अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के (IMF) बारे में 14 परीक्षोपयोगी महत्वपूर्ण तथ्य

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) और अंतर्राष्ट्रीय पुनर्निर्माण और विकास बैंक (IBRD) की स्थापना जुलाई 1944 में ब्रेटन वुड्स, न्यू हैम्पशायर, यूएसए में आयोजित 44 देशों के सम्मेलन में की गयी थी. अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) और आईबीआरडी की स्थापना एक ही समय और जगह पर हुई थी; इस कारण इन दोनों को ब्रेटन वुड्स ट्विन्स के रूप में जाना जाता है.

इस लेख में हमने IMF के बारे में महत्वपूर्ण तथ्यों को संकलित किया है जो कि भारत में आयोजित होने वाली सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण हैं.

1. संस्थापक सदस्य: 44 देश. भारत IMF का संस्थापक सदस्य देश है.

2. कुल सदस्य: 189 देश. आम तौर पर IMF का हर सदस्य देश विश्व बैंक का सदस्य बन जाता है. इसी तरह IMF छोड़ने वाला देश स्वचालित रूप से(automatically) विश्व बैंक से निकाल दिया जाता है.
3. मुख्यालय: वाशिंगटन, डी.सी.

4. प्राथमिक उद्देश्य;
(a). दुनिया में विनिमय स्थिरता को बढ़ावा देना
(b). अंतरराष्ट्रीय मौद्रिक सहयोग को बढ़ावा देना
(c). अंतरराष्ट्रीय व्यापार का विस्तार और संतुलित विकास को सुविधाजनक बनाना
(d). भुगतान की बहुपक्षीय प्रणाली की स्थापना में सहायता करना
(e). भुगतान संतुलन की कठिनाइयों का सामना करने वाले सदस्य देशों को भुगतान असंतुलन को ठीक करने के लिए संसाधन उपलब्ध कराना.

5. प्रकाशन: वर्ल्ड इकनोमिक आउटलुक, वैश्विक वित्तीय स्थिरता रिपोर्ट (Global Financial Stability Report), वित्तीय निगरानी (Fiscal Monitor), क्षेत्रीय आर्थिक रिपोर्ट (Regional Economic Reports).

6.कार्यकारी बोर्ड: IMF के कार्यकारी बोर्ड में 24 कार्यकारी निदेशक (Executive Directors) होते हैं.कार्यकारी निदेशक भौगोलिक दृष्टि से आधारित रोस्टर प्लान के तहत सभी 189 देशों का प्रतिनिधित्व करते हैं.

प्रत्येक सदस्य देश, गवर्नर बोर्ड की बैठकों में भाग लेने के लिए 2 गवर्नर नामित करता है. आम तौर पर सदस्य देश के वित्तमंत्री IMF बैठकों में गवर्नर के पद का प्रतिनिधित्व करता है लेकिन यदि वित्तमंत्री अनुपस्थित है तो RBI का गवर्नर उसकी जगह लेता है.

7. कर्मचारी: 150 देशों से लगभग 2,700 कर्मचारी

8. कुल कोटा: SDR- 477 बिलियन (US$- 692 बिलियन)

9. विशेष आहरण अधिकार आवंटन: SDR का कुल वैश्विक आवंटन 204 अरब SDR या (US$-296 बिलियन)

10. SDR बास्केट: SDR का मूल्य 5 मुद्राओं की टोकरी द्वारा निर्धारित किया जाता है. इसमें शामिल मुद्राएँ हैं; यूरो, यूएस डॉलर, जापानी येन, चीनी युआन और पाउंड स्टर्लिंग. चीनी युआन को अक्टूबर 2016 में SDR टोकरी में 5वीं मुद्रा के रूप में शामिल किया गया था.

11. मुद्रा भार : SDR का मूल्य निर्धारित करने में सबसे अधिक भार अमेरिकी डॉलर (41.73%) का है, इसके बाद यूरो (30.93%) का नम्बर आता है.

12. SDR कोटा: वर्तमान में IMF में भारतीय कोटा 2.76%(SDR कोटा) है. संयुक्त राज्य अमेरिका का कोटा सबसे अधिक 17.46% का सबसे बड़ा कोटा है जिसके बाद जापान (6.48%) और चीन (6.41%) का नंबर आता है.

13. उधार क्षमता: IMF अपने सदस्य देशों को लगभग $ 1 ट्रिलियन डॉलर उधार देने में सक्षम है.
14. सबसे बड़े उधारकर्ता: ग्रीस, यूक्रेन, पाकिस्तान और मिस्र

IMF की स्थापना, अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक सहयोग के लिए एक ढांचा बनाने के लिए की गई थी. यह संगठन अपने कुछ उद्येश्यों को प्राप्त करने में कुछ सफल जरूर रहा है लेकिन इस संस्था पर अमीर देशों का कब्ज़ा ज्यादा है क्योंकि इसके कोटे में इन अमीर देशों की भागीदारी ज्यादा है. शायद यही कारण है कि IMF के प्रबंध निदेशक के पद पर अब तक केवल यूरोपीय लोगों की नियुक्ति की गयी है.

ऊपर लिखे गए सभी तथ्य परीक्षा उन्मुख हैं; और भारत में पिछले वर्षों में आयोजित परीक्षाओं में कई सवाल इन्हीं तथ्यों के आधार पर पूछे गए हैं. इसलिए इन सभी तथ्यों को ध्यान से पढने की जरुरत है.

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ): उद्देश्य और दायित्व

भारतीय अर्थव्यवस्था पर सामान्य ज्ञान क्विज: अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष

Continue Reading
Advertisement

Related Categories

Popular