Search

राजनाथ सिंह

राजनाथ सिंह का जन्म 10 जुलाई 1951 को हुआ था.वह भारत के प्रमुख राजनीतिज्ञ है
Apr 21, 2014 18:31 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

Rajnath Singh

राजनाथ सिंह का जन्म 10 जुलाई 1951 को हुआ था.वह भारत के प्रमुख राजनीतिज्ञ है. वर्तमान में वे भारतीय जनता पार्टी के रास्ट्रीय अध्यक्ष है. उन्होंने अपना जीवन एक भौतिकी के प्रोफेसर के तौर पर शुरू किया था।

पारिवारिक विवरण-

राजनाथ सिंह का जन्म उत्तर प्रदेश के चंदौली जिले के भाभौरा गाँव में हुआ था। वे राजपूत परिवार से सम्बन्ध रखते है। उनके पिता का नाम राम बदन सिंह और माता का नाम गुअरती देवी था।

आजीविका-

राजनाथ सिंह ने अपने प्रारम्भिक शिक्षा गाँव में प्राप्त की थी, उसके बाद उन्होंने अपनी भौतिकी में M.Sc. की शिक्षा उत्तर प्रदेश के गोरखपुर विश्वविद्यालय से पूरी की। उन्होंने भौतिकी के लेक्चरर के रूप में उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर के  के.बी परा-स्नातक महाविद्यालय में अध्यापन का कार्य किया. वे अपने विद्यार्थी जीवन में न केवल एक बेहतरीन विद्यार्थी थे बल्कि रास्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सक्रिय कार्य करता भी थे। सन 1972 में वे मिर्जापुर में  रास्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सामान्य सचिव बनाये गए। 1969-1971 की अवधि  में वे गोरखपुर में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के संगठन सचिव भी रहे। उन्होंने राजनीति में 1975 में प्रवेश किया और अल्प काल के लिए मिर्जापुर में भारतीय जाना संघ के सचिव भी बनाये गए । वर्ष 1975 में वे भारतीय जन संघ के अध्यक्ष बने और जय प्रकाश आन्दोलन के जिला संयोजक भी बनाये गए । वर्ष 1977 में वे उत्तर प्रदेश राज्य के विधान सभा चुनाव में एम.एल.ए. भी चुने गए।

प्रोफेशन-

• वर्ष 1983 में वे उत्तर प्रदेश के राज्य सचिव बनाये गए और 1984 में भारतीय जनता पार्टी में युवाओ के राज्य अध्यक्ष बनाये गए । वर्ष 1986 में वे बी.जे.वाई.एम. के रास्ट्रीय सचिव बने और तत्पश्चात 1988 में इस संस्था के रास्ट्रीय अध्यक्ष बनाये गए।
• वे 1988 में उत्तर प्रदेश विधान परिषद् के एम.एल.सी. चुने गए और 1991 में शिक्षा मंत्री बने. उन्होंने अपने शिक्षा मंत्रित्व काल में कुछ एतिहासिक कार्य भी किया। जैसे एन्टी-कापियिंग एक्ट का क्रियान्वयन और पाठ्यक्रमो में वैदिक गणित का समावेशन करना। साथ ही इतिहास की पुस्तको में परिवर्तन की प्रक्रिया और कई भागो को संग्रहित करने का नियम।
• वर्ष 1994 में वे राज्य सभा के सदस्य के रूप में चुने गए और राज्य सभा में भारतीय जनता पार्टी के प्रमुख  व्हिप बनाये गए।
• 25 मार्च 1997 को वे उत्तर प्रदेश में  बी.जे.पी. के राज्य अध्यक्ष बनाये गए। अपने कार्यकाल में उन्होंने पार्टी को अधिक शक्तिशाली और जुझारू बनाया साथ ही राज्य में भारतीय जनता पार्टी की सरकार को दो बार राजनितिक संकट की स्थिति से उबारा भी।
• 22 नवम्बर1999  में वे भूतल परिवहन मंत्री बने । अपने इस पद पर रहते हुए उन्होंने प्रधान मंत्री अटल बिहारी बाजपेयी के प्रधान्मंत्रित्व काल में राष्ट्रीय महामार्ग विकास कार्यक्रम को पूरा किया।
• 28 अक्टूबर 2000 को वे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने और बाराबंकी के हैदरगढ़ बिधान सभा क्षेत्र से दो बार एम.एल.ए. चुने गए । वर्ष 2002 में वे  भारतीय जनता पार्टी के रास्ट्रीय महासचिव बनाये गए।
• 24 मई 2003 को वे केंद्र में कृषि मंत्री बनाये गए तत्पश्चात खाद्य प्रसंस्करण मंत्री. इस दौरान इन्होने कुछ कालजयी कार्यक्रमों को भी प्रारंभ किया।
• 2004 में वे भारतीय जनता पार्टी के रास्ट्रीय महासचिव नियुक्त किये गए ।
• 31 दिसम्बर 2005 को वे भारतीय जनता पार्टी के रास्ट्रीय अध्यक्ष बनाये गए।

उपलब्धियां-

• वर्ष 1992 में शिक्षा मंत्री रहते हुए उन्होंने एन्टी-कॉपी एक्ट को पास करवाया।
• वर्ष 1998 में वे जब भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष पद पर थे तो उस दौरान भारतीय जनता पार्टी ने लोक सभा चुनाव में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए 58 सीटें और दो सहयोगी सीटें हासिल की थी।
• भूतल परिवहन मंत्री के रूप में उन्होंने अटल बिहारी वाजपेई के ड्रीम प्रोजेक्ट रास्ट्रीय राजमार्ग विकास को पूरा किया था जोकि उत्तर-दक्षिण गलियारा और स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना का अंग था।
• भूतल परिवहन मंत्री के रूप में वर्ष 2000 में उन्होंने यूरो मानक II का नाम परिवर्तित करते हुए भारत राज्य II रखा जोकि वर्तमान  में बी.एस.-3 और बी.एस.-4 के नाम से जाना जाता है
• जब वे कृषि मंत्री थे तो उन्होंने कृषि ऋण को 14%-18% से कम करके 8% कर दिया था। इसके अलावा उन्होंने फार्मर कमिसन को मान्यता प्रदान की. साथ ही किसानो के लिए इनकम इन्शुरेन्स स्कीम की शुरुआत की।
• अपने रास्ट्रीय अध्यक्ष रहने के दौरान उन्होंने भारतीय जनता पार्टी द्वारा सत्तासीन राज्यों को यह कहा की इन राज्यों को किसानो को 1% ब्याज की दर पर कृषि ऋण देना चाहिए और तत्काल उसे कार्यरूप दिया जाना चाहिए।
• इन्ही के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहने के दौरान  भारतीय जनता पार्टी पहली बार दक्षिण भारत में सत्ता में आई है।
• इन्ही के कार्यकाल में पार्टी प्रशासन ने महिलाओ को पार्टी के संगठित ढांचे  में 33% सीटें देने का वादा किया था और इस तरह भारत की पहली राजनितिक पार्टी बन गयी।

किताबे-

जब वे.बी.जे.वाई.एम. के रास्ट्रीय अध्यक्ष थे तो इन्होनो बेरोजगारी पर एक किताब लिखी है,जिसका शीर्षक है `इट्स रीज़न एंड रेमेडी`
वर्तमान खबर- कुछ ही दिनों पहले उनके एक सूफी संत की दरगाह पर गए एक विडियो क्लिप और फोटोग्राफ जिसमे की उन्हें एक नरमुंड पहने दिखाया गया है जोकि 17 अप्रैल 2014 को वाइरल हो गया था पर शिया नेता मौलाना कल्बे जवाद ने कहा था की इनका व्यक्तित्व अटल बिहारी वाजपेयी की तरह उदियमान है।

राहुल गाँधी

लाल कृष्ण आडवाणी

नरेंद्र मोदी

अरविंद केजरीवाल