1. Home
  2.  |  
  3. GENERAL KNOWLEDGE
  4.  |  
  5. विज्ञान  |  

विटामिन D क्या है?

Apr 23, 2018 15:47 IST
    विटामिन D एक पोषक तत्व के साथ शरीर में बनने वाला हार्मोन भी है. यह हमारे शरीर के लिए बहुत महत्वपूर्ण है. यह हमारे शरीर में कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, फॉस्फेट आदि को अवशोषित करने में मदद करता है. इसकी कमी से शरीर में काफी बीमारियां हो सकती हैं. आइये इस लेख के माध्यम से अध्ययन करते है विटामिन D क्या होता है और क्यों हमारे शरीर के लिए जरुरी है, कैसे यह कार्य करता है आदि.
    What is Vitamin D?

    विटामिन D स्वास्थ्य और हड्डियों को मजबूत रखने के लिए काफी महत्वपूर्ण है. यह एक महत्वपूर्ण कारक है मांसपेशियों, दिल, फेफड़ों और मस्तिष्क के लिए साथ ही आपका शरीर इसकी मदद से संक्रमण से भी लड़ सकता है.

    क्या आप जानते है कि विटामिन डी एक पोषक तत्व के साथ शरीर में बनने वाला हार्मोन भी है. आइये इस लेख के माध्यम से अध्ययन करते है विटामिन D क्या होता है और क्यों हमारे शरीर के लिए जरुरी है, कैसे यह कार्य करता है आदि.
    विटामिन D क्या है?
    विटामिन D को सनशाइन विटामिन भी कहा जाता है क्योंकि यह सूर्य के प्रकाश की प्रतिक्रिया में शरीर द्वारा उत्पन्न किया जाता है. यह एक घुलनशील विटामिन के समूह में आता है यानी यह हमारी वसा कोशिकाओं में संचित रहता है और लगातार कैल्शियम के चयापचय (मेटाबोलिज्म) और हड्डियों के निर्माण में उपयोगी होता है. इसलिए कहा जाता है कि यह शरीर में कैल्शियम तथा फॉस्फेट के अवशोषण को बढ़ाता है.
    विटामिन D  दो प्रकार का होता है: विटामिन D2 और विटामिन D3.
    विटामिन D2 को अर्गोकेल्सीफेरोल (Ergocalciferol) भी कहते हैं.
    विटामिन D3 को कोलकेल्सीफेरोल (Cholecalciferol) भी कहते हैं.
    जब हम विटामिन D को सूरज की रौशनी, भोजन या दवाइयों की मदद से लेते हैं तो यह हमारे शरीर में हॉर्मोन में बदल जाता है. इस हॉर्मोन को सक्रिय विटामिन D  या कैल्सीट्रिओल (calcitriol) कहते है. हमारे शरीर को लगभग 90% विटामिन D की जरुरत होती है. यह तब हो सकता है जब आप पर्याप्त धूप  और ऐसे खाद्य पदार्थ जिसमे विटामिन D हो को लेते हों.
    सूरज की रौशनी से विटामिन D कैसे मिलता है?
    जब हमारी त्वचा को सूरज की रोशनी मिलती है, तो हमारा शरीर cholecalciferol नामक पदार्थ पैदा करता है. फिर यह यकृत (liver) और गुर्दे (kidneys) की मदद से calcidiol और calcitriol में बदल जाता है. calcitriol विटामिन D का सक्रीय रूप है जो आपका डॉक्टर आपके विटामिन डी के स्तर का आकलन करने के लिए मापता है. क्या आप जानते हैं कि केवल 10 मिनट की धूप विटामिन D की कमी से बचने के लिए पर्याप्त है.

    लीवर के बारे में 10 महत्वपूर्ण तथ्य
    विटामिन D के क्या फायदे हैं?
    1. विटामिन D प्रतिरक्षण तन्त्र को मजबूत करता है जिससे संक्रमण से लड़ने में मदद मिलती है यानी सर्दी, फ्लू और निमोनिया से सुरक्षा प्रदान करता है.
    2.  विटामिन D शिशु के विकास में भी सहायक होता है.
    3.  यह मांसपेशीयों को सही से काम करने में मदद करता है.
    4.  यह मस्तिष्क में वृद्धि और कैंसर विरोधी है.
    5.  विटामिन D घाव भरने में भी सहायक है.
    6.  कार्डियोवैस्कुलर फ़ंक्शन यानी दिल को स्वस्थ और परिसंचरण के लिए भी महत्वपूर्ण है.
    7.  श्वसन प्रणाली, फेफड़ों को स्वस्थ रखता है.
    8.  विटामिन D की पर्याप्त मात्रा से गिरने, फ्रैक्चर, उच्च रक्तचाप आदि को कम करता है.
    9.  विटामिन D की पर्याप्त मात्रा से कैंसर, रिकेट्स, ऑस्टियोपोरेसिस, वृक्क रोग, तपेदिक, मोटापा, बालों का झड़ना और अवसाद जैसे रोगों के खतरे कम होते हैं.
    10.  यह टाइप-1 मधुमेह से होने वाली चोटों के खतरों को भी कम करता है.

    Samanya gyan eBook

    विटामिन D हमारे शरीर में कैसे काम करता है?
    जब त्वचा सूर्य के संपर्क में आती है, तो यह विटामिन D पैदा करती है और इसे यकृत (liver) में भेजती है. यदि आप विटामिन D युक्त खाद्य पदार्थ खाते हैं या कोई सप्लीमेंट लेते हैं, तो आपकी आंत (gut) भी यकृत में विटामिन D को भेजती है. यहां से, यकृत (liver)  इसे 25(OH)D नामक पदार्थ में बदल देती है. जब डॉक्टर विटामिन D के स्तर के बारे में बात करता है, तो उसका मतलब रक्त में 25(OH)D  की मात्रा से होता है.
    यह रसायन सम्पूर्ण शरीर के हिस्से में भेजा जाता है जहां गुर्दे (kidney) समेत विभिन्न ऊतक (tissues) इसे सक्रिय विटामिन D (activated vitamin D) में बदल देते हैं. यह सक्रिय विटामिन D  दो तरीकों से काम कर सकता है:
    - रक्त, हड्डियों और आंत में कैल्शियम का प्रबंधन करता है.
    - ठीक से संवाद करने के लिए भी यह शरीर की सभी कोशिकाओं की मदद करता है.
    विटामिन D की कमी से क्या हो सकता है?
    विटामिन D की कमी से:
    - अवसाद, मोटापा, ऑस्टियोपोरेसिस, मल्टिपल स्केलेरॉसिस, मसूढ़ों के रोग, प्रीमेन्स्ट्रुअल सिंड्रोम, दमा, ब्रान्काइटिस, तनाव और मधुमेह जैसी अन्य बीमारियां हो सकती हैं.
    - थकान का होना, बोन फ्रैक्चर, मांसपेशियों में खिंचाव, जोड़ों में दर्द, हड्डी का दर्द जैसे पीठ दर्द अन्य बीमारियां हो सकती हैं.
    - महिलाओं में विटामिन D3 की कमी से बाल झड़ने की समस्या भी हो सकती है.
    - विटामिन D की कमी से पसीना बहुत आता है और शरीर का तापमान भी 98.6 डिग्री के आसपास बना रहता है.
    जैसा कि आपने देखा कि विटामिन D हमारे लिए कितना महत्वपूर्ण है और इसके बिना, हमारा शरीर सर्वश्रेष्ठ तरीके से काम नहीं कर सकता है.

    महत्वपूर्ण हार्मोन और उनके कार्यों की सूची

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...