मुस्लिम देश जहां तीन तलाक प्रतिबंधित है

वर्तमान भारत , समाजिक तथा धर्मिक उत्थान में कार्यरत है उनमे से तीन तलाक मौजूदा ज्वलंत विषयों में से एक है जो पुनर्विचार के रास्ते पर हैं। समसामयिकी परिपेक्ष को ध्यान रखते हुए, हम प्रमुख इस्लामी देशों का नाम दे रहे हैं जहा तीन तलाक प्रतिबंधित है।
Dec 27, 2018 16:42 IST
    Muslim Countries where Triple Talaq is banned HN

    'तलाक' शब्द एक अरबी आयत से निकला है जिसका अर्थ है “बंधन से आजाद करना या उसे खोलना” जो शादी को तोड़ने (divorce) को संदर्भित करता है। तलाक के बारे में कुरान का संदेश बेहद स्पष्ट है क्योंकि यह शादी को अचानक खत्म करने की बजाए उसे बचाने के बारे में है। लेकिन अभी भी लोगों को तलाक के जरिए अलग होने या शादी को पूरी तरह से तोड़ने की जरूरत महसूस करते हैं तो पति और पत्नी को मध्यस्थता की जरूरत होती है।

    चर्चा को आगे बढ़ाने से पहले, हमें तीन बार तलाक की अवधारणा का पता होना चाहिए– वास्तविकता में यह तीन बार बोलने के लिए नहीं है बल्कि यह तीन चरणों वाली प्रक्रिया को अपनाने के बारे में है और इसे दोनों पक्षों की तरफ से मध्यस्थों के बिना बोलने की भी इजाजत नहीं होती क्योंकि इस्लाम, यदि संभव हो तो, फिर से सोचने, पुनर्विचार करने और पुनःसमन्वय करने की बात करता है। दूसरे शब्दों में, "तलाक स्पष्ट रूप से या निहित संख्या के साथ, को सिर्फ एक तलाक माना जाएगा और ऐसे तलाक तीन तलाक, प्रत्येक मासिक चक्र में एक, दिए जाने के बाद रद्द किए जाने योग्य है।" इसलिए, किसी भी परिस्थिति में मौखिक रूप से तीन बार तलाक कहना इस्लाम की भावना के प्रतिकूल है। यहां, हम उन देशों की सूची दे रहे हैं जहां तीन तलाक कानूनी रूप से मान्य नहीं हैं।

    मुस्लिम देश जहां तीन तलाक प्रतिबंधित है

    1. पाकिस्तान

    वर्ष 1956 में विवाह एवं परिवार कानून पर बने 7 – सदस्यी आयोग द्वारा की गई सिफारिशों के बाद इसे समाप्त कर दिया गया था और मिस्र के जैसे ही विवाह और तलाक पर कानून बनाया गया था। इसके अनुसार पति को लगातार तीन ऋतु–चक्र में तलाक बोलना चाहिए।

     Talaq in Pakistan

    विश्व में सबसे ज्यादा और कम कानूनों का पालन करने वाले देश कौन से हैं?

    2. मिस्र

    कुरान के अनुसार तलाक की प्रणाली में सुधार करने वाला यह पहला देश था। यह सुधार 1929 में किए गए थे।

     Talaq in Egypt

    10 दुर्लभ परंपराएं जो आज भी आधुनिक भारत में प्रचलित हैं

    3. ट्यूनिशिया

    ट्यूनिशिया के पर्सनल स्टेटस कोड 1956 के अनुसार, विवाह नाम की व्यवस्था राज्य एवं न्यायपालिका के दायरे में आती है जो पति को बिना कारण बताए अपनी पत्नी को मुंह से बोलकर तलाक देने की अनुमति नहीं देता है।

     Talaq in Tunisia

    हिन्दू नववर्ष को भारत में किन-किन नामों से जाना जाता है

    4. श्रीलंका

    हालांकि यह मुस्लिम बहुल देश नहीं है लेकिन कुछ इस्लामिक विद्वान श्रीलंकाई विवाह एवं तलाक (मुस्लिम) अधिनियम, 1951 को “तलाक (ट्रिपल तलाक) पर सबसे आदर्श कानून” मानते हैं। इस अधिनियम में यह व्यवस्था की गई है कि यदि पति अपनी पत्नी से अलग होना चाहता है तो उसे अपनी इच्छा काजी (मुस्लिम जज) के साथ– साथ पत्नी के संबंधियों, बड़े– बुजुर्गों और इलाके के अन्य प्रभावशाली मुस्लिमों को बतानी होगी ताकि वे फिर से सोचने, विचार करने और सुलह कराने की कोशिश कर सकें।

     Talaq in Srilanka

    मानव इतिहास के 10 सबसे नायाब और मूल्यवान सिक्के

    5. बांग्लादेश

    बांग्लादेश में तलाक की प्रक्रिया बहुत आसान है। ऐसे पति–पत्नी जो तलाक लेना चाहते हैं उन्हें सिर्फ तीन चरणों वाली प्रक्रिया ( जब तलाक देने का अधिकार केबिन में दिया जाता है) अपनानी होती है –

    I. लिखित में सूचना देना।

    II. मध्स्थता बोर्ड का सामना करना ( बोर्ड के सामने आएं या नहीं, मायने नहीं रखता), और

    III. 90 दिनों की अवधि समाप्त हो जाने के बाद पंजीकृत निकाह रजिस्ट्रार (काजी) से पंजीकरण प्रमाणपत्र लेना।

    6. तुर्की

    तुर्की में तलाक की प्रक्रिया तभी शुरु हो सकती है जब शादी का पंजीकरण वाइटल स्टैटिस्टिक्स ऑफिस में कराया गया हो। फिर तलाक की पूरी प्रक्रिया नागरिक अदालत में होगी।

    तुर्की में तलाक के स्वीकार्य आधार

     Turkey-talaq

    चीन से संबंधित 15 रोचक तथ्य

    7. इंडोनेशिया

    प्रत्येक तलाक अदालत के फैसले से ही होगा। पति और पत्नी के बीच तलाक पर समझौता को तलाक नहीं माना जाएगा, सिर्फ अदालत का फैसला ही तलाक करवा सकता है। यह 1974 के विवाह कानून के कानून सं। 1 द्वारा विनियमित है, जो सरकार के 1975 के विनियमन सं। 9 के तहत भी विनियमित होता है। यह 1974 के विवाह कानून के कानून सं। 1 (विवाह विनियमन) से संबंधित है।

    8. इराक

    यह पहला अरब देश था जिसने सरकार द्वारा संचालित व्यक्तिगत दर्जे वाले अदालत से शरिया अदालत को प्रतिस्थापित किया था।

     Talaq in Iraq

    उपरोक्त लेख में वर्तमान में सबसे अधिक चर्चित तीन तलाक के मुद्दे का विश्लेषण किया गया है जो बताता है कि किस प्रकार भारतीय समाज (चाहे मामला सामाजिक हो या धार्मिक), सुधार की दिशा में आगे बढ़ सकता है। इसके साथ ही इस बात पर भी चर्चा करता है वे कौन से मुद्दे हैं  जिसने “तीन तलाक” (तत्काल तलाक) के कानून को इतना मुश्किल बना दिया है। वास्तविकता यह है कि ये कानून संहिताबद्ध नहीं है इसलिए व्याख्या और समायोजन के लिए पूरी तरह से खुले हुए हैं।

    सामान्य ज्ञान तथ्य: इतिहासिक तथ्य | वैज्ञानिक तथ्य | खेल से सम्बथित तथ्य

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...