Search

1857 के विद्रोह के सम्बंधित ब्रिटिश अधिकारियों की सूची

ब्रिटिश अधिकारियों ने संसाधनों में बढ़ोत्तरी की और विद्रोह को दबाने में सफल रहे। उनके पास विशाल संसाधनों की व्यवस्था थी और परिवहन और संचार के तेजी से तरीकों से उन्हें ओर मदद मिल जाती थी । हम यहाँ 1857 के विद्रोह के साथ सम्बंधित ब्रिटिश अधिकारियों की सूची दे रहे है जिससे आकांक्षी आराम से जान सकते है।
Jul 11, 2016 17:51 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

ब्रिटिश अधिकारियों ने संसाधनों में बढ़ोत्तरी की और विद्रोह को दबाने में सफल रहे। उनके पास विशाल संसाधनों की व्यवस्था थी और परिवहन और संचार के तेजी से तरीकों से उन्हें ओर मदद मिल जाती थी हम यहाँ 1857 के विद्रोह के साथ सम्बंधित ब्रिटिश अधिकारियों की सूची दे रहे है जिससे आकांक्षी आराम से जान सकते है।  

1857 के विद्रोह के सम्बंधित ब्रिटिश अधिकारियों की सूची

ब्रिटिश अधिकारी  

स्थान

जनरल जॉन निकोल्सन

20  सितंबर 1857 को दिल्ली पर कब्जा कर लिया (निकोल्सन जल्द ही लड़ाई के दौरान प्राप्त एक नश्वर घाव के कारण मृत्यु हो गई)।

मेजर हडसन

इनके द्वार दिल्ली में बहादुर शाह के बेटे और पोते मारे गिये थे।

सर ह्यूग व्हीलर

26  जून तक नाना साहब की सेना के खिलाफ रक्षा, 1857 ब्रिटिश सेना इलाहाबाद के लिए सुरक्षित आचरण का वादा किया था पर 27 तारीख  पर आत्मसमर्पण कर दिया।

जनरल नील

जून 1857 में बनारस और इलाहाबाद पर पुनः कब्जा। कानपुर में उन्होंने नाना साहब की सेना द्वारा अंग्रेजी की हत्या के खिलाफ बदला लेने के रूप में भारतीयों को मार डाला। लखनऊ में निधन हो गया, जबकि विद्रोहियों के खिलाफ लड़ रहे हैं।

सर कॉलिन कैंपबेल

6 दिसम्बर 1857 को  कानपुर से अंतिम वसूली, 21 मार्च 1858 लखनऊ में अंतिम पुनराधिपत्य, 5 मई 1858 को बरेली   में पुनर्ग्रहण, ।

हेनरी लॉरेंस

अवध के मुख्य आयुक्त थे , जो 2 जुलाई 1857 को लखनऊ में विद्रोहियों द्वारा ब्रिटिश रेजीडेंसी की जब्ती के दौरान मृत्यु हो गई!

मेजर जनरल हैवलॉक

17 जुलाई को विद्रोहियों  (नाना साहिब की सेना ) को हराया, 1857 दिसंबर 1857 में लखनऊ में निधन हो गया।

विलियम टेलर और नेत्र

अगस्त 1857 में आरा में विद्रोह को दबाया था |

ह्यूग गुलाब

झांसी में विद्रोह को दबा दिया और 20 जून को ग्वालियर पर पुनः कब्जा, 1858 मध्य भारत और बुंदेलखंड के पूरे उसके द्वारा अंग्रेजों के नियंत्रण में लाया गया था।

कर्नल ओंस्ल

बनारस पर कब्जा कर लिया।

पूरा अध्ययन सामग्री के लिए लिंक पर क्लिक करें