Search

भारत में ब्रिटिश शासन के दौरान विभिन्न शैक्षिक समितियों की सूची

ब्रिटिशों ने शिक्षा के क्षेत्र में एक दोहरी नीति अपनाई जिससे प्राच्य प्रचलित शिक्षा प्रणाली हतोत्साहित हुई और पश्चिमी शिक्षा और अंग्रेजी भाषा को महत्व मिला| यहाँ हम 'भारत में ब्रिटिश शासन के दौरान विभिन्न शैक्षिक समितियों की सूची' दे रहे हैं जिससे छात्रों को यूपीएससी, एसएससी, राज्य सेवाओं, एनडीए, सीडीएस और रेलवे आदि में परीक्षाओं की तैयारी के लिए मदद मिलेगी|
Jul 18, 2016 17:29 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

भारत में ब्रिटिश शासन के दौरान, अंग्रेज केवल  व्यापार और कमाई लाभ के लिए सीमित नहीं थे बल्कि सामाजिक क्षेत्र में भी रुचि थी ,  लेकिन एहतियात बरततें हुए सामाजिक मुद्दों के प्रति उदासीनता थे| यह एक ही कारण था कि वे भारतीय संप्रदाय, सीमा शुल्क और परंपराओं की आलोचना करने में लिप्त थे, जिससे हीन भावना उत्पन्न हुई|

Jagranjosh

ब्रिटिशों ने शिक्षा के क्षेत्र में एक दोहरी नीति अपनाई जिससे प्राच्य प्रचलित शिक्षा प्रणाली हतोत्साहित हुई और पश्चिमी शिक्षा और अंग्रेजी भाषा को महत्व मिला| यहाँ हम 'भारत में ब्रिटिश शासन के दौरान विभिन्न शैक्षिक समितियों की सूची' दे रहे हैं जिससे छात्रों को यूपीएससी, एसएससी, राज्य सेवाओं, एनडीए, सीडीएस और रेलवे आदि में परीक्षाओं की तैयारी के लिए मदद मिलेगी|

भारत में ब्रिटिश शासन के दौरान विभिन्न शैक्षिक समितियों की सूची

वाइसराय

समिति/ कमिशन

वर्ष

अध्यक्ष

उद्देश्य

लॉर्ड रिपन  (1880-1884)

हंटर कमिशन

1882

विलियम हंटर

शिक्षा के क्षेत्र में विकास का अध्ययन करने के लिए

लॉर्ड क्रूजन  (1899-1905)

यूनिवर्सिटी कमिशन

1902

थॉमस  रॉली

विश्वविद्यालयों का अध्ययन करने और सुधारों को लागू करने

लॉर्ड  चेम्सफोर्ड (1916-1921)

कलकत्‍ता यूनिवर्सिटी कमिशन

1917

माइकल सैडलर

विश्वविद्यालय की स्थिति का अध्ययन करने के लिए

लॉर्ड  रीडिंग (1921-1926)

भारतीय सैन्‍य समिति

1923

लॉर्ड इचकैप

केंद्रीय शिक्षा समिति चर्चा करने के लिए

लॉर्ड वावल (1943-1947)

सर्जंट योजना

1944

जॉन सर्जंट

ब्रिटेन जैसी मानक शिक्षा को बढ़ाने के लिए

 

अकाल कमिशंस

लॉर्ड लिटन (1876-1880)

अकाल कमिशन

1880

रिचर्ड स्ट्रेची

अकाल से त्रस्त राहत देने के लिए

 

लॉर्ड एलगिन (1894-1899)

अकाल कमिशन

1897

जेम्‍स ल्‍याल

पहले की रिपोर्टो पर सुझाव देने के लिए 

लॉर्ड क्रूजन (1899-1905)

अकाल कमिशन

1900

एंथोनी मैकडोनल

अकाल रिपोर्ट पर सुझाव देने के लिए

लॉर्ड वावल (1943-1947)

अकाल जांच कमिशन

1943-44

जॉन वुडहूड

बंगाल के अकाल की घटनाओं की जांच करने के लिए

 

आर्थिक समितियां/कमिशंस

लॉर्ड लैंसडाउन (1888-1894)

हार्शेल समिति

1893

हार्शेल

मुद्रा के बारे में सुझाव देने के लिए

लॉर्ड लैंसडाउन (1888-1894)

ओपियम कमिशन

1893

----

स्वास्थ्य पर अफीम के प्रभाव के बारे में जांच करने के लिए

लॉर्ड एलगिन (1894-1899)

हेनरी फॉलर कमिशन

1898

एच. फॉलर

मुद्रा पर सुझाव देने के लिए

लॉर्ड क्रूजन (1899-1905)

सिंचाई कमिशन

1901

सर वोल्विन स्‍कॉट मंकिंस

सिंचाई पर व्यय योजना के लिए

लॉर्ड हार्डिेंगे  (1910-1916)

मैकलागून समिति

1914-15

मैकलागून

सहकारी वित्त की सलाह देने के लिए

 

लॉर्ड इरविन (1926-1931)

लिनलिथगो कमिशन

1928

लिनलिथगो

 

कृषि के क्षेत्र में समस्या का अध्ययन करने  के लिए

 

लॉर्ड इरविन (1926-1931)

व्‍हाइटले कमिशन

1929

जे.एच.व्‍हाइटले

इंडस्ट्रीज और बागानों में श्रमिकों की स्थिति का अध्ययन करने के लिए

लॉर्ड वेलिंग्‍डन (1931-1936)

भारतीय मापन समिति

1935

लैरी हामंड  

  संघीय सभा में श्रम व्यवस्था का समावेश करने के लिए

लॉर्ड लिनलिथगो (1936-1943)

राष्‍ट्रीय योजना समिति

1938

जवाहर लाल नेहरू

आर्थिक योजना तैयार करने के लिए

प्रशासनिक समितियां/कमिशंस

लॉर्ड डफरिन (1884

एटकिन्‍सन कमिशन

1886

चाल्‍र्स्‍ एटकिन्‍सन

सिविल सेवा में और अधिक भारतीयों को शामिल करने के लिए

लॉर्ड क्रूजन  (1899

फ्रेसर कमिशन

1902

फ्रेसर

पुलिस की कार्यप्रणाली की जांच करने के लिए

लॉर्ड हार्डिंगे (1910

सिविल सेवा पर रॉयल कमिशन  

1912

लॉर्ड इस्‍लिंग्‍टन

भारतीयों को 25% उच्च पद देने के लिए

लॉर्ड रीडिंग (1921

रॉयल कमिशन

1924

लॉर्ड ली

सिविल सेवा के दोषों को दूर करने के लिए

लॉर्ड रीडिंग (1921

सैंडहट्र्स  समिति

1926

एंड्रयू स्कीन

भारतीय सेना का भारतीयकरण करने के लिए सुझाव

लॉर्ड इरविन (1926

बटलर समिति

1927

हरकोट बटलर

देशी राज्यों के साथ ताज के संबंध की प्रकृति की जांच के लिए

पूरा अध्ययन सामग्री के लिए लिंक पर क्लिक करें

आधुनिक भारत का इतिहास

मध्यकालीन भारत का इतिहास

प्राचीन भारत के इतिहास

भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन का सारांश

प्रश्न और उत्तर भारतीय इतिहास पर