Search

चोल वंश के शासकों की सूची और उनके योगदान

चोल वंश सभी दक्षिण भारतीय राजवंशों में सबसे महान था। उन्होंने मालदीव और श्रीलंका जैसे समुद्री द्वीपों पर भी शासन किया जो दर्शाता है कि उनके पास बहुत ही कुशल और विशाल नौसैनिक शक्ति थी। यहां, हम आम जागरूकता के लिए चोल वंश के शासकों की सूची और उनके योगदान का विवरण दे रहे हैं।
Oct 30, 2017 16:13 IST

चोल वंश सभी दक्षिण भारतीय राजवंशों में सबसे महान था। उन्होंने मालदीव और श्रीलंका जैसे समुद्री द्वीपों पर भी शासन किया जो दर्शाता है कि उनके पास बहुत ही कुशल और विशाल नौसैनिक शक्ति थी। यहां, हम आम जागरूकता के लिए चोल वंश के शासकों की सूची और उनके योगदान का विवरण दे रहे हैं।

Chola Rulers and their Contribution

चोल वंश के शासकों की सूची और उनके योगदान

चोल के शासक

शासनकाल (ईसवी)

योगदान

विजयालया चोल

848–891

1. चोल साम्राज्य के संस्थापक

2. ये परकेसरिवार्मन के नाम से भी जाना जाता था।

3. इसने नर्ततमलाई, पुदुक्कोट्टई के तलवारा मंदिर का निर्माण करवाया था।

आदित्य I

870 – 907

1. कोडंदरामा के नाम से जाना जाता था।

2. इसने चोल प्रभुत्व को पश्चिमी गंगा तक फैला दिया था।

3. इसने कावेरी तट पर शिव की 108 मंदिरो का निर्माण करवाया था।

पारंतका चोल I

907-950

1.  मदुराई और श्रीलंका को जितने के बाद मदुरैयम एलामुम कोंडा परकेश्वरिवर्मन और परकेश्वरिवर्मन के नाम से पुकारा जाता था।

2. इसके शासनकाल को सर्वश्रेष्ठ सफलता और समृद्धि के रूप में याद किया जाता है।

गंधारदित्य चोल

950-957

1. "मर्क्य एलुंडरुलीना देवार" के नाम से जाता जाता था।

2. इसने चिदंबरम की शिव मंदिर के लिए तमिल भजन लिखा था।

3. यह एक अनिच्छुक शासक था और  धार्मिक कार्यों पर अधिक ध्यान दिया करता था।

अरिनजया चोल

956-957

1. इसे एरीकुलकेसरी, अरीकेसारी या अरिंदम नाम से भी जाना जाता था।

2. कुछ इतिहासकारों के अनुसार यह कहना मुस्किल है की अरिंजय वास्तव में गंदरादित्य का उत्तराधिकारी था के नहीं।

सुंदर चोल

957-970

1. नाम मधुरंतकन सुंदर चोल और पराटाका चोल द्वितीय नाम से जाना जाता था।

2. इसके शासनकाल के दौरान संस्कृत और तमिल साहित्य दोनों को प्रोत्साहन मिला।

उत्तम चोल

970-985

1. यह सम्बेबियान महादेवी का पुत्र और पराटाका द्वितीय के चचेरे भाई था ।

राजराज चोल I

985-1014

1. इसने थंजावूर में बृहदेश्वर मंदिर का निर्माण किया।

2. अपने शासनकाल के दौरान, तमिल कवियों अप्पर, सैंबड़ार और सुंदरार के ग्रंथों को एकत्रित करके एक संकलन में संपादित किया गया था जिसको थिरुमुराई कहते हैं।

राजेंद्र चोल I

1012-1044

1. इसने बंगाल और बिहार के पाला राजा महिपाल को पराजित करने के बाद अपनी जीत का स्मरण करने के लिए गंगाईकोंडा चोलपुरम नामक एक नई राजधानी का निर्माण किया था।

2. इसने सोलह मील लंबा और तीन मील चौड़ा कृत्रिम झील बनाया जो भारत में सबसे बड़ा मानव निर्मित झीलों में से एक था।

राजधिरजा चोल

1044-1054

1. इसने श्रीलंका, वेंगी, कलिंग, आदि पर चोल साम्राज्य का अधिपत्त स्थापित किया था।

2. इसने घोड़े का बलिदान देने की प्रथा की सुरवात किया था और  जयकांधो चोलन (द व्हिक्टोरियस चोलन) के नाम से भी जाना जाता था।

3. यह विजया राजेंद्र चोलन (विजेंदर राजनेंद्र चोलन) के नाम से भी जाना जाता था।

राजेंद्र चोल द्वितीय

1054-1063

1. इसने 1052 में अपने भाई की मृत्यु के बाद कोप्पम की लड़ाई में चालुक्य राजा सोमेस्वर I की तरफ मुड़ गया।

विरारजेंद्र चोल

1063-1070

1. यह चोल राजाओं में से सबसे न्यून राजा था क्योंकि इसके जीवन का एक बड़ा हिस्सा अपने दो बड़े भाइयों राजधराज चोल I और राजेंद्र चोल द्वितीय के अधीनस्थ के रूप सेवा किया था।

2. तमिल में प्रसिद्ध व्याकरणीय कार्य, वीरसोलियम, उनकी अवधि के दौरान बुद्धमित्र ने लिखा था।

अथिराजेंद्र चोल

1070-1070

1. इसके शासन काल में नागरिक अशांति, संभवतः धार्मिक प्रकृति द्वारा चिह्नित किया गया था।

कुलोथुंगा चोल I

1070-1122

1. इसे कुलोत्तुन्गा के नाम से भी जाना जाता है, जिसका शाब्दिक अर्थ है कि उनकी दौड़ का उत्थान।

2. प्रसिद्ध कवि जयकंकर जयकन्द्र ने कुल्लतुंगा चोल की सैन्य जीत का जश्न मनाने के लिए कलिंगटू परानी कवि भी लिखी है, जो उनके अदालत के रत्नों में से एक था।

3. इसने मलेशिया के श्री विजया प्रांत केदाह पर चोल अधिपति स्थापित की थी।

विक्रम चोल

1118-1135

1. ये शिव का उपासक था और चिदंबरम के मंदिर में असीम श्रद्धा थी।

2. इसको त्य्गासमुद्र के नाम से भी जाना जाता था (शाब्दिक अर्थ बलिदान का सागर)।

कुलोथंगा चोल द्वितीय

1133-1150

1. इसके शासनकाल को  शांति और सुशासन के लिए जाना जाता था।

2. इसे तिरुरीरुरुकोला भी कहा जाता था

राजराज चोल द्वितीय

1146-1173

1. इसने कुंभकोणम के निकट दरसुराम में बहुत प्रसिद्ध एयरवेटेश्वर मंदिर का निर्माण शुरू करवाया था।

2. इसके शासन के दौरान चोल नौसेना पश्चिमी समुद्र के साथ-साथ पूर्वी समुद्र में भी प्रभावशाली रही।

राजधिरजा चोल द्वितीय

1166-1178

1. इसने महल के अन्दर और बाहर फूलों का उद्यान का निर्माण किया था जो अपने आप में अनूठा था।

2. इसके शासनकाल में बहुत सारे स्थानीय सामंतवादियों और सरदारों का उदय हो गया था।

कुलोथंगा चोल III

1178–1218

1. इसने हुसैल, मदुराई के पंड्या, वनाद के चेरा, इलम के सिंहहाला राजा (सिलोन) के साथ-साथ वेलनाडू और नेल्लोर के चोड के खिलाफ युद्ध में विजय प्राप्त की।

2. इसने कुंबकोणम के निकट त्रिभुवनम में सरबेश्वर या कंम्पेशेश्वर मंदिर को शुरू किया, जिसे द्रविड़यन वास्तुकला का एक महान नमूना माना जाता है।

3. इसने सभापति की मदिर मुख-मंडपा, देवी गिरींद्रजा (शिवकामी) के गोपुरा और चिदाम्बरम का शिव मंदिर के बाड़ का निर्माण करवाया था।

राजाराजा चोल III

1216–1256

1. इसके शासनकाल के दौरान, चोल ने कावेरी नदी के दक्षिण प्रदेशों का नियंत्रण खो दिया था और उत्तर में वेंगी क्षेत्रों पर  भी उनकी शक्ति कम होती जा रही थी।

राजेंद्र चोल III

1246–1279

1. इसके शासनकाल के दौरान, पांडिया ने गंगाईकांडा चोलापुरम के किले और मंदिर की बाहरी दीवार को नष्ट कर दिया।

चोलों ने 9वीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध से लेकर 13वीं शताब्दी के शुरुआत तक के लंबे समय तक शासन किया था, लेकिन पांड्यों के उत्कर्ष के बाद चोल साम्राज्य का पतन हो गया। चोल शासकों और उनके योगदानों की उपरोक्त सूची पाठकों के सामान्य ज्ञान को बढ़ाएगा।

प्राचीन भारत का इतिहास: एक समग्र अध्ययन सामग्री