया जाने वाला पर्व),लोसर उत्सव(नववर्ष के स्वागत हेतु),ड्री उत्सव,बोरी बूट(फसल की  सफल पैदावार हेतु),लोकू(शीत ऋतु की विदाई हेतु),संकेन(लोहित जिले की खाम्प्टी जनजाति द्वारा मनाया जाने वाला पर्व),पांगसाउ,संगीत का जिरो उत्सव,सोलुंग(कृषि उत्सव)

2. असम

Jagranjosh

source: www.travelindia-guide.com

असम के बारे में तथ्य:

क्षेत्रफल           

78, 438 वर्ग किमी.(23 जिले)

राजधानी         

दिसपुर

राज्य के रूप में गठन

15 अगस्त,1947(असम को उत्तर पूर्व का प्रवेश द्वार भी कहा जाता है)

जनसंख्या (2011 की जनगणना के अनुसार

3.12 करोड़

भाषाएँ

असमी,हिंदी,अंग्रेजी

अर्थव्यवस्था

राज्य की लगभग 63% कामगार जनसंख्या कृषि व सम्बंधित कार्यों में लगी हुई है और धान यहाँ की मुख्य फसल है|राज्य की लगभग 23% भूमि पर वनों का विस्तार है|

साक्षरता दर (2011 की जनगणना के अनुसार)

72.09%

विधानमंडल

एकसदनीय

पर्यटन/दर्शनीय स्थल

काजीरंगा राष्ट्रीय पार्क,काजीरंगा ( एक सिंगी गैंडे के लिए प्रसिद्ध और पेलिकन पक्षी का प्रजनन स्थल),मानस राष्ट्रीय पार्क (असम का एकमात्र बाघ रिजर्व एवं विश्व विरासत स्थल),नामेरी राष्ट्रीय पार्क,पवितोरा वन्यजीव अभयारण्य,लाओखोवा वन्यजीव अभयारण्य

वर्षा

200- 300 सेमी.(औसत)

त्यौहार/पर्व

बिहू-भोगली या माघ-भोगली(जनवरी),रोंगोली या बोहाग बिहू (अप्रैल),कोंगली या काती-बिहू(मई)बैशागु(मध्य अप्रैल में बोडो कछारी लोगों द्वारा) और अली-अई-लिगांग(मिशिंग जनजाति का पर्व)

3. मणिपुर:

Jagranjosh

Source: www.mdoner.gov.in

मणिपुर के बारे में तथ्य:

क्षेत्रफल           

22,327 वर्ग किमी.(‘मणिपुर’ शब्द का अर्थ-‘मणियों की भूमि’)(9 जिले)

राजधानी         

इम्फाल

 

राज्य के रूप में गठन

21जनवरी,1972 (इस उत्तर-पूर्वी राज्य को ‘स्वर्ण भूमि’ या ‘सुवर्णभू’ के रूप में भी व्याख्यायित किया जाता है)

जनसंख्या (2011 की जनगणना के अनुसार

27.2 लाख

भाषाएँ

मणिपुरी,हिंदी,अंग्रेजी

अर्थव्यवस्था

पहाड़ियों में रहने वाली कुल कामगार जनसंख्या का लगभग  88% और घाटियों में रहने वाली कुल कामगार जनसंख्या का लगभग 60% पूरी तरह से कृषि व अन्य सम्बंधित गतिविधियों जैसे-पशुपालन,मत्स्यन और वानिकी पर निर्भर है| 

साक्षरता दर (2011 की जनगणना के अनुसार)

68.87%

विधानमंडल

एकसदनीय

पर्यटन/दर्शनीय स्थल

गोविन्दजी मंदिर(वैष्णव मंदिर),मणिपुर जुलोजिकल पार्क,लोकटक झील(यह उत्तर-पूर्वी भारत की सबसे बड़ी ताजे पानी की झील है) और सेन्दरा द्वीप

वर्षा

146.75 सेमी.

त्यौहार/पर्व

खाम्बा(भगवन शिव का अवतार),थोइबी(पार्वती

का अवतार ) द्वारा भव्य वस्त्रों में विभिन्न मुद्राओं में नृत्य करना,रासलीला,पुंग चोलोम या करताल चोलोम 

 

4. मेघालय:

Jagranjosh

Source: www.cdpsindia.org

मेघालय के बारे में तथ्य:

क्षेत्रफल           

22,429 वर्ग किमी.(‘मेघालय’ शब्द का संस्कृत भाषा में अर्थ है-‘मेघों का घर’) (7 जिले)

राजधानी         

शिलांग

 

राज्य के रूप में गठन

21,जनवरी,1972(गारो,खासी और जयंतिया प्रमुख जनजातियाँ हैं)

जनसंख्या (2011 की जनगणना के अनुसार

29.67 लाख

भाषाएँ

खासी,गारो,अंग्रेजी

अर्थव्यवस्था

 80% जनसंख्या कृषि पर निर्भर है और धान व मक्का मुख्य खाद्य फसलें हैं|मेघालय संतरा(खासी मंदारियन),अनानास, केला और बाबूबोसा फलों के लिए प्रसिद्ध है

साक्षरता दर (2011 की जनगणना के अनुसार)

75.48%

विधानमंडल

एकसदनीय

पर्यटन/दर्शनीय स्थल

चेरापूंजी व मासिनराम(विश्व में सर्वाधिक वर्षा वाले क्षेत्र),वार्डस झील(शिलांग),सिंदाई गुफाएं

वर्षा

241.5 सेमी.

त्यौहार/पर्व

खासियों का पांच दिन तक चलने वाला महोत्सव,का पेम्ब्लांग नोंग्रेम नृत्य,जिसे नोंग्रेम नृत्य भी कहते हैं,शिलांग से 11 किमी. दूर स्मित गाँव में पर्तिवर्ष आयोजित किया जाता है

5. मिजोरम:

Jagranjosh

Source: upload.wikimedia.org

मिजोरम के बारे में तथ्य:

क्षेत्रफल           

21,081 वर्ग किमी.

राजधानी         

आइजोल

राज्य के रूप में गठन

20 फरवरी,1987

जनसंख्या (2011 की जनगणना के अनुसार)    

1,091014

भाषाएँ

मिजो,कूकी और अंग्रेजी

अर्थव्यवस्था

लगभग 60% जनसंख्या कृषि पर निर्भर है

साक्षरता दर (2011 की जनगणना के अनुसार)

91.33%

विधानमंडल

एकसदनीय.

पर्यटन/दर्शनीय स्थल

मुरलेन राष्ट्रीय पार्क,तमदिल झील,रिहदिल झील,लेंगतेंग पहाड़ी

वर्षा

215 सेमी.

त्यौहार/पर्व

चपचारकूट उत्सव(बसंत उत्सव),मिमकुट,पॉलकुट,एंथुरियम,क्रिसमस

6. नागालैंड:

Jagranjosh

Source: mapsofworld.com

नागालैंड के बारे में तथ्य:

क्षेत्रफल           

16, 579 वर्ग किमी.(23जिले)

राजधानी         

कोहिमा(नागालैंड एक पहाड़ी राज्य है और यहाँ पाई जाने वाली नागा जनजाति या किसी भी अन्य गैर-नागा जनजाति में जाति व्यवस्था नहीं पाई जाती है)

राज्य के रूप में गठन

1,दिसंबर, 1963

जनसंख्या (2011 की जनगणना के अनुसार)   

29.67 लाख

भाषाएँ

अंग्रेजी,हिंदी,अओ,चांग,कोन्यक,अंगामी,सेमा,लोथा,संगतम और चाखेसांग

अर्थव्यवस्था

 नागालैंड की 85% से अधिक जनसंख्या प्रत्यक्ष रूप से कृषि पर निर्भर है

साक्षरता दर (2011 की जनगणना के अनुसार)

74.43%

विधानमंडल

एकसदनीय.

पर्यटन/दर्शनीय स्थल

इसे ‘नाग भूमि’ अर्थात् सर्पों की भूमि भी कहते हैं|माउन्ट सारामती के बाद जाप्फू चोटी(3048 मी.) नागालैंड की दूसरी सबसे ऊँची चोटी है

वर्षा

200- 300 सेमी.(वार्षिक औसत)

त्यौहार/पर्व

कोन्यक आओलिंग और फोम मोन्यु उत्सव,जनवरी में चखेसांग सुकरुन्ये उत्सव और फरवरी में कुकी मिम्कुत व अंगामी सेकरेंयी उत्सव

7. त्रिपुरा:

Jagranjosh

Source : upload.wikimedia.org

त्रिपुरा के बारे में तथ्य:

क्षेत्रफल           

10,492 वर्ग किमी. बोडों की प्राचीन भूमि-त्रिपुरा,भारत का उत्तर-पूर्वी राज्य है जिसकी सीमा बांग्लादेश से मिलती है| इसमें 4 जिले हैं|

राजधानी         

अगरतला

राज्य के रूप में गठन

21,जनवरी,1972

जनसंख्या (2011 की जनगणना के अनुसार)   

36.74 लाख

भाषाएँ

बंगाली,मणिपुरी और काकबोराक

अर्थव्यवस्था

 धान यहाँ की मुख्य खाद्य फसल क्योकि यहाँ की दलदली भूमि उसके अनुकूल है| जूट,कपास और चाय यहाँ की मुख्य नकदी फसलें हैं| गन्ना,सरसों व आलू भी यहाँ उगाये जाते हैं|

साक्षरता दर (2011 की जनगणना के अनुसार)

87.22 %

विधानमंडल

एकसदनीय.

पर्यटन/दर्शनीय स्थल:

उज्जैयंता महल,सेपाहीजला वन्यजीव अभयारण्य,नीर महल(पानी में स्थित महल),जामपुई पहाड़ियाँ,उनाकोती(शैल को काटकर बनाये गए चित्रों की अधिकता) 

वर्षा

224 सेमी.(जून से अगस्त)

त्यौहार/पर्व

गरिया पूजा,खर्ची पूजा,केर पूजा,दुर्गा पूजा(अक्टूबर-नवम्बर),तीर्थमुख(त्रिपुरा की जनजातियों का प्रमुख तीर्थस्थल)