विश्व के अंतरिक्ष अन्वेषण मिशनों की सूची

अंतरिक्ष यात्रा या अंतरिक्ष अन्वेषण ब्रह्माण्ड की खोज और उसका अन्वेषण अंतरिक्ष की तकनीकों का उपयोग तथा मानवीय अंतरिक्ष उड़ानों व रोबोटिक अंतरिक्ष यानो द्वारा किया जाता है। विज्ञान के तेजी से विकास के साथ अंतरिक्ष अन्वेषण मिशन में भी तेजी से वृद्धि हुई है जिस पर इस लेख में हमने विश्व के अंतरिक्ष अन्वेषण मिशनों को सूचीबद्ध किया है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।
Nov 23, 2018 15:52 IST
    List of World's Space Explorations Mission HN

    एक ऐसा वक़्त था जब मनुष्यों के लिए समुन्द्र या सागर को पार करना भी संभव नहीं था लेकिन आज 21वीं सदी में मनुष्यों की विज्ञानिक विकास ने मनुष्यों को ब्रह्माण्ड की खोज तक पहुच दिया है जो आपने आप में अतुल्य है। अंतरिक्ष यात्रा या अंतरिक्ष अन्वेषण ब्रह्माण्ड की खोज और उसका अन्वेषण अंतरिक्ष की तकनीकों का उपयोग तथा मानवीय अंतरिक्ष उड़ानों व रोबोटिक अंतरिक्ष यानो द्वारा किया जाता है।

    विश्व के अंतरिक्ष अन्वेषण मिशन

    विश्व के अंतरिक्ष अन्वेषण मिशनों पर नीचे चर्चा की गयी है:

    1. लुना कार्यक्रम (Luna Programme)

    यह 1959 और 1976 के बीच चंद्रमा पर भेजे गए सोवियत संघ के मानव रहित अंतरिक्ष मिशन की एक श्रृंखला थी। इसे एक ऑर्बिटर या लैंडर के रूप में डिजाइन किया गया था।

    2. प्रोजेक्ट अपोलो (Project Apollo)

    यह संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा अपोलो अंतरिक्ष यान और सैटर्न लॉन्च वाहन का उपयोग करके 1961-1972 के बीच किए गए मानव अंतरिक्ष-प्रकाश मिशनों की एक श्रृंखला थी। 1961 में अपोलो के समर्थन में स्पेसफ्लाइट क्षमता बढ़ाने के लिए दो व्यक्ति परियोजना जैमिनी द्वारा पहले उड़ान भरने वाला यह तीसरा अमेरिकी मानव अंतरिक्ष कार्यक्रम था। इस मिशन के पहले अंतरिक्ष अभियान के दल में नील आर्मस्ट्रांग, माइकल कोलिन्स और बज़ एल्ड्रिन थे। चंद्रमा पर चलने वाला पहला व्यक्ति नील आर्मस्ट्रांग था।

    3. अक्टूबर 1960 में सोवियत ने अंतरिक्ष कार्यक्रम के तहत दो फ्लाईबी अंतरिक्ष खोजी यान भेजा था, जिसे मंगल 1960 ए और मंगल 1960 बी कहा गया, लेकिन दोनों पृथ्वी के कक्षा तक पहुंचने में नाकाम रहे।

    4. नासा के जेट प्रोपल्सन प्रयोगशाला ने मंगल ग्रह तक पहुंचने के दो प्रयास किए। मैरिनर 3 और मैरिनर 4 मंगल के पहले फ्लाईबी को चलाने के लिए डिजाइन किए गए समान अंतरिक्ष यान थे। मैरिनर 4 को 28 मार्च 1964 को लाल ग्रह के आठ महीने की यात्रा पर सफलतापूर्वक लॉन्च किया गया था।

    ब्रह्मांड के घटक : तारे, तारामंडल व आकाशगंगा

    5. वाइकिंग कार्यक्रम (Viking Programme)

    नासा ने 1975 में इस कार्यक्रम को चलाया था तथा इस मिशन में वाइकिंग 1 और वाइकिंग 2 नामक अंतरिक्षयान का प्रयोग किया था। दोनो ही खोजी अंतरिक्षयान ने मंगल ग्रह के कक्षा में प्रवेश किया था तथा प्रत्येक ने एक लैंडर मॉड्यूल जारी किया था ताकि मंगल ग्रह की सतह पर भविष्य में सफल लैंडिंग की जा सके।

    6. फोबोस कार्यक्रम (Phobos Programme)

    यह सोवियत संघ द्वारा मानव रहित अंतरिक्ष मिशन था जिसको मंगल ग्रह और उसके चंद्रमा फोबोस और डीमोस का अध्ययन करने के लिए भेजा गया था।

    7. मंगल ग्लोबल सर्वेक्षक (Mars Global Surveyor)

    यह दो दशको में पहला ऐसा मिशन है जो पूरी तरह सफल रहा है जिसको मंगल ग्रह पर अध्ययन के लिए 12 नवंबर, 1997 में लॉन्च किया गया था। मंगल ग्लोबल सर्वेक्षक ने 31 जनवरी 2001 को अपना प्राथमिक मिशन पूरा कर दिया था, और अब एक विस्तारित मिशन चरण में है।

    8. मंगल पाथफाइंडर (Mars Pathfinder)

    यह अंतरिक्ष यान 4 जुलाई 1997 को मंगल ग्रह के उत्तरी गोलार्ध में  एरेस वालिस नामक प्राचीन बाढ़ के मैदान पर उतरा था। इसने सोजोरनर नामक एक छोटे से रिमोट-नियंत्रित रोवर को मंगल ग्रह पर स्थापित कर दिया था जिसका मुख्या लक्ष्य था लैंडिंग साइट के आस-पास कुछ मीटर की यात्रा करना, आस-पास की स्थितियों और सैंपलिंग चट्टानों की खोज करना।

    क्या आप जानते हैं हमारे सौर मण्डल के किस ग्रह का गुरुत्वाकर्षण बल सबसे ज्यादा है?

    9. मंगल ओडिसी (Mars Odyssey)

    यह नासा द्वारा विकसित मंगल ग्रह की परिक्रमा करने वाला एक रोबोट अंतरिक्ष यान है। यह मूल रूप से मंगल सर्वेक्षक 2001 कार्यक्रम का एक घटक था, और इसे मंगल सर्वेक्षक 2001 ऑर्बिटर नाम दिया गया था। इसका उद्देश्य मंगल ग्रह सर्वेक्षक 2001 लैंडर के रूप में जाने वाला एक साथी अंतरिक्ष यान होना था, लेकिन 1999 के अंत में मंगल ग्रह जलवायु ऑर्बिटर और मंगल ध्रुवीय लैंडर की असफलताओं के बाद मई 2000 में लैंडर मिशन रद्द कर दिया गया था। इसके बाद, अंतरिक्ष अन्वेषण के दृष्टिकोण के लिए एक विशिष्ट श्रद्धांजलि के रूप में 2001 मंगल ओडिसी का नाम चुना गया था।

    10. मंगल एक्सप्रेस (Mars Express)

    यह यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी द्वारा आयोजित एक अंतरिक्ष अन्वेषण मिशन है जो फ़िलहाल यह मंगल ग्रह पर खोज कर रहा है, और एजेंसी द्वारा प्रयास किया जाने वाला पहला ग्रह मिशन है। "एक्सप्रेस" मूल रूप से गति और दक्षता को संदर्भित करता है। इस अंतरिक्ष यान में मर्स एक्सप्रेस ऑर्बिटर और लैंडर बीगल 2 शामिल हैं।

    11. मंगल अन्वेषण रोवर्स (Mars Exploration Rovers)

    यह मंगल ग्रह पर खोज के लिए नासा द्वारा लॉन्च किया गया था। यह 3 जनवरी 2004 को मंगल ग्रह पर गुसेव क्रेटर नामक स्थान पर सफलतापूर्वक उतरा था।

    12. मंगल ग्रह रिकोनिसेंस ऑर्बिटर (Mars Reconnaissance Orbiter)

    इसे 12 अगस्त 2005 को दो साल के लिए मंगल ग्रह पर वैज्ञानिक सर्वेक्षण के लिए भेजा गया था।

    13. वेनेरा मिशन (Venera Mission)

    यह जांच की एक श्रृंखला थी जिसे वीनस से डेटा एकत्र करने के लिए यूएसएसआर द्वारा विकसित किया गया था। दूसरे ग्रह के वातावरण में प्रवेश करने के लिए; किसी अन्य ग्रह पर लैंडिंग करने के लिए; ग्रह की सतह से छवियों को वापस करने और शुक्र के उच्च-रिज़ॉल्यूशन रडार मैपिंग अध्ययन करने के लिए यह पहला मानव निर्मित उपकरण था ।

    14. वेगा कार्यक्रम (Vega program)

    यह दिसंबर 1984 में सोवियत संघ और ऑस्ट्रिया, बुल्गारिया, फ्रांस, हंगरी, जर्मन डेमोक्रेटिक रिपब्लिक, पोलैंड, चेकोस्लोवाकिया और जर्मनी के संघीय गणराज्य के बीच एक सहकारी प्रयास में शुरू किए गए मानव रहित अंतरिक्ष यान मिशनों की एक श्रृंखला थी।

    15. वीनस एक्सप्रेस (Venus Express)

    यह यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी का पहला वीनस एक्सप्लोरेशन मिशन है।

    16. मैगलन अंतरिक्ष यान (Magellan Spacecraft)

    यह रोबोटिक अंतरिक्ष यान था जिसे सिंथेटिक एपर्चर रडार का उपयोग करते हुए शुक्र की सतह के मानचित्रण और ग्रहीय गुरुत्वाकर्षण को मापने के लिए 4 मई 1989 को नासा द्वारा शुरू किया गया था। इसका नाम 16वीं शताब्दी के पुर्तगाली खोजकर्ता फर्डिनेंड मैगेलन के नाम पर रखा गया था। फ्लोरिडा के केनेडी स्पेस सेंटर से शटल अटलांटिस द्वारा उडान भरने वाला यह पहला ग्रह अंतरिक्ष यान था।

    विश्व के शीर्ष 10 सबसे बड़े टेलीस्कोप कौन से हैं

    17. पायनियर कार्यक्रम (Pioneer Programme)

    यह ग्रहों की खोज के लिए मानव रहित अंतरिक्ष अंतरिक्ष मिशन था।

    18. मैरिनर कार्यक्रम (Mariner program)

    यह जेट प्रोपल्सन लेबोरेटरी (जेपीएल) के साथ अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा द्वारा आयोजित एक 10-मिशन कार्यक्रम था। यह मंगल ग्रह, शुक्र ग्रह और बुध ग्रह पर जांच के लिए बनाया गया था।

    19. वायेजर कार्यक्रम (Voyager program)

    यह बाहरी सौर प्रणाली के अध्ययन करने के लिए एक अमेरिकी वैज्ञानिक कार्यक्रम है।

    20. ज़ोंड कार्यक्रम (Zond program)

    यह 1964 से 1970 तक 3 एमवी ग्रहों की जांच के लिए सोवियत मानव रहित अंतरिक्ष कार्यक्रम की एक श्रृंखला थी जिसका उद्देश्य आसपास के ग्रहों के बारे में जानकारी इकट्ठा करना था।

    20. डॉन मिशन (Dawn Mission)

    सितंबर 2007 में नासा ने इसे क्षुद्रग्रह बेल्ट, वेस्ता और सेरेस के तीन ज्ञात प्रोटोप्लानेट्स का अध्ययन करने के लिए लॉन्च किया था। इसे 1 नवंबर 2018 को सेवानिवृत्त कर दिया गया था और वर्तमान में यह अपने दूसरे लक्ष्य, बौने ग्रह सेरेस के बारे में एक अनियंत्रित कक्षा में है।

    21. डीप इम्पैक्ट (Deep Impact)

    यह एक नासा अंतरिक्ष जांच धूमकेतु टेम्पल 1 के इंटीरियर की संरचना का अध्ययन करने के लिए डिज़ाइन की गई है।

    सौर मंडल के सबसे बड़े प्राकृतिक उपग्रहों की सूची

    22. मैसेंजर [Messenger (Mercury Surface, Space Environment, Geochemistry, and Ranging)]

    यह एक नासा रोबोटिक अंतरिक्ष यान था जिसने बुध के रासायनिक संरचना, भूविज्ञान और चुंबकीय क्षेत्र का अध्ययन करने के लिए 2011 से 2015 के बीच में भेजा गया था।

    23. रोसेट्टा (Rosetta)

    यह 2004 में लॉन्च एक यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के नेतृत्व वाले मानव रहित अंतरिक्ष मिशन धूमकेतु 67 पी / चुरीयूमोव-गैरेसीमेंको का अध्ययन करने के लिए किया गया था।

    24. हायाबुसा (Hayabusa)

    यह जापान एयरोस्पेस एक्सप्लोरेशन एजेंसी का एक मानव रहित अंतरिक्ष मिशन है जो 25143 इटाकावा (210 मीटर से 270 मीटर तक आयाम 540 मीटर) के विश्लेषण के लिए पृथ्वी के क्षैतिज के पास एक छोटे से निकट सामग्री से नमूना एकत्र करने के लिए और नमूना को विश्लेषण के लिए भेजा गया था।

    25. नियर शूमेकर (NEAR Shoemaker)

    यह जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी एप्लाइड फिजिक्स प्रयोगशाला द्वारा नासा के लिए डिजाइन की गई खोजी रोबोट स्पेस है जो पृथ्वी से निकट क्षुद्रग्रह ईरो का अध्ययन करने के लिए बनाई गयी थी।

    26. कैसिनी-ह्यूजेन्स (Cassini-Huygens)

    यह शनि और उसके चंद्रमा का अध्ययन करने के उद्देश्य से संयुक्त नासा / ईएसए / एएसआई मानव रहित अंतरिक्ष मिशन है।

    27. गैलीलियो (Galileo)

    यह बृहस्पति और उसके चंद्रमा का अध्ययन करने के लिए नासा द्वारा भेजे गए मानव रहित अंतरिक्ष यान था।

    सौरमंडल के 10 ग्रह जिनके पास प्राकृतिक उपग्रहों की संख्या सबसे ज्यादा है

    28. सुइसी (ग्रह-ए) [Suisei (Planet-A)]

    धूमकेतु हैली का अध्ययन करने के लिए जापानी अंतरिक्ष एजेंसी द्वारा भेजी गयी अंतरिक्ष यान है जिसे 18 अगस्त 1985 को कागोशिमा स्पेस सेंटर से लॉन्च किया गया था।

    29. डिस्कवरी कार्यक्रम (Discovery program)

    यह कम लागत वाली अंतरिक्ष मिशन है (न्यू फ्रंटियर या फ्लैगशिप प्रोग्राम्स की तुलना में) जो सौर मंडल की खोज करने के लिए लांच की गयी थी।

    30. चंद्रयान कार्यक्रम (Chandrayaan Program)

    यह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के चंद्र अन्वेषण कार्यक्रम के अंतर्गत द्वारा चंद्रमा की तरफ कूच करने वाला भारत का पहला अंतरिक्ष यान था। इस अभियान के अन्तर्गत एक मानवरहित यान को 22, अक्टूबर 2008 को चन्द्रमा पर भेजा गया और यह 30 अगस्त, 2009 तक सक्रिय रहा। यह यान ध्रुवीय उपग्रह प्रमोचन यान (पोलर सेटलाईट लांच वेहिकल, पी एस एल वी) के एक संशोधित संस्करण वाले राकेट की सहायता से सतीश धवन अंतरिक्ष केन्द्र से प्रक्षेपित किया गया। इसे चन्द्रमा तक पहुँचने में 5 दिन लगे पर चन्द्रमा की कक्षा में स्थापित करने में 15 दिनों का समय लग गया। चंद्रयान का उद्देश्य चंद्रमा की सतह के विस्तृत नक्शे और पानी के अंश और हीलियम की तलाश करना था।

    31. मंगलयान कार्यक्रम (Mangalyaan Program)

    भारत का प्रथम मंगल अभियान है तथा प्रथम ग्रहों के बीच का मिशन है। वस्तुत: यह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन की एक महत्वाकांक्षी अन्तरिक्ष परियोजना है। इस परियोजना के अन्तर्गत 5 नवम्बर 2013 को 2 बजकर 38 मिनट पर मंगल ग्रह की परिक्रमा करने हेतु छोड़ा गया एक उपग्रह आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसऍलवी) सी-25 के द्वारा सफलतापूर्वक छोड़ा गया।

    इस मिशन का मुख्य लक्ष्य अन्तरग्रहीय अन्तरिक्ष मिशनों के लिये आवश्यक डिजाइन, नियोजन, प्रबन्धन तथा क्रियान्वयन का विकास करना है। ऑर्बिटर अपने पांच उपकरणों के साथ मंगल की परिक्रमा करता रहेगा तथा वैज्ञानिक उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए आंकड़े व तस्वीरें पृथ्वी पर भेजेगा। अंतरिक्ष यान पर वर्तमान में इसरो टेलीमेट्री, ट्रैकिंग और कमांड नेटवर्क (इस्ट्रैक),बंगलौर के अंतरिक्षयान नियंत्रण केंद्र से भारतीय डीप स्पेस नेटवर्क एंटीना की सहायता से नजर रखी जा रही है।

    32. चांग कार्यक्रम (Chang'e Program)

    यह चीन नेशनल स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (सीएनएसए) द्वारा रोबोटिक चंद्रमा मिशनों की एक सतत श्रृंखला है। इस कार्यक्रम में लांग मार्च रॉकेट्स का उपयोग करके लॉन्च ऑर्बिटर, लैंडर्स, रोवर्स और नमूना रिटर्न स्पेसक्राफ्ट को शामिल किया गया है।

    33. निजी एस्ट्रोबोटिक प्रौद्योगिकी कार्यक्रम (Private Astrobotic Technology Program)

    यह एक अमेरिकी निजी कंपनी है जो ग्रह मिशनों के लिए अंतरिक्ष रोबोटिक्स प्रौद्योगिकी विकसित कर रही है। 2008 में कार्नेगी मेलॉन के प्रोफेसर रेड व्हिटकर और उनके सहयोगियों ने गूगल चंद्र एक्स पुरस्कार जीतने के लक्ष्य के साथ इसकी स्थापना की थी।

    सौरमंडल से निकटतम 10 तारों की सूची

    Loading...

    Most Popular

      Register to get FREE updates

        All Fields Mandatory
      • (Ex:9123456789)
      • Please Select Your Interest
      • Please specify

      • ajax-loader
      • A verifcation code has been sent to
        your mobile number

        Please enter the verification code below

      Loading...
      Loading...