Search

मादक पेय के प्रकार और उपयोग

मादक पेय एक किण्वित शराब (fermented liquor) होती है जो विभिन्न प्रकार के किण्वित पदार्थ की संरचना द्वारा तैयार की जाती है| विभिन्न प्रकार की वाइन में शराब की मात्रा भिन्न होती है| इसमें मादक पेय के प्रकार और उसके उपयोग के बारे में अध्ययन करेंगें |
Feb 7, 2017 10:07 IST

मादक पेय एक किण्वित शराब (fermented liquor) होती है जो विभिन्न प्रकार के किण्वित पदार्थ की संरचना द्वारा तैयार की जाती है और विभिन्न प्रकार की वाइन में शराब की मात्रा भिन्न होती है। वाइन विभिन्न प्रकार की होती हैं जैसे बीयर, शैम्पेन, साइडर, पोर्ट और शेरी, व्हिस्की, रम, ब्रांडी और जिन आदि। बीयर में भी शराब की मात्रा बहुत कम होती है, जबकि रम में यह मात्रा अत्यंत उच्च है, और इन सब में शैम्पेन सबसे महंगी शराब है।

fermented liquor

मादक पेय के प्रकार (Types of Alcoholic Beverages):

मोटे तौर पर, मादक पेय को दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है: 

आसुत (Distilled) पेय; अनासुत (Undistilled) पेय:

पीएच (pH) स्केल की संकल्पना और महत्व                                   

आसुत पेय पदार्थ (Distilled beverage): इस प्रकार के पेय पदार्थ बिना आसुत पेय के आसवन द्वारा तैयार किया जाता हैं और इसमे शराब की मात्रा अलग-अलग  (40-55) %  होती है। जैसे नीचे दिया गया है;

Distilled beverage

% of alcohol   

Sources

व्हिस्की

(40-50) %        

जौ

रम  

(45-55) %        

गन्ना 

ब्रांडी    

 (40-50) %        

अंगूर

जिन  

(35-40) %        

मक्का

अनासुत पेय पदार्थ (Undistilled beverage): इस प्रकार के पेय पदार्थ फलों के रस या अनाज के किण्वन और किण्वित द्रव के निस्पंदन द्वारा तैयार किये जाते हैं और कुछ चाहा हुआ स्वाद ; रंग और इत्र इसमे मिलाया (intermixed) जाता है । शराब की मात्रा (3-15)% भिन्न होती हैं जैसे नीचे दिया गया है:

Undistilled beverage   

% of alcohol

Sources

बियर  

(3-6) %              

जौ

शैंपेन                    

(10-15)%          

अंगूर 

पोर्ट एवं शेरी                   

(15-25) %         

अंगूर

साइडर                     

(2-6) %               

सेब

शराब (मादक पेय) का उपयोग: अल्कोहॉल वाले पेय पदार्थों में शब्द "शराब" को इथेनॉल (CH3 CH2 OH)  के लिए संदर्भित किया जाता है।

औद्योगिक मिथाइलयुक्त स्पिरिट्स: इथेनॉल को आमतौर पर औद्योगिक मिथाइलयुक्त स्पिरिट्स के रूप में बेचा जाता है, जो कि इथेनॉल मे मेथनॉल की एक छोटी मात्रा है और संभवतः कुछ रंग भी मिलाया जाता है। क्योंकि मेथनॉल जहरीला होता है,  औद्योगिक मिथाइलयुक्त स्पिरिट्स पीने के लिए अयोग्य होता है, मादक पेयों पर लगाए जाने वाले उच्च करों से बचने के लिए खरीदारों को इसे खरीदने की अनुमति हैं।

एक ईंधन के रूप में इथेनॉल के उपयोग: इथेनॉल कार्बन डाइऑक्साइड और पानी का उत्पादन करने के लिए जलता है, जैसै नीचे समीकरण में दिखाया गया है और अपने नियमानुसार या पेट्रोल (गैसोलीन) के साथ मिश्रित होने पर ईंधन के रूप में इस्तेमाल किया जाता है ।

CH3CH2OH+3O2→2CO2+3H2O

गैसोहोल ( "Gasohol")  एक पेट्रोल/इथेनॉल का मिश्रण है जिसमे लगभग 10-20% इथेनॉल है । क्योंकि इथेनॉल किण्वन द्वारा उत्पादित किया जा सकता है, यह बिना तेल के उद्योग वाले देशों के लिए पेट्रोल आयात की मात्रा को कम करने के लिए एक उपयोगी तरीका है।

एसिड (अम्ल): संकल्पना, गुण और उपयोग

एक विलायक के रूप में इथेनॉल (Ethanol as a solvent): इथेनॉल एक विलायक के रूप में व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाता है। यह अपेक्षाकृत सुरक्षित है और कई अघुलनशील कार्बनिक यौगिकों को पानी में घोलने के लिए इस्तेमाल किया जाता है । यह उदाहरण के लिए, कई इत्रों और सौंदर्य प्रसाधनों में भी प्रयोग किया जाता है।

मेथनॉल ईंधन के रूप में (Methanol as a fuel): जब मेथनॉल जलता है तो कार्बन डाइऑक्साइड और पानी निकलता है, जैसे कि सूत्र मे दिया गया है :

2CH3OH+3O2→2CO2+4H2O

यह एक पेट्रोल योगज के रूप में दहन सुधारने के लिए उपयोग हो सकता है, और अपने नियमानुसार एक ईंधन के रूप में इसका उपयोग जाँच के अंतर्गत भी आता है।

एक औद्योगिक फीडस्टॉक के रूप में मेथनॉल (Methanol as an industrial feedstock) : मेथनॉल अन्य यौगिकों के निर्माण के लिए भी प्रयोग किया जाता है उदाहरण के लिए, मेथानल फोर्मल्डीहाईड (methanal) (formaldehyde), इथेनोइक  (ethanoic) एसिड, और विभिन्न एसिड के मिथाइल इस्टर्स(esters) । ज्यादातर मामलों में, ये बाद में और भी उत्पादों में परिवर्तित हो जाते हैं।

शराब से संबंधित तथ्य (Terms related to alcohol):

काष्ठ स्पिरिट (Wood spirit): मिथाइल अल्कोहल को काष्ठ स्पिरिट भी कहा जाता है क्योंकि प्रारंभिक चरण में यह काष्ठ के ध्वंसात्मक आसवन द्वारा प्राप्त की गई थी।

अनाज शराब (Grain alcohol): इथायल (Ethyl) अल्कोहल को अनाज शराब भी कहा जाता है क्योंकि यह स्टार्च समृद्ध पदार्थो द्वारा प्राप्त किया जाता है।

पूर्ण शराब (Absolute alcohol): वह शराब जो 100% शुद्ध हो उसे पूर्ण शराब कहते है और यह पूरी तरह से शुद्ध और अनहाइड्रेट (anhydrate) होता है।

परिशोधित स्प्रिट (Rectified spirit): यह वाणिज्यिक शराब भी कहलाता है जिसमें 95.6% इथायल (ethyl) शराब और 4.4% पानी मौजूद होता है।

शक्ति शराब (Power alcohol): शुद्ध स्पिरिट, बेंजीन और पेट्रोल के मिश्रण को शक्ति शराब कहा जाता है और यह इंजन को बढ़ाने या चलाने में प्रयोग किया जाता है। चूंकि यह सीधे इंजन को चलाने वाले शक्ति से संबंधित है इसलिए इसे शक्ति शराब कहा गया है।

विकृत शराब (Denatured alcohol): इथायल (ethyl) अल्कोहल जो पेय के प्रयोजनों के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है इसीलिए इसे विकृत शराब कहते है। आमतौर पर शराब के इस प्रकार को प्राप्त करने के लिए शुद्ध स्पिरिट में, मिथाइल अल्कोहल, पीरीडीन (piridin), एसीटोन आदि प्रकार के विषाक्त पदार्थ मिलाए जाते हैं।

उत्प्रेरण (Catalysis): परिभाषा, वर्गीकरण एवं उदाहरण