International Nurses Day 2021: जानें फ्लोरेंस नाइटिंगेल के जन्मदिवस को अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस के रूप में क्यों मनाया जाता है?

12 मई को फ्लोरेंस नाइटिंगेल (जिन्हें दुनिया की पहली नर्स कहा जाता है) का जन्म हुआ था। इस दिन को दुनियाभर में इंटरनेशनल नर्सेज डे (International Nurses Day) के रूप में मनाया जाता है। आइए इस लेख में जानते हैं इस दिन से जुड़ा इतिहास, महत्व, थीम औ अन्य रोचक तथ्य।
Created On: May 12, 2021 17:16 IST
Modified On: May 12, 2021 18:04 IST
International Nurses Day 2021
International Nurses Day 2021

12 मई को फ्लोरेंस नाइटिंगेल (जिन्हें दुनिया की पहली नर्स कहा जाता है) का जन्म हुआ था। इस दिन को दुनियाभर में इंटरनेशनल नर्सेज डे (International Nurses Day) के रूप में मनाया जाता है। फ्लोरेंस नाइटिंगेल न केवल एक नर्स थीं, बल्कि एक समाज सुधारक और आधुनिक नर्सिंग की संस्थापक भी थीं।  सन् 1965 में इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ नर्स (ICN) द्वारा पहली बार इस दिवस को मनाया गया था और सन् 1974 में 12 मई का दिन इंटरनेशनल नर्सेज डे के रूप में चुना गया। इस दिन विश्वभर में नर्सों को उनके योगदान के लिए शुक्रिया कहा जाता है। 

कोरोनाकाल में हेल्थकेयर उन क्षेत्रों में से एक है जिनपर सर्वाधिक प्रेशर पड़ा है। इसके बावजूद, दुनिया भर में स्वास्थ्य कार्यकर्ता घातक वायरस से लड़ने और लाखों लोगों की जान बचाने में सबसे आगे हैं। इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि नर्सें हमारे स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली की रीढ़ हैं जो भयावह महामारी के बीच महीनों से अपनी जान जोखिम में डाल कर लोगों की सेवा कर रही हैं।

नर्सें सार्वजनिक स्वास्थ्य की सुरक्षा में अपरिहार्य हैं। कई बार वे अत्यधिक दबाव और कठिन वातावरण में काम करती हैं। इस दिन, हम पूरी दुनिया की सभी नर्सों को धन्यवाद करते हैं जो लाखों लोगों को जानलेवा कोरोनवायरस बीमारी से बचाने के लिए अपनी जान जोखिम में डाल रही हैं।

अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस 2021 थीम

2021 की थीम  है 'नर्स : नेतृत्वकर्ता के रूप में एक आवाज, भविष्य की स्वास्थ्य सेवा के लिए एक दृष्टि' (Nurses: A Voice to Lead - A vision for future healthcare)। इस वर्ष की थीम इस का केंद्र बिंदु भविष्य में नर्सिंग है और ये स्वास्थ्य सेवा के आने वाले चरणों में बदलाव के इर्द-गिर्द है। 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने वर्ष 2020 को नर्स और मिडवाइफ के अंतर्राष्ट्रीय वर्ष के रूप में नामित किया था। घातक कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ने में नर्सों और अन्य स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के प्रयास सराहनीय हैं। वर्ष 2020 में फ्लोरेंस नाइटिंगेल की 200 वीं जयंती मनाई गई थी। 

अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस कैसे मनाया जाता है?

अमेरिका और कनाडा में राष्ट्रीय नर्सिंग सप्ताह मनाया जाता है। ऑस्ट्रेलिया में कई नर्सिंग समारोह आयोजित किए जाते हैं। नर्सों को सम्मानित करने के लिए कई गतिविधियाँ जैसे कि शैक्षिक सेमिनार, सामुदायिक कार्यक्रम, वाद-विवाद, प्रतियोगिताएं, चर्चाएँ आदि आयोजित की जाती हैं। उन्हें मित्रों, डॉक्टरों, प्रशासकों और रोगियों द्वारा उपहार, फूल वितरण, रात्रिभोज के आयोजन आदि से सम्मानित और सराहा जाता है।

अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस का महत्व

COVID-19 महामारी की शुरुआत के बाद से, नर्सें अपनी जान जोखिम में डालकर लाखों लोगों को बचाने के लिए दिन-रात काम कर रही हैं। इस वक्त नर्सें दुनिया भर में स्वास्थ्य देखभाल प्रणालियों की रीढ़ बन गईं हैं। वे एक विविध भूमिका निभाती हैं जिसमें दवाइयों से लेकर मरीज़ों की देखभाल, रक्त संक्रमण और ड्रिप लगाना शामिल हैं।

राष्‍ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्‍कार

हर साल 12 मई को राष्‍ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्‍कार दिया जाता है। इस पुरस्कार की शुरुआत भारत सरकार के परिवार एवं कल्‍याण मंत्रालय द्वारा सन् 1973 में की गई थी। इस पु्रस्कार के जरिए नर्सों के अनुकरणीय कार्यों को सम्मानित किया जाता है। हर साल ये पुरस्कार देश के राष्ट्रपति द्वारा दिया जाता है। इस पुरस्‍कार में 50 हज़ार रुपए नकद, एक प्रशस्ति पत्र और मेडल दिया जाता है।

अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस मनाने के पीछे का इतिहास

सन् 1953 में अमेरिकी स्वास्थ्य विभाग, शिक्षा और कल्याण विभाग के एक अधिकारी डोरोथी सदरलैंड ने राष्ट्रपति ड्वाइट डी. आइजनहावर से संपर्क किया और "नर्स दिवस" ​​मनाने का प्रस्ताव रखा। उस समय उन्होंने इस प्रस्ताव को मंजूरी नहीं दी थी। सन् 1965 में अंतर्राष्ट्रीय नर्स परिषद (ICN) ने इसे पहली बार मनाया था।  जनवरी 1974 में, 12 मई को आधिकारिक तौर पर 'अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस' के रूप में घोषित किया गया था क्योंकि इसी दिन फ्लोरेंस नाइटिंगेल का जन्म हुआ था, जो आधुनिक नर्सिंग की संस्थापक थीं।

हर साल इस दिन ICN अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस किट तैयार और वितरित करता है जिसमें शैक्षिक और सार्वजनिक सूचना सामग्री होती है। ये सामग्री जनता के बीच नर्सों द्वारा उपयोग की जा सकती है। राष्ट्रीय छात्र नर्स दिवस 1998 से 8 मई को और राष्ट्रीय नर्स सप्ताह 6 मई से 12 मई तक मनाया जाता है।

कौन थीं फ्लोरेंस नाइटिंगेल?

फ्लोरेंस नाइटिंगेल का जन्म 12 मई 1820 को इटली के शहर फ्लोरेंस में हुआ था और इसलिए उनका नाम फ्लोरेंस रखा गया था। विश्वभर में उन्हें आधुनिक नर्सिंग की संस्थापक के रूप में जाना जाता है। वह "द लेडी विद द लैंप" के नाम से भी प्रसिद्ध हैं। वह एक ब्रिटिश नर्स, सांख्यिकीविद और समाज सुधारक थीं। क्रीमियन युद्ध के दौरान उन्हें ब्रिटिश और संबद्ध सैनिकों की नर्सिंग का प्रभार दिया गया था। वह वार्डों में कई घंटे बिताती थीं और पूरी रात हाथ में लालटेन लिए मरीजों की देखभाल व वार्डों का निरीक्षण करती थीं। इस वजह से उनको "द लेडी विद द लैंप" के रूप में जाना जाता है।

साल 1860 में सेंट थॉमस अस्पताल में पहला वैज्ञानिक रूप से आधारित नर्सिंग स्कूल, नाइटिंगेल स्कूल ऑफ नर्सिंग, लंदन में स्थापित किया गया था। उन्होंने वर्कहाउस इनफ़र्मियों में दाइयों और नर्सों के प्रशिक्षण की स्थापना में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।  सन्1907 में वह पहली महिला बनीं जिन्हें ऑर्डर ऑफ मेरिट से सम्मानित किया गया था।

इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ नर्स (ICN) क्या है?

यह एक संगठन है जो नर्सों का संचालन करता है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नर्सिंग का नेतृत्व करता है। ये सभी लोगों के लिए गुणवत्तापूर्ण नर्सिंग देखभाल सुनिश्चित करता है। हर साल ICN अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस मनाने के लिए एक थीम चुनता है। 

अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस को एक पेशे के रूप में नर्सिंग के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए और स्वास्थ्य देखभाल शासन के लिए नर्सों द्वारा किए गए योगदान के लिए मनाया जाता है।

Ignaz Semmelweis: 19 वीं सदी का ऐसा व्यक्ति जिसने लोगों को हाथ धोना सिखाया

Comment (0)

Post Comment

1 + 0 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.

    Related Categories