Search

मानव भूगोल के विरोधाभास

विकास सामाजिक विज्ञान की बहुत ही जटिल अवधारणाओं में से है, क्योंकि यह एक मूल अवधारणा है और एक बार इसे हासिल कर ली जाए तो यह समाज के सभी सामाजिक, सांस्कृतिक और पर्यावरण समस्याओं को संबोधित करेगा| हालांकि, यह एक से अधिक तरीकों से जीवन की गुणवत्ता में महत्वपूर्ण सुधार में लाया लेकिन क्षेत्रीय असमानता, सामाजिक असमानता, भेदभाव, अभाव, लोगों के विस्थापन, मानव अधिकारों के दुरुपयोग और मानवीय मूल्यों और पर्यावरणीय दुर्दशा में भी वृद्धि हुई है|
Jul 26, 2016 14:39 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

विकास सामाजिक विज्ञान की बहुत ही जटिल अवधारणाओं में से है, क्योंकि यह एक मूल अवधारणा है और एक बार इसे हासिल कर ली जाए तो यह समाज के सभी सामाजिक, सांस्कृतिक और पर्यावरण समस्याओं को संबोधित करेगा| हालांकि, यह एक से अधिक तरीकों से जीवन की गुणवत्ता में महत्वपूर्ण सुधार में लाया लेकिन क्षेत्रीय असमानता, सामाजिक असमानता, भेदभाव, अभाव, लोगों के विस्थापन, मानव अधिकारों के दुरुपयोग और मानवीय मूल्यों और पर्यावरणीय दुर्दशा में भी वृद्धि हुई है|

Jagranjosh

शामिल मुद्दों की गंभीरता और संवेदनशीलता को ध्यान में रखते, यूएनडीपी ने अपने मानव विकास रिपोर्ट 1993 में, निहित पूर्वाग्रहों और पूर्वाग्रहों जो विकास की अवधारणा में बाधा डाल रहे थे, की कुछ संशोधन करने की कोशिश की|

लोगों की भागीदारी और उनकी सुरक्षा 1993 की मानव विकास रिपोर्ट में प्रमुख मुद्दों में थे| इसमें मानव विकास के लिए प्रगतिशील लोकतंत्रीकरण और लोगों की बढ़ती सशक्तिकरण के लिए न्यूनतम शर्तों के रूप में  पर बल दिया गया था| रिपोर्ट में शांति और मानव विकास को लाने में 'सिविल सोसायटी' के अधिक से अधिक रचनात्मक भूमिका को मान्यता दी है| नागरिक समाज को सैन्य खर्च में कमी, सशस्त्र बलों के वियोजन, रक्षा से बुनियादी वस्तुओं और सेवाओं के उत्पादन के लिए संक्रमण और विशेष रूप से रक्षा से विकसित देशों द्वारा परमाणु हथियार में कमी,  के जैसे राय के निर्माण के लिए काम करना चाहिए। एक धर्मनिरपेक्षित दुनिया में, शांति और खुशहाली एक प्रमुख वैश्विक चिंता के विषय हैं|

नव-मलथुसिांस  के अनुसार, पर्यावरणविदों और कट्टरपंथी परिस्थिति, एक खुश और शांतिपूर्ण सामाजिक जीवन व्यतीत करने के लिए जनसंख्या और संसाधनों के बीच  उचित संतुलन होना एक आवश्यक शर्त है|  इन विचारकों की वकालत है की संसाधनों और आबादी के बीच की दूरियां अठारहवीं सदी के बाद बढ़ गई है|  पिछले तीन सौ वर्षों में दुनिया के संसाधनों में मामूली वृद्धि हुआ है, लेकिन मानव आबादी में अभूतपूर्व वृद्धि हुई है। विकास ने केवल दुनिया के सीमित संसाधनों के कई उपयोगों की वृद्धि में योगदान दिया है जबकि इन संसाधनों के लिए मांग में भारी वृद्धि हुई है|  इसलिए, किसी भी विकास गतिविधि से पहले मुख्य कार्य जनसंख्या और संसाधनों के बीच समानता बनाए रखने का है|

सर रॉबर्ट माल्थस पहले विद्वान थे जिन्होने बढ़ती मानव आबादी की तुलना में संसाधनों की बढ़ती कमी पर अपनी चिंता जताई थी। जाहिर तौर पर इस तर्क तार्किक और ठोस था, लेकिन एक समालोचनात्मक नज़रिए से देखने पर इस में कुछ आंतरिक खामियों जैसे संसाधन रूप में एक तटस्थ वर्ग नहीं है प्रकट होगा। सामाजिक वितरण के रूप में संसाधनों की उपलब्धता होना महत्वपूर्ण नहीं है|  संसाधन हर जगह असमान रूप से वितरित हो रहे हैं| अमीर देशों और उसके लोगों को बड़ी संसाधन टोकरियों की पहुंच है जबकि गरीब लगाने के लिए संसाधनों की कमी होती जा रही है| इसके अलावा, शक्तिशाली द्वारा ज्यादा से ज्यादा संस्थानों के नियंत्रण के लिए अंतहीन खोज और इसके उपयोग से लोगों का कौशल का प्रदर्शन ही आबादी संसाधन और विकास के बीच स्पष्ट विरोधाभास का मुख्य कारण है|

भारतीय संस्कृति और सभ्यता जनसंख्या, संसाधन और विकास के मुद्दों के लिए एक लंबे समय बहुत ही संवेदनशील रहा है| यह कहना गलत नहीं होगा की प्राचीन शास्त्र अनिवार्य रूप से प्रकृति के तत्वों के बीच संतुलन और सद्भाव के बारे में चिंतित थे|

महात्मा गांधी ने सद्भाव और संतुलन दोनों के बीच सुदृढीकरण की वकालत की। वह इस बारे में काफी आशंकित थे जिस तरह से औद्योगीकरण को संस्थागत, नैतिकता, आध्यात्मिकता, आत्मनिर्भरता, अहिंसा और आपसी सहयोग और पर्यावरण को  नुकसान  हो गया है|  उनकी राय में, व्यक्तिगत तपस्या, सामाजिक धन के न्यासिता, और अहिंसा एक राष्ट्र और एक व्यक्ति के जीवन में उच्च लक्ष्यों को पाने के लिए के रूप में रूप में महत्वपूर्ण हैं| उनके विचार क्लब ऑफ रोम रिपोर्ट "विकास के लिए सीमा" (1972), शूमाकर की पुस्तक "स्मॉल इस बेऔतिफुल" (1974), ब्रुंडत भूमि आयोग की रिपोर्ट "हमारे साझे भविष्य" (1987) और अंत में एजेंडा -21 की रिपोर्ट " रियो सम्मेलन "(1993) फिर से गूंजे।