Search

सिंचाई

सिंचाई मिट्टी या जमीन के लिए पानी का एक बेहतरीन अनुप्रयोग है.
Aug 28, 2014 18:17 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

सिंचाई मिट्टी या जमीन के लिए पानी का एक बेहतरीन अनुप्रयोग है. यह कृषि फसलों, मरुस्थलीय क्षेत्रों में अच्छी तरह से नमी को कायम रखने में मृदा और वनस्पति की मदद करता है. इसके अलावा सिंचाई कृषि के उत्पादन में भी मदद करता है और शीतकाल में पाला के खिलाफ पौधों की रक्षा भी करता है. साथ ही मृदा अपरदन को रोके रखता है और मृदा के संगठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. इसके अलावा जो भूमि बिना वर्षा के कृषि उप्तादन में सक्षम होती है उसे शुष्क भूमि खेती के रूप में जाना जाता है. कृषि में व्यापक उत्पादन को प्राप्त करने के लिए जल की व्यापक आवश्यकता होती है. सिंचाई सुविधाओं की उपलब्धता हमारे देश में अत्यंत अपर्याप्त है जिसकी वजह से कृषि उत्पादन को अनेक समस्याओ का सामना करना पड़ता है.

भारतीय संदर्भ में सिंचाई के महत्व का कारण:

• अनिश्चित, अपर्याप्त और अनियमित वर्षा का होना.
• विविध प्रकार की फसल पद्धति का पाया जाना. जिन्हें अत्यधिक मात्रा में जल की आवश्यकता होती है.
• सिंचित भूमि पर उन्नत उत्पादन.
• नई कृषि पद्धति में सिंचाई की भूमिका:
• उच्च उत्पादनकारी बीज की उपस्थिति जिसे अधिक मात्र में जल की आवश्यकता होती है जिससे उत्पादन के उच्च स्तर को बनाये रखा जा सके.
• खेती के अंतर्गत अधिक भूमि के आने की प्रक्रिया का लगातार होना. भूमि उपयोग की जानकारी के लिए सरकारी स्तर पर पूरी रिपोर्टिंग के अनुसार वर्ष 2008 में 305690000 हेक्टेयर भूमि पर कृषि होती थी. इसके 17020000 हेक्टेयर भूमि पर न तो कृषि होती थी और न ही यह भूमि उपजाऊ थी.10,320,000 हेक्टेयर भूमि बंजर भूमि थी जबकि 14540000 हेक्टेयर भूमि वर्तमान में परती भूमि के रूप में मौजूद है.
• उत्पादन स्तर में अस्थिरता को कम करना.

और जानने के लिए पढ़ें:

कृषि: भूमि सुधार

भारत में संविधान सभा का निर्माण

संविधान से पूर्व पारित अधिनियम