सूफी क्रांति- विशेषता, पूजा की पद्धति और सूफीवाद के दस चरण

सूफी गीत आज के लोकप्रिय हिंदी संगीत में बहुत लोकप्रिय हो रहे हैं और दरवेश या फ़क़ीर अभी भी दान-पुण्य और नि:स्वार्थता के जीवन के हमारे विचारों में एक भाग का निर्माण करते है। इस लेख में हमने सिफ़ी क्रांति, सूफीवाद की विशेषता, पूजा की पद्धति और इसके दस चरण के बारे में बताया है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।
Feb 13, 2019 13:11 IST
    Sufi Revolution- Features, Methodology of worship and ten steps of Sufism HN

    सूफी गीत आज के लोकप्रिय हिंदी संगीत में बहुत लोकप्रिय हो रहे हैं और दरवेश या फ़क़ीर अभी भी दान-पुण्य और नि:स्वार्थता के जीवन के हमारे विचारों में एक भाग का निर्माण करते है। साधारण शब्दों में बोला जाये तो सूफी मत रहस्यमय  दर्शन  का एक रूप है जिसका उद्धेश्य नैतिक और रहस्यमय दर्शन की प्राप्ति करना है।

    सूफी शब्द की जड़े ऊन के लिए अरबी शब्द ‘सूफी’ में निहित हैं जो सन्यासियों और यहाँ तक की नबियों पैगम्बरों द्वारा पहने जाने वाले मोटे ऊन के वस्त्र की ओर संकेत करता है ।

    अरबी में सूफी शब्द का मतलब होता है 'पवित्रता'। सूफियों के दो शेड हैं: बा-सारा जो इस्लामी कानून में विश्वास करते हैं और बे-शर जो इस्लामिक कानून में विश्वास नहीं करते हैं।

    11 वीं और 12 वीं शताब्दी के बीच भारत में सूफीवाद का प्रवेश हुआ। अल-हुजवारी पहले सूफी थे, जो भारत में बस गए और 1089 ई. में उनकी मृत्यु हो गई, जिन्हें लोकप्रिय रूप से दाता गंज नक्ष (असीमित खजाने का वितरक) के रूप में जाना जाता है। मुल्तान और पंजाब सूफीवाद का प्रारंभिक केंद्र था और 13 वीं और 14 वीं शताब्दी तक, यह कश्मीर, बिहार, बंगाल और दक्कन तक फैल गया।

    भारतीय दर्शनशास्त्र के विधर्मिक स्कूलों की सूची

    सूफीवाद की विशेषता

    सूफीवाद की मुख्य विशेषताएं नीचे दी गई हैं:

    1.  सूफ़ीवाद या तसव्वुफ़ इस्लाम का एक रहस्यवादी पंथ है। यद्यपि सूफी संत आंतरिक पवित्रता की बात करते हैं वहीँ रूढ़िवादी मुस्लिम बाहरी आचरण और धार्मिक अनुष्ठानों पर ज़ोर देते हैं।

    2. सूफीवाद का मानना है कि- ईश्वर प्रेमी (माशूक) का प्रिय है अर्थात् भक्त अपने प्रिय (ईश्वर) से मिलने के लिए उत्सुक रहता है।

    3. सूफीवाद का मानना है कि प्रेम और भक्ति ही केवल ईश्वर तक पहुंचने का साधन है।

    4. पैगंबर मुहम्मद के साथ, सूफीवाद ने 'मुर्शिद' या 'पीर' को भी बहुत महत्व दिया है।

    5. सूफीवाद का मानना है कि उपवास (रोज़ा) या प्रार्थना (नमाज़) की तुलना में भक्ति अधिक महत्वपूर्ण है।

    6. सूफीवाद जाति व्यवस्था की भर्त्सना करता है।

    7. सूफीवाद को 12 आदेशों में विभाजित किया गया था और प्रत्येक एक रहस्यवादी सूफी संत के अधीन होता था।

    भक्ति आंदोलन के संतों और शिक्षकों की सूची

    सूफीवाद की पूजा पद्धति

    सूफीवाद अनुसार ईश्वर के साथ मिलन या ईश्वर के दर्शन के मार्ग के रूप को सबसे एहम मानता है। उस दृष्टि से, सूफीवाद आध्यात्मिक अभ्यास के आंतरिक और बाहरी आयामों, गूढ़ और गूढ़ व्यक्ति का विकास केंद्र मानता है।  

    सूफीवाद में इस बात पर बल दिया गया है कि ईश्वर और उसके भक्तों के बीच कोई मध्यस्थ नहीं होना चाहिए। इसलिए भक्ति मार्ग ही “ईश्वर की प्राप्ति” का मार्ग है।

    सूफी मजारों में जाने को 'ज़ियारत' कहा जाता है। नृत्य और गायन विशेष रूप से कुव्वली, ऐसी भक्ति का हिस्सा है। सूफी संतों का मानना है कि गायन में (ज़िक्र और समां) ईश्वर का नाम लेना सम्पूर्ण भक्ति है। चिश्ती समां अमीर खुसरो द्वारा लोकप्रिय किया गया था।

    भारत में सूफी आन्दोलन का संक्षिप्त विवरण

    सूफीवाद के दस चरण

    सूफीवाद द्वारा ईश्वर को महसूस करने के लिए निर्धारित दस कदम नीचे दिए गए हैं:

    1. तौबा का शाब्दिक अर्थ होता है पश्चाताप (अपने पिछले आचरण के लिए पछतावा)

    2. ज़ुहाद का शाब्दिक अर्थ होता है धर्मपरायणता (पवित्रता के आधार पर धार्मिकता)

    3. वारा का शाब्दिक अर्थ होता है संयम (परहेज करने का कार्य या अभ्यास)

    4. फ़क़र का शाब्दिक अर्थ होता है गरीबी (बहुत कम या कम पैसा और कुछ या कोई भौतिक संपत्ति होने की स्थिति)

    5. सब्र का शाब्दिक अर्थ होता है धैर्य (देरी या अक्षमता का अच्छा स्वभाव सहिष्णुता)

    6. शुक्रा का शाब्दिक अर्थ होता है कृतज्ञता (आभार और प्रशंसा की भावना)

    7. रज़ा का शाब्दिक अर्थ होता है आशा (आशावादी होना; आशा से भरा होना; आशाएँ होना)

    8. रिज़ा का शाब्दिक अर्थ होता है प्रस्तुत करना (प्रस्तुत करने का कार्य, आमतौर पर दूसरे के लिए आत्मसमर्पण करना)

    9. खौफ का शाब्दिक अर्थ होता है भय (कुछ विशिष्ट दर्द या खतरे की प्रत्याशा में अनुभव किया गया भाव)

    10. ताउवक्कुल का शाब्दिक अर्थ होता है संतोष (जीवन में किसी भी स्थिति में खुश रहना)

    मध्यकालीन भारत का इतिहास: एक समग्र अध्ययन सामग्री

    Loading...

    Most Popular

      Register to get FREE updates

        All Fields Mandatory
      • (Ex:9123456789)
      • Please Select Your Interest
      • Please specify

      • ajax-loader
      • A verifcation code has been sent to
        your mobile number

        Please enter the verification code below

      Loading...
      Loading...