Search

जीव, जंतुओं के विकास पर आधारित सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी

पृथ्वी पर जीव, जंतुओं की कई प्रजातियाँ पाई जाती हैं. क्या आपने कभी सोचा है कि इन जीवों में विविधता कैसे और क्यों होती है? कैसे इनका विकास हुआ है. यह कहा से आए हैं इत्यादि.  इस लेख के माध्यम से क्रम-विकास (evolution), इससे संबंधित सिद्धांत  के बारे में प्रश्न और उत्तर के रूप में अध्ययन करते हैं.
Nov 6, 2019 11:07 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
What is Evolution?
What is Evolution?

क्रमिक विकास (Evolution) जीव, जंतुओं में परिवर्तनों का एक क्रम है जो लाखों वर्षों में होता आ रहा है, जिसमें नई प्रजातियों का उत्पादन होता है. अर्थार्त जैविक आबादी के आनुवंशिक लक्षणों के पीढ़ी दर पीढ़ी परिवर्तन को क्रमिक विकास कहते हैं. यह जैविक विकास के रूप में भी जाना जाता है. यहां तक कि सभी पौधों और जानवरों या जीवों को आज हम जो चारों ओर देख रहे हैं वे कुछ या अन्य पूर्वजों से विकसित हुए हैं जो इस पृथ्वी पर बहुत लंबे समय पहले रहते थे. मौजूदा जातियों और जीवाश्मों के इन लक्षणों के बीच क्रम-विकासिक रिश्ते (वर्गानुवंशिकी) देख कर हम जीवन का वंश वृक्ष बना सकते हैं. 
1. प्राकृतिक चयन (natural selection) द्वारा प्रजातियों के विकास के सिद्धांत को किसने दिया था?
A. डार्विन
B. मेंडेल
C. डाल्टन
D. मॉर्गन
Ans. A
व्याख्या: चार्ल्स रॉबर्ट डार्विन ने अपनी पुस्तक "प्रजातियों की उत्पत्ति" में विकास के सिद्धांत को दिया था. उनके द्वारा प्रस्तावित सिद्धांत को "प्राकृतिक चयन का सिद्धांत" कहा जाता है.
2. आनुवांशिकी के पिता के रूप में किसे जाना जाता है?
A. मेंडेल
B. डार्विन
C. डाल्टन
D. मेरी क्यूरी
Ans. B
व्याख्या: ग्रेगर मेंडेल को आनुवंशिकी के पिता के रूप में जाना जाता है क्योंकि उन्होंने आनुवंशिकता के बुनियादी सिद्धांतों की खोज की है.
3. निम्नलिखित में से कौन सा स्रोत क्रमिक विकास के लिए प्रमाण प्रदान करते हैं?
A. होमोलोगस ओर्गंस
B. एनालॉगस ओर्गंस
C. जीवाश्म
D. उपरोक्त सबी
Ans. D
व्याख्या: महत्वपूर्ण स्रोत, जो क्रमिक विकास के लिए प्रमाण प्रदान करते हैं, होमोलोगस ओर्गंस, एनालॉगस ओर्गंस और जीवाश्म हैं.
4. एक जीवाश्म पक्षी का नाम बताएं जो एक पक्षी की तरह दिखता है लेकिन सरीसृप (reptile) के जैसी अन्य विशेषताएं होती हैं?
A. डोडो (Dodo)
B. आर्कियोप्टेरिक्स (Archaeopteryx)
C. राजहंस (Flamingos)
D. माउस बर्ड (Mouse Bird)
Ans. B
व्याख्या: आर्कियोप्टेरिक्स एक जीवाश्म पक्षी है जो एक पक्षी की तरह दिखता है लेकिन इसमें कई अन्य विशेषताएं हैं जो सरीसृप (reptiles) में पायी जाती हैं.
5. उन ओर्गंस के नाम बताएं जिनकी संरचना अलग-अलग प्रकार की है लेकिन समान रूप से दिखते हैं और एक ही जैसे कार्य करते हैं?
A. एनालॉगस ओर्गंस
B. होमोलोगस ओर्गंस
C. दोनों A और B
D. ना A और ना B
Ans. A
व्याख्या: एनालॉगस ओर्गंस की संरचना अलग-अलग होती है लेकिन ये एक जैसे दिखते  हैं और एक ही प्रकार के कार्य करते हैं. उदाहरण: कीट और पक्षी के पंखों की विभिन्न संरचनाएं हैं लेकिन ये समान कार्य करते हैं.

pH में परिवर्तन का पौधों एवं जंतुओं पर प्रभाव
6. किसने सुझाव दिया कि जीवन को सरल अकार्बनिक अणुओं जैसे कि मीथेन, हाइड्रोजन इत्यादि से विकसित किया गया है जो कि पृथ्वी पर पहले से ही मौजूद थे?
A. डार्विन
B. मेरी क्यूरी
C. हाल्डेन
D. उपरोक्त कोई नहीं
Ans. C
व्याख्या: एक ब्रिटिश वैज्ञानिक जे.बी.एस. हाल्डेन ने 1929 में सुझाव दिया था कि जीवन को मीथेन, हाइड्रोजन इत्यादि जैसे सरल अकार्बनिक अणुओं से विकसित किया गया है जो कि पृथ्वी पर बनने के तुरंत बाद से मौजूद थे.
7. Aves किससे विकसित हुए हैं?
A. उभयचर (Amphibians)
B. आर्थ्रोपोडा (Arthropods)
C. स्तनधारी (Mammals)
D. सरीसृप (Reptiles)
Ans. D
व्याख्या: 165-150 मिलियन वर्ष पूर्व जुरासिक के दौरान थेरोपाड (theropod) डायनासोर से विकसित हुए पक्षी है. पक्षी डायनासोर से संबंधित ही नहीं, बल्कि वास्तव में डायनासोर ही होते हैं! तकनीकी रूप से फ़िलेजिनेटिक (phylogenetic ) प्रणाली के अनुसार स्तनधारी भी सरीसृप होते हैं.
8. पृथ्वी पर जीवन की उत्पत्ति का सिद्धांत किसके द्वारा प्रस्तावित किया गया है:
A. हाल्डेन
B. स्टेनली मिलर
C. हेरोल्ड सी. यूरे
D. लैमार्क
Ans. A
व्याख्या: हाल्डेन द्वारा पृथ्वी पर जीवन की उत्पत्ति का प्रस्ताव प्रस्तावित किया गया है जो कि स्टेनली एल. मिलर और हेरोल्ड सी. यूरे द्वारा किए गए प्रयोगों द्वारा पुष्टि की गई थी.
9. निम्नलिखित में से कौन सा डार्विन के क्रमिक विकास के सिद्धांतों में से एक है?
A. किसी भी आबादी में, प्राकृतिक भिन्नता होती है.
B. हालांकि सभी प्रजातियों में बड़ी संख्या में संतान उत्पन्न होती हैं, लेकिन आबादी स्वाभाविक रूप से स्थिर रहती है.
C. आबादी अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष करती है और अयोग्य व्यक्ति खुद पीछे रह जाते है या हट जाते हैं.
D. उपरोक्त सभी सही हैं
Ans D
व्याख्या: डार्विन के विकास के सिद्धांत के इन रूपों में वर्णित किया जा सकता है: किसी भी आबादी के भीतर, प्राकृतिक भिन्नता है. कुछ लोगों के पास दूसरों की तुलना में अधिक अनुकूल भिन्नताएं हैं. हालांकि सभी प्रजातियों में बड़ी संख्या में संतान उत्पन्न होती हैं, आबादी काफी स्वाभाविक रूप से स्थिर रहती है. आबादी अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष करती है और अयोग्य व्यक्तियों को पीछे छोड़ देती है. इसे प्राकृतिक चयन कहा जाता है.
10. मौजूदा प्रजातियों से नई प्रजातियां विकसित होने वाली प्रक्रिया को क्या कहा जाता है?
A. होमोलोगस
B. एनालॉगस
C. प्रजातीकरण
D. आनुवंशिक भिन्नता
Ans. C
व्याख्या: प्रजातीकरण (Speciation) नई प्रजातियों के गठन को कहते है.
उपरोक्त लेख से प्रश्नों और उत्तरों के रूप में हमने देखा कि क्रमिक विकास क्या होता है और इससे सम्बंधित क्या-क्या सिद्धांत दिए गए हैं.

प्रेषण आनुवंशिकी (Transmission Genetics) क्या है?