Search

भारत में बैंकिंग क्षेत्र की संरचना

भारतीय रिजर्व बैंक हमारे देश का केंद्रीय बैंक है। यह 1934 के भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम के तहत 1 अप्रैल 1935 को स्थापित किया गया था। अभी तक भारत में 26 सार्वजनिक क्षेत्र के राष्ट्रीयकृत बैंक हैं और 5 भारतीय स्टेट बैंक और उसके सहयोगी बैंक हैं (जिनका अब विलय हो चुका है)। भारत में कुल 92 वाणिज्यिक बैंक हैं। भारत में बैंकों में कुल जमा राशि का 75% सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के पास हैं |
Jun 23, 2016 10:42 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

भारतीय बैंकों को वाणिज्यिक बैंकों और सहकारी बैंकों में वर्गीकृत किया गया है| वाणिज्यिक बैंक में शामिल हैं: 1)अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक (SCBs) और गैर-अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक । अनुसूचित  वाणिज्यिक बैंकों को आगे निजी, सार्वजनिक, विदेशी बैंक और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों (RRBs) में वर्गीकृत किया गया है ; और 2) सहकारी बैंक जिसमें शहरी और ग्रामीण सहकारी बैंक शामिल हैं।

भारतीय बैंकिंग उद्योग ने अपनी नींव 18 वीं सदी में रखी थी , और उसके बाद से इसमें एक विविध विकासवादी अनुभव किया गया है। भारत में प्रारंभिक बैंक मुख्य रूप से व्यापारी बैंक थे जो कि केवल बैंकों की वित्तीय गतिविधियों में संलग्न थे | पूर्व स्वतंत्रता के युग में बैंकिंग उद्योग का विकास  प्रेसीडेंसी बैंकों के साथ हुआ जो बाद में इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया और तत्पश्चात भारतीय स्टेट बैंक में तब्दील हो गए | बैंकिंग उद्योग ने प्रारंभिक दिनों में बहुमत निजी स्वामित्व और एक अत्यधिक अस्थिर काम के माहौल को देखा। सार्वजनिक स्वामित्व और जवाबदेही की दिशा में बड़ी प्रगति 1969 और 1980 में राष्ट्रीयकरण के साथ हुई जिसने भारत में बैंकिंग का स्वरूप ही बदल दिया | हाल के दिनों में इस उद्योग ने इस प्रतिस्पर्धा वाले समय में निजी और विदेशी खिलाड़ियों के महत्व को स्वीकार किया है और इसे अधिक से अधिक उदारीकरण की दिशा में ले जाया गया है।

भारतीय बैंकिंग प्रणाली की संरचना इस प्रकार है:

Jagranjosh

Image Source:emartplan.wordpress.com

दो शताब्दियों में फैले इस रणनीतिक उद्योग के विकास में, संचालन नियमों के सन्दर्भ, स्वामित्व संरचना, उत्पादों तथा पेश की गई सेवायें तथा अभिनियोजित की गई प्रोद्योगिकी में अपार विकास हुआ है |  संपूर्ण विकास को चार अलग चरणों में वर्गीकृत किया जा सकता है।

• प्रथम चरण - पूर्व राष्ट्रीयकरण चरण (1955 के पूर्व  तक)

• द्वितीय चरण- राष्ट्रीयकरण और समेकन  का युग (1955-1990)

• तृतीय चरण -भारतीय वित्तीय और बैंकिंग क्षेत्र में सुधार और  आंशिक उदारीकरण की शुरुआत  (1990-2004)

• चतुर्थ चरण- वृद्धि उदारीकरण की अवधि (2004 के बाद से)

संगठनात्मक संरचना

1. भारतीय रिजर्व बैंक: (RBI)

भारतीय रिजर्व बैंक हमारे देश का केंद्रीय बैंक है। यह 1934 के भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम के तहत  1 अप्रैल 1935 को स्थापित किया गया था | यह बैंकिंग विन्यास में सर्वोच्च स्थान रखता है। भारतीय रिजर्व बैंक विभिन्न विकास और प्रचार कार्य करता है।

RBI को बैंकिंग संरचना की निगरानी तथा नियंत्रित करने का व्यापक अधिकार दिया गया है | यह देश की मौद्रिक और बैंकिंग संरचना में निर्णायक स्थान रखता है। कई देशों में केंद्रीय बैंक को अलग-अलग नामों से जाना जाता है।

उदाहरण के लिए, अमेरिका का फ़ेडरल रिज़र्व बैंक, ब्रिटेन में बैंक ऑफ इंग्लैंड और भारत में भारतीय रिजर्व बैंक, केंद्रीय बैंक को ‘बैंकों के बैंक’ के रूप में जाना जाता है| इनके पास मौद्रिक और ऋण नीतियों को गठित व लागू करने का अधिकार है। इसे देश की सरकार के द्वारा चलाया जाता है तथा टिप्पणियाँ जारी करने की एकाधिकार शक्ति होती है |

वाणिज्यिक बैंक एक संस्था है जो जमा की गई राशि को स्वीकार करते हैं, व्यापार ऋण देना तथा विभिन्न सेवाओं से सम्बंधित प्रस्तावों जैसे जमा की गई राशि को स्वीकार करना और आम ग्राहकों तथा व्यापारियों को उधार ऋण व अग्रिम राशि देने जैसी सेवायें प्रदान करते हैं |

ये संस्थाएं लाभ कमाने के लिए चलाई जा रही हैं| ये उद्योगों तथा अन्य क्षेत्र जैसे कृषि, ग्रामीण विकास आदि की वित्तीय आवश्यकताओं को पूरा करते हैं | ये सरकार या निजी दोनों के स्वामित्व द्वारा चलाई जा रही लाभ कमाने वाली संस्था है |

वाणिज्यिक बैंकों में सार्वजनिक क्षेत्र, निजी क्षेत्र, विदेशी बैंक और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक  शामिल हैं:

3. सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक:

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में एसबीआई के साथ-साथ (21) राष्ट्रीयकृत बैंक शामिल हैं। कुल मिलाकर 26 सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक हैं। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक कुल बैंकिंग कारोबार के 75 प्रतिशत के लिए जवाबदेही हैं तथा  भारतीय स्टेट बैंक सभी वाणिज्यिक बैंकों से सबसे बड़ा वाणिज्यिक बैंक है।

Jagranjosh

4. निजी क्षेत्र के बैंक:

भारत में निजी क्षेत्र के बैंक भारतीय बैंकिंग क्षेत्र के हिस्से का प्रतिनिधित्व करते हैं जोकि दोनों निजी तथा सार्वजनिक क्षेत्र से बना है | "निजी - क्षेत्र के बैंक" वे बैंक हैं  जहां शेयर या इक्विटी की अधिक से अधिक हिस्सेदारी निजी शेयर धारकों के अधिकार में होती हैं तथा सरकार का इन पर कोई अधिकार नहीं होता |

निजी क्षेत्र के बैंकों की सूची है:

बैंक स्थापना वर्ष
1. एक्सिस बैंक (पहले यूटीआई बैंक) 1990 (UTI-1964)
2. बैंक ऑफ पंजाब (वास्तव में एक पुरानी पीढ़ी का निजी बैंक जिसे 1993 के बाद के  नए बैंक लाइसेंस के प्रणाली के तहत स्थापित नहीं किया गया था) 1989 (लाहौर)
3. सेंचुरियन बैंक लिमिटेड (2005 के आखिर  में बैंक ऑफ पंजाब का सेंचुरियन बैंक ऑफ पंजाब में विलय कर दिया गया, जिसे 2008 में एचडीएफसी बैंक लिमिटेड द्वारा अधिग्रहीत किया गया)
1994
4. डेवलपमेंट क्रेडिट बैंक (सहकारी बैंक से परिवर्तित , अब डीसीबी बैंक लिमिटेड है ) 1995
5. आईसीआईसीआई बैंक (पहले आईसीआईसीआई और फिर दोनों का विलय कर दिया, कुल विलय SCICI + आईसीआईसीआई + आईसीआईसीआई बैंक लिमिटेड) 1996
6. इंडसइंड बैंक 1994
7. कोटक महिंद्रा बैंक 2003
8. यस बैंक 2005
9. बालाजी कॉरपोरेशन बैंक लिमिटेड 2010
10. एचडीएफसी बैंक 1994
11. बंधन बैंक 2015
12. आईडीएफसी बैंक 2015

5. विदेशी बैंक:

विदेशी बैंक, अपने घर और अपने मेजबान देशों के नियमों के साथ दायित्वों का पालन करते हैं | इन बैंकों के लिए ऋण सीमा मूल बैंक की पूंजी के आधार पर निर्भर होती है, इसलिए विदेशी बैंकों को अन्य सहायक बैंकों की तुलना में अधिक ऋण प्रदान करने की स्वीकृति दी गई है I

विदेशी बैंक वे बैंक हैं जिनका मुख्य कार्यालय विदेशों में होता है | सिटी बैंक, एचएसबीसी, स्टैंडर्ड चार्टर्ड आदि भारत में विदेशी बैंक के उदाहरण हैं। वर्तमान में भारत में 36 विदेशी बैंक हैं।

Jagranjosh

6. क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक (RRB):

भारत सरकार ने 2 अक्टूबर, 1975 को क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों (RRBs) की स्थापना थी | ये बैंक ग्रामीण क्षेत्रों के कमज़ोर वर्गों, विशेष रूप से छोटे और सीमांत किसानों, खेतिहर मजदूरों, और छोटे उद्यमियों के लिए ऋण प्रदान करते हैं। देश में 82 क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक हैं। NABARD, कृषि और ग्रामीण विकास के क्षेत्र में सर्वोच्च स्थान रखता है। कुछ क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों की सूची नीचे दी गई है:

Jagranjosh

7. सहकारी बैंक:

सहकारी बैंक को 1904 में एक सहकारी अधिनियम कप पारित कर गठित किया गया था | इन्हें  सहयोग तथा आपसी सहायता के सिद्धांतों पर संगठित और प्रबंधित किया जाता है | सहकारी बैंक का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण ऋण प्रदान करना है।

भारत में सहकारी बैंकों ग्रामीण सहकारी वित्त पोषण में आज भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हालांकि, सहकारी ऋण समिति अधिनियम, 1904 के लागू होने से, आंदोलन को वास्तविक प्रोत्साहन मिला था | सहकारी ऋण समिति अधिनियम, 1904 को 1912 में गैर ऋण समितियों के संगठन को सक्षम करने के लिए आधरित व्यापक दृष्टिकोण के साथ संशोधित किया गया था |

Jagranjosh

भारत के कुछ सहकारी बैंकों के नाम हैं :

1. आंध्र प्रदेश राज्य सहकारी बैंक लिमिटेड

2. बिहार राज्य सहकारी  बैंक लिमिटेड

3. छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी बैंक मर्यादित

4. गुजरात राज्य सहकारी बैंक लिमिटेड

5. हरियाणा राज्य सहकारी बैंक लिमिटेड

सहकारी बैंकिंग में तीन स्तरीय संरचनाएं मौजूद हैं:

i. शीर्ष स्तर पर राज्य सहकारी बैंक।

ii. जिला स्तर पर केंद्रीय सहकारी बैंक।

iii. आधार या स्थानीय स्तर पर प्राथमिक सहकारी बैंक |

अनुसूचित और गैर-अनुसूचित बैंक:

अनुसूचित बैंक वे बैंक हैं जो भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम की दूसरी अनुसूची, 1934 में निहित हैं | इन बैंकों के पास प्रदत्त पूंजी होती है और 5 लाख तक का कुल मूल्य का भंडार होता है। इन्हें भारतीय रिज़र्व बैंक को विश्वास दिलाना होता है कि इनके सभी कार्य जमाकर्ताओं के हित में किये जा रहे  हैं |

सभी वाणिज्यिक बैंक (भारतीय और विदेशी), क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, राज्य सहकारी बैंक अनुसूचित बैंक हैं | गैर अनुसूचित बैंक वे बैंक हैं जो भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934 की दूसरी अनुसूची में शामिल नहीं हैं | वर्तमान में इस प्रकार के केवल तीन बैंक ही देश में हैं।