Search

देश का पहला एंटी टेरर रोबोट: दक्ष

रक्षा अनुसन्धान और विकास संगठन (DRDO) ने देश का पहला एंटी टेरर रोबोट बनाया है जिसका नाम है; दक्ष.  दक्ष; एंटी टेरर ऑपरेशन्स को अंजाम देने में निपुण होगा. अब लगभग 500 रोबोट भारतीय सेना में शामिल होने वाले हैं. आइये इस लेख में दक्ष की विशेषताओं को जानते हैं.
Nov 21, 2019 17:40 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
Daksh: India's first Anti Terror Robot
Daksh: India's first Anti Terror Robot

विश्व के लगभग हर महाद्वीप में, पडोसी देश एक दूसरे से किसी ना किसी कारण से लड़ते रहते हैं जिसमें बहुत से सैनिकों की जान जाती है उनके परिवार उजाड़ जाते हैं. लेकिन अब वैज्ञानिक प्रगति के साथ सैनिकों का स्थान रोबोट ले रहे हैं. विश्व का हर समृद्ध देश रोबोटिक आर्मी बना रहा है जिससे जान और माल के नुकसान को कम किया जा सके.
ऐसा ही रोबोट भारत में DRDO के द्वारा बनाया जा चुका है. इसका नाम है ‘दक्ष’.

‘दक्ष’ के बार में (About Daksh Robot)

दक्ष; एक बिजली से संचालित और दूर से नियंत्रित किया जाने वाला रोबोट है जिसका मुख्य उपयोग खतरनाक वस्तुओं (IED, Bombs) को सुरक्षित रूप से खोजने,  और नष्ट करने के लिए किया जाता है. इसमें एक बन्दूक लगी है, जो बंद दरवाजों को तोड़ सकती है. इसमें लगा स्कैनर, विस्फोटक को चेक करने के लिए कारों को स्कैन कर सकता है. 

इसे 500 मीटर की दूरी से कंट्रोल किया जा सकता है जबकि एक बार रिचार्ज करने के बाद लगातार 3 घंटे तक इस्तेमाल किया जा सकता है. इसे सीमा पर IEDs को डिटेक्ट करने के लिए प्रयोग किया जा सकता है जिससे पेट्रोलिंग के दौरान भारत के जवानों की जान बचायी जा सकती है.

daksh

‘दक्ष रोबोट’ का उत्पादन (Manufacturing of Daksh Robot)

दक्ष रोबोट को बनाने में DRDO के अलावा; टाटा मोटर्स, डायनॉलॉग (I), थीटा कंट्रोल और भारत इलेक्ट्रॉनिक्स का योगदान है.
‘दक्ष’ की पहली 20 यूनिट्स DRDO के अनुसंधान और विकास स्थापना ((R&DE – Engineers) को सितम्बर 2010 में ही सौंपी जा चुकी थीं. अब लगभग 500 दक्ष रोबोट भारतीय सेना में भर्ती होने वाले हैं.

दक्ष रोबोट की विशेषताएं (Features of Daksh Robot)

1. यह पूरी तरह से आटोमेटिक है. 

2.  इसमें खांचेदार पहिये भी लगे हुए हैं जिसकी मदद से यह सीढियां भी चढ़ सकता है.

daksh-stairs

3. इसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी शील्ड लगी हुई है जो कि सिग्नल को जाम करके विस्फोट होने से रोक सकता है.

4. यह एअरपोर्ट पर किसी सस्पेक्ट लगेज को छांट सकता है और उसको एअरपोर्ट से बाहर ले जाकर नष्ट कर सकता है.

5. इसमें रोबोटिक हाथ लगे हुए हैं और जिसकी मदद से यह किसी चीज को अपने हाथ में उठा सकता है और नष्ट भी कर सकता है.
6यह बायोलॉजिकल, केमिकल और रेडियोलॉजिकल हथियारों को नष्ट कर सकता है.

अतः दक्ष रोबोट को सेना में शामिल किये जाने से भारत की सीमा की सुरक्षा बढ़ जाएगी, पेट्रोलिंग में दौरान होने वाली IED की घटनाओं के कम होने के साथ साथ आतंकबाद से लड़ने में भी मदद मिलेगी. 

जानें किन-किन देशों में चीफ़ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ (CDS) का पद होता है?

भारत द्वारा विकसित 5 स्वदेशी रक्षा हथियारों और सिस्टम की सूची