जानिये राफेल विमान की क्या विशेषताएं हैं?

Features of Rafale Fighter Jet:- भारत और चीन के खट्टे रिश्तों के बीच फ़्रांस की डेसॉल्ट एविएशन नाम की कम्पनी ने भारत को 5 राफेल जेट एयरक्राफ्ट भेज दिए हैं जबकि 5 अन्य अभी भारत नहीं आये हैं क्योंकि उनके लिए भारतीय पायलट्स को प्रशिक्षित किया जा रहा है. राफेल 36 हजार फीट से लेकर 50 हजार फीट ऊँचाई तक उड़ान भरने में सक्षम है और इसकी रफ़्तार 2222 किमी प्रति घंटे है.
Jul 30, 2020 14:59 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
Rafale Jet
Rafale Jet

फ्रांस द्वारा 5 राफेल विमानों की पहली खेप 29 जुलाई को भारत पहुंच गयी है . ये राफेल विमान, फ्रांस से अंबाला पहुंचे  और यहीं पर आधिकारिक तौर पर इन्हें भारतीय वायुसेना  के बेड़े में शामिल किया गया. ऐसा माना जा रहा है कि राफेल के भारत आने के बाद दक्षिण एशिया में शक्ति संतुलन में भारत की भूमिका बहुत अहम् हो जाएगी.

भारत ने अपनी वायुसेना को मजबूत करने के लिए वर्ष 2007 में मल्टीरोल नए लड़ाकू विमानों के लिए टेंडर जारी किये थे जिसमें अमेरिका के एफ-16, एफए-18, रूस के मिग-35, स्वीडेन के ग्रिपिन, फ्रांस के राफेल और यूरोपीय समूह के यूरोफाइटर टाइफून की दावेदारी पेश की थी.

27 अप्रैल 2011 को परीक्षण की आखिरी दौड़ में यूरोफाइटर और राफेल ही भारतीय परिस्तिथियों के अनुकूल पाए गए थे और अंततः 31 जनवरी 2012 को सस्ती बोली व फील्ड ट्रायल के दौरान भारतीय परिस्थितियों और मानकों पर सबसे खरा उतरने के कारण यह टेंडर राफेल को दिया गया था.

ज्ञातव्य है कि भारत; परम्परागत रूप से अपनी वायुसेना की ताकत को रूस से खरीदे गए लड़ाकू विमानों (मिग-27, मिग-27, मिग-35) से बढ़ाता रहा है. लेकिन अब भारत इस प्रथा को बदलकर फ़्रांस में बने आधुनिक राफेल विमान को खरीदने का सौदा कर चुका है.

कोर्ट मार्शल किसे कहते हैं और इसकी क्या प्रक्रिया होती है?

भारत; इस जेट विमान को खरीदने के लिए भारी भरकम रकम भी चुकाने को तैयार है. हालाँकि इस विमान की सही कीमत विवाद के घेरे में है इसलिए यहाँ पर सही कीमत बताना मुश्किल है.

लेकिन अहम् सवाल यह है कि आखिर इस विमान में ऐसी क्या खासियतें है कि भारत इसे खरीदने के लिए इतना उत्सुक है. आइये इस लेख में जानते हैं कि इस विमान की क्या-क्या विशेषताएं हैं;

तकनीकी में बेजोड़ है यह विमान

राफेल लड़ाकू विमान एक मल्टीरोल फाइटर विमान है जिसे फ़्रांस की डेसॉल्ट एविएशन नाम की कम्पनी बनाती है. राफेल-A श्रेणी के पहले विमान ने 4 जुलाई 1986 को उड़ान भरी थी जबकि राफेल-C श्रेणी के विमान ने 19 मई 1991 को उड़ान भरी थी. वर्ष 1986 से 2019 तक इस विमान की 201  यूनिट बन चुकी हैं. राफेल A, B, C और M श्रेणियों में एक सीट और डबल सीट और डबल इंजन में उपलब्ध है.

राफेल; हवा से हवा, हवा से जमीन पर हमले के साथ परमाणु हमला करने में सक्षम होने के साथ-साथ बेहद कम ऊंचाई पर उड़ान के साथ हवा से हवा में मिसाइल दाग सकता है. इतना ही नहीं इस विमान में ऑक्सीजन जनरेशन सिस्टम लगा है और लिक्विड ऑक्सीजन भरने की जरूरत नहीं पड़ती है. यह विमान इलेक्ट्रानिक स्कैनिंग रडार से थ्रीडी मैपिंग कर रियल टाइम में दुश्मन की पोजीशन खोज लेता है.

इसके अलावा यह हर मौसम में लंबी दूरी के खतरे को भी समय रहते भांप सकता है और नजदीकी लड़ाई के दौरान एक साथ कई टारगेट पर नजर रख सकता है. यह जमीनी सैन्य ठिकाने के अलावा विमानवाहक पोत से भी उड़ान भरने के सक्षम है.

राफेल विमान की अन्य विशेषताएं इस प्रकार हैं

1. यह 36 हजार फीट से लेकर 50 हजार फीट तक उड़ान भरने में सक्षम है. इतना ही नहीं यह 1 मिनट में 50 हजार फीट पर पहुंच जाता है.

2. यह 3700 किमी. की रेंज कवर कर सकता है.

3. इसकी रफ़्तार 2222 किमी प्रति घंटे (Rafale speed)है.

4. यह 1312 फीट के बेहद छोटे रनवे से उड़ान भरने में सक्षम है.

5. यह 15,590 गैलन ईंधन ले जाने की क्षमता रखता है

6. राफेल, हवा से हवा में मारक मिसाइलें ले जाने में सक्षम है.

7. राफले एक बार में 2,000 समुद्री मील तक उड़ सकता है.

8. राफेल, अमेरिका के F-16 की तुलना में 0.82 फीट ज्यादा ऊंचा है.

9. राफेल, अमेरिका के F-16 की तुलना में 0.79 फीट ज्यादा लंबा है.

10. इसके विंगों की लम्बाई 10.90 मीटर, जेट की ऊँचाई 5.30 मीटर और इसकी लम्बाई 15.30 मीटर है.

भारत को अब पांचवी पीढ़ी के विमानों की जरुरत पड़ रही है क्योंकि दुनिया के लगभग सभी देशों के पास उन्नत किस्म के लड़ाकू विमान हैं. यहाँ तक कि पाकिस्तान ने भी चीन से एडवांस्ड पीढी के विमान जेएफ-17 और अमेरिका से एफ-16 खरीद लिए हैं ऐसे में भारत अब पुरानी तकनीकी के विमानों पर ज्यादा निर्भर नहीं रह सकता है.

चिंता की बात है कि भारत ने 1996 में सुखोई-30 के रूप में आखिरी बार कोई लड़ाकू विमान खरीदा था. इसलिए भारत को नयी पीढ़ी के विमानों को वायुसेना में जल्दी ही शामिल करना होगा. यही कारण है कि भारत को राफेल जैसे अत्याधुनिक फाइटर विमान की सख्त जरुरत है.

ऊपर दिए गए आंकड़े यह सिद्ध करते हैं कि राफेल विमान बहुत ही जबरदस्त लड़ाकू विमान है और अगर भारत को दक्षिण एशिया में शक्ति संतुलन रखना है तो उसे इस विमान की खरीदारी में आने वाली सभी बाधाओं को जल्दी से जल्दी दूर करना होगा.

राफेल, और F-16 में कौन सा लड़ाकू विमान बेहतर है?

यदि भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध हुआ तो इसके क्या परिणाम होंगे?