Search

भारतीय संसद से सम्बंधित अनुच्छेद: एक नजर में

भारतीय संविधान में अनुसार, संसद के तीन अंग हैं- राष्ट्रपति, लोकसभा और राज्यसभा|  संविधान के पांचवे भाग के अंतर्गत अनुच्छेद 79 से 122 में संसद के गठन, संरचना, अवधि, अधिकारियों, प्रक्रिया, विशेषाधिकार और शक्तियों के बारे में बताया गया है|
Feb 23, 2017 16:31 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

भारतीय संविधान में अनुसार, संसद के तीन अंग हैं -राष्ट्रपति, लोकसभा और राज्यसभा| संविधान के पांचवे भाग के अंतर्गत अनुच्छेद 79 से 122 में संसद के गठन, संरचना, अवधि, अधिकारियों, प्रक्रिया, विशेषाधिकार और शक्तियों के बारे में बताया गया है|  भारत की संसद में अधिकतम 802 सदस्य (लोकसभा में  552 और राज्यसभा में 250) हो सकते है। भारत की संसद से सम्बंधित अनुच्छेद इस प्रकार हैं:-

अनुच्छेद

     विषय वस्तु

79

संसद का गठन

80

राज्य सभा का गठन

81

लोक सभा का गठन

82

प्रत्येक जनगणना के बाद पुनः समायोजन

83

संसद के सदनों की अवधि

84

संसद की सदस्यता के लिए योग्यता

85

संसद के सत्र, सत्रवसान एवं विघटन

86

राष्ट्रपति को संसद को संबोधित करने तथा सन्देश देने का अधिकार

87

राष्ट्रपति का विशेष संबोधन

संसद के पदाधिकारी गण

89

राज्य सभा के सभापति एवं उपसभापति गण

90

राज्य सभा के उपसभापति पद की रिक्ति, त्यागपत्र तथा विमुक्ति

91

सभापति के रूप में कार्य करने की उप सभापति की शक्तियां

93

लोक सभा का अध्यक्ष और उपाध्यक्ष

94

लोक सभाध्यक्ष तथा उपाध्यक्ष के पद की रिक्ति, त्यागपत्र तथा विमुक्ति

95

लोक सभाध्यक्ष के रूप में किसी और व्यक्ति के कार्य करने की शक्ति

97

सभापति एवं उपसभापति तथा लोक सभा अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष के वेतन एवं भत्ते

98

संसद सचिवालय

संसद की कार्यवाही का संचालन

99

सदस्यों का शपथ ग्रहण

100

दोनों सदनों में मतदान, कोरम की पूर्ती के बिना भी सदनों का कार्य करने का अधिकार


सदस्यों की अयोग्यता

101

सीटों की रिक्ति

102

सदस्यता से अयोग्य घोषित किया जाना

103

सदस्यों की अयोग्यता से सम्बंधित प्रश्नों पर निर्णय

सांसदों के विशेषाधिकार

105

संसद के सदनों तथा इसके सदस्यों एवं समितियों की शक्तियां तथा विशेषाधिकार

106

सदस्यों के वेतन एवं भत्ते

107

विधेयकों की प्रस्तुति एवं उनको पारित करने सम्बन्धी प्रावधान

108

संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक का प्रावधान

110

मुद्रा विधेयक की परिभाषा

111

विधेयकों की स्वीकृति

वित्तीय मामलों में प्रक्रिया

112

वार्षिक वित्तीय विवरण (बजट)

114

विनियोजन विधेयक

115

पूरक, अतिरिक्त तथा अतिरेक अनुदान

117

वित्तीय विधेयकों सम्बन्धी विशेष प्रावधान

सामान्य प्रक्रिया

118

प्रक्रिया सम्बन्धी नियम

119

संसद में वित्तीय कार्यवाहियों से सम्बंधित विनियमन

120

संसद में उपयोग के जाने वाली भाषा

121

संसद में चर्चा पर प्रतिबन्ध

122

संसद की कार्यवाहियों के बारे में न्यायलय पूछताछ नही कर सकता

123

राष्ट्रपति की अध्यादेश पारित करने की शक्ति

भारत के संविधान में संसद की स्थिति सबसे बड़ी कानून बनाने वाली संस्था के रूप में की गयी है हालांकि किसी भी कानून को पूरे देश में लागू करने से पहले राष्ट्रपति के हस्ताक्षर होने जरूरी होते हैं |

राष्ट्रपति भवन के बारे में 20 आश्चर्यजनक तथ्य