Search

जानें दुनिया का सबसे बड़ा सौर ऊर्जा संयंत्र कहाँ स्थित है

वर्तमान समय में पूरी दुनिया ग्लोबल वार्मिंग के खतरे से जूझ रही है| अतः पूरी दुनिया के तमाम वैज्ञानिक ऊर्जा के गैर-परमम्परागत स्रोत के उपयोग को बढ़ावा दे रहे हैं, जिसके कारण दुनिया के विभिन्न देशों में सौर ऊर्जा के निर्माण के लिए नए-नए सौर ऊर्जा संयंत्रो (solar plants) को स्थापित किया जा रहा है| इस लेख में हम हाल ही में शुरू किए गए दुनिया के सबसे बड़े सौर ऊर्जा संयंत्र का विवरण दे रहे हैं|
Feb 22, 2017 13:03 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

वर्तमान समय में पूरी दुनिया ग्लोबल वार्मिंग के खतरे से जूझ रही है| अतः पूरी दुनिया के तमाम वैज्ञानिक ऊर्जा के गैर-परमम्परागत स्रोत के उपयोग को बढ़ावा दे रहे हैं, जिसके कारण दुनिया के विभिन्न देशों में सौर ऊर्जा के निर्माण के लिए नए-नए सौर ऊर्जा संयंत्रो (solar plants) को स्थापित किया जा रहा है|
सौर ऊर्जा का प्रयोग कई तरीके से किया जाता है, किन्तु सूर्य की ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में बदलने को ही मुख्य रूप से सौर ऊर्जा के रूप में जाना जाता है। सूर्य की ऊर्जा को दो प्रकार से विद्युत ऊर्जा में बदला जा सकता है- पहला प्रकाश-विद्युत सेल की सहायता से और दूसरा किसी तरल पदार्थ को सूर्य की उष्मा से गर्म करने के बाद इससे विद्युत जनित्र (जेनरेटर) चलाकर। इस लेख में हम हाल ही में शुरू किए गए दुनिया के सबसे बड़े सौर ऊर्जा संयंत्र का विवरण दे रहे हैं|
 solar plant
Image source: Oorja Solar

दुनिया का सबसे बड़ा सौर ऊर्जा संयंत्र (solar plant)

आपको यह जानकर गर्व होगा कि भारत ने जीवाश्म ईंधन से अक्षय ऊर्जा की दिशा में कदम बढ़ाते हुए एक और उपलब्धि हासिल कर ली है| इस क्रम में सितम्बर 2016 में तमिलनाडु के रामनाथपुरम जिले के कामुति नामक स्थान पर दुनिया का सबसे बड़ा “सौर ऊर्जा संयंत्र” का उद्घाटन किया गया था|
 kamuthi solar plant
Image source: Hindustan Times

ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन : कारण और परिणाम

सौर ऊर्जा संयंत्र (solar plant) की निर्माता कम्पनी

इस सौर ऊर्जा संयंत्र (solar plant) का निर्माण अदानी समूह की इकाई “अदानी ग्रीन एनर्जी” ने किया है|

सौर ऊर्जा संयंत्र (solar plant) की क्षमता एवं लागत

इस सौर ऊर्जा संयंत्र (solar plant) की उत्पादन क्षमता 648 मेगावाट है तथा इसके निर्माण में 4,550 करोड़ रूपए निवेश किए गए है|

सौर ऊर्जा संयंत्र (solar plant) का ढांचा एवं निर्माण कार्य

यह सौर ऊर्जा संयंत्र 10 वर्गकिमी क्षेत्र में फैला हुआ है और इसका निर्माण महज आठ महीनों में किया गया है| यह संयंत्र 3.8 लाख अलग अलग नींव पर स्थापित किया गया है| इस सौर ऊर्जा संयंत्र में 25 लाख सोलर पैनल, 576 इनवर्टर और 154 ट्रांसफार्मर लगे हुए हैं| इसके अलावा इस संयंत्र के निर्माण के लिए 6000 किमी लंबा केबल बिछाया गया है| इस सौर ऊर्जा संयंत्र में प्रतिदिन रोबोटिक प्रणाली से साफ-सफाई की जाती है|
 solar panal number kamuthi plant
Image source: YouTube
सर्वाधिक उत्पादन क्षमता वाला सौर ऊर्जा संयंत्र
यह सौर ऊर्जा संयंत्र एक ही स्थान पर स्थित दुनिया का सबसे बड़ा संयंत्र है| इससे पहले एक ही स्थान पर स्थित दुनिया का सबसे बड़ा संयंत्र कैलिफोर्निया में स्थित “टोपाज सोलर फार्म” था जिसकी उत्पादन क्षमता 550 मेगावाट है|
सर्वाधिक उत्पादन क्षमता वाले दुनिया के पांच सौर ऊर्जा संयंत्र

संयंत्र का नाम

उत्पादन क्षमता (मेगावाट में)

कामुति सौर ऊर्जा संयंत्र, भारत

648

सोलर स्टार, अमेरिका

579

टोपाज फार्म, अमेरिका

550

डेजर्ट सनलाइट, अमेरिका

550

गोलडमड सोलर पार्क, चीन

200

पर्यावरण के क्षेत्र मे गैर सरकारी संगठन और वकालत संस्थान
भारत के लिए बड़ा कदम
यह सौर ऊर्जा संयंत्र 1,50,000 घरों के लिए बिजली का उत्पादन करने में सक्षम है। इस सौर ऊर्जा संयंत्र की स्थापना के साथ भारत की कुल सौर ऊर्जा क्षमता 10 गीगावाट से अधिक हो गई है| इस प्रकार  भारत 2017 के अंत तक चीन और अमेरिका के बाद दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा सौर ऊर्जा बाजार हो जाएगा| हालांकि अभी भी हम सरकार द्वारा देश के लिए निर्धारित सौर ऊर्जा उत्पादन लक्ष्य से पीछे हैं|
भारत सरकार द्वारा 2020 तक 60 लाख घरों में सौर ऊर्जा के माध्यम से बिजली पहुँचाने का लक्ष्य रखा गया है| वास्तव में  यह सरकार द्वारा 2030 तक गैर-जीवाश्म ईंधनों के माध्यम से अपनी 40 प्रतिशत बिजली उत्पादन करने के लिए निर्धारित लक्ष्य का एक हिस्सा है| इस परियोजना का मूल उद्देश्य देश में वायु प्रदूषण को कम करने के साथ-साथ लाखों लोगों के घरों में बिजली उपलब्ध करना है।
पर्यावरण और पारिस्थितिकीय पर सामान्य ज्ञान प्रश्न –उत्तर