खगोलीय और मेट्रोलॉजिकल मौसम में क्या अंतर हैं

मौसम वातावरण के पैटर्न या यु कहे दशा को व्यक्त करने के लिये प्रयोग किया जाता है। दुसरे शब्दों में, पृथ्वी के वातावरण के पैटर्न या दशा प्रभावित करने वाली घटनाएं क्षोभ मंडल (ट्रोपोस्फीयर) में होती है तो यहाँ के वातावरण में बदलाव होता है। मौसम दैनंदिन तापमान और वर्षा गतिविधि को संदर्भित करता है जबकि जलवायु लम्बी समयावधि में औसत वायुमंडलीय स्थितियों के लिए शब्द है। यह एक क्षणिक घटना है। जब पृथ्वी सूर्य की परिक्रमा कर रही होती है तो पृथ्वी की स्थिति के परिणाम सामने आते हैं और यह पृथ्वी के अक्षीय झुकाव के सापेक्ष होता है।

खगोलीय मौसम

हर कोई इस मौसम से परिचित है क्योंकि यह हमारे कैलेंडर पर सूचीबद्ध है। इसे खगोलीय कहा जाता है क्योंकि सूर्य के संबंध में पृथ्वी की स्थिति के आधार पर ऋतु की घटनाओं को सूचीबद्ध किया गया है। पृथ्वी पर अनुभवी खगोलीय मौसम के चार प्रकार हैं जो नीचे दिए गए हैं:

1. शीत ऋतु या सर्दी: पृथ्वी की धुरी अपनी कक्षा से 23.5 डिग्री झुकी हुई है, जिसके कारण ही ग्रह की सतह पर मौसमी विविधताये (ऋतुएँ) पाई जाती हैं। सूर्य की परिकर्मा के दौरान, पृथ्वी सूर्य से सबसे दूर चली जाती है। परिणामस्वरूप, दक्षिणी अक्षांशों को सूर्य के प्रकाश का अधिकतम प्रभाव मिलाता है। इस मौसम या ऋतु की शुरुवात लगभग 21-22 दिसम्बर के आस पास होती है।

2. वसंत ऋतु: जैसा कि हम जानते हैं कि पृथ्वी अपने अक्ष से 23.5 डिग्री झुकी हुई है और सूर्य की परिकर्मा के दौरान, हमारा ग्रह सूर्य से एक समबाहु और सूर्य का प्रकाश से भूमध्य रेखा पर सीधे पड़ता है। यह 21-22 मार्च को शुरू होता है।

3. ग्रीष्म ऋतु: जब उत्तर अक्षांशों पर सीधे सूर्य का प्रकाश पड़ता है तो इस ऋतु की शुरुवात होती है। यह 20-21 जून को शुरू होता है।

4. पतन या फॉल: पृथ्वी का झुका हुआ भाग सूर्य के सामने आ जाता है तो इस ऋतु की शुरुवात होती है। यह 21-22 सितंबर को शुरू होता है।

कार्बन फर्टिलाइजेशन या कार्बन निषेचन से फ़ासल उत्पादन पर कैसे प्रभाव पड़ता है?

मेट्रोलॉजिकल मौसम

मेट्रोलॉजिकल मौसम को तापमान में भिन्नता के आधार पर सूचीबद्ध किया जाता है। इसके अनुसार, चार प्रकार के मौसम होते हैं, जिन्हें कैलेंडर के तीन महीने की अवधि में वर्गीकृत किया जाता है:

1. शीत ऋतु या सर्दी: यह दिसंबर के पहले सप्ताह से शुरू होता है और फरवरी के अंतिम सप्ताह में समाप्त होता है।

2. वसंत ऋतु: यह मार्च के पहले सप्ताह से शुरू होता है और मई के अंतिम सप्ताह में समाप्त होता है।

3. ग्रीष्म ऋतु: यह जून के पहले सप्ताह से शुरू होता है और अगस्त के अंतिम सप्ताह में समाप्त होता है।

4. पतन या फॉल: यह सितंबर के पहले सप्ताह से शुरू होता है और नवंबर के अंतिम सप्ताह में समाप्त होता है।

इसलिए, हम कह सकते हैं कि खगोलीय मौसम, मौसम को परिभाषित करने का एक पारंपरिक तरीका है, जबकि मेट्रोलॉजिकल मौसम तापमान भिन्नता पर आधारित होते हैं। वास्तव में, मौसमी भिन्नता केवल तापमान में भिन्नता का अनुभव कर सकती है, जो पृथ्वी की स्थिति पर भी आधारित है, लेकिन अन्य जलवायु घटना भी मौसमी के साथ-साथ तापमान भिन्नता के लिए भी जिम्मेदार है। उदाहरण के लिए: पृथ्वी के 23.5 डिग्री झुके होने के कारण भूमध्य रेखा की तरह गर्मी नहीं ला सकती।

क्रायोस्फीयर वैश्विक जलवायु को कैसे प्रभावित करता है?

Continue Reading
Advertisement

Related Categories

Popular

View More