विश्व में सबसे ज्यादा और कम कानूनों का पालन करने वाले देश कौन से हैं?

वर्ल्ड जस्टिस प्रोजेक्ट द्वारा 113 देशों का लॉ इंडेक्स 2016 प्रस्तुत किया गया, जिसमे यह पता चला कि दुनिया में सबसे ज्यादा कानून मानने वाले देशों में प्रथम स्थान पर दूसरे पर डेनमार्क और तीसरे पर नॉर्वे है जबकि सबसे कम कानून मानने वाला देश वेनेजुएला है l इस सर्वे में भारत 0.51 स्कोर के साथ 66 वें स्थान पर है, हालांकि सन 2015 में भारत की रेंक 69 थी l
Mar 31, 2017 10:37 IST

    विश्व न्याय परियोजना World Justice Project (WJP) एक स्वतंत्र, बहुआयामी संगठन है जो पूरे विश्व में "कानून के शासन" को आगे बढ़ाने के लिए काम करता है। विश्व न्याय परियोजना कानून के शासन के आधारभूत महत्व के बारे में जन जागरूकता बढ़ाने, सरकारी सुधारों को प्रोत्साहित करना, और सामुदायिक स्तर पर व्यावहारिक कार्यक्रम विकसित करना चाहता है। इसकी स्थापना 2006 में विलियम एच नुकॉम ने अमेरिकी बार एसोसिएशन के राष्ट्रपति पद पर रहते हुए अपने 21 सहयोगियों के समर्थन के साथ की थीl सन 2009 में यह एक गैर-लाभकारी संगठन बन गया थाl  इसके कार्यालय वाशिंगटन, डी.सी. और सिएटल, वाशिंगटन, संयुक्त राज्य अमेरिका में स्थित है।

    वर्ल्ड जस्टिस प्रोजेक्ट द्वारा 113 देशों का लॉ इंडेक्स 2016 प्रस्तुत किया गया, जिसमे यह पता चला कि दुनिया में कानून का सबसे ज्यादा पालन करने वाले (lawful) और सबसे कम पालन करने वाले (lawless) देश कौन से हैंl यह इंडेक्स शामिल किये गए देशों के एक लाख से ज्यादा घरों में 44 मानकों के आधार पर तैयार किये गए सर्वे पर आधारित हैl

    world-justice-project

    20 ऐसे कानून और अधिकार जो हर भारतीय को जानने चाहिए

    वर्ल्ड जस्टिस प्रोजेक्ट की परिभाषा निम्न चार सिद्धांतों के आधार पर बनायी गयी है:

    1. सरकार और उसके अधिकारी तथा एजेंट कानून के प्रति जवाबदेह हों ।

    2. कानून स्पष्ट, प्रचारित, स्थिर और निष्पक्ष हैं, जो व्यक्तियों और संपत्ति की सुरक्षा सहित उनके मूलभूत अधिकारों की रक्षा करता हों ।

    3. जिस प्रक्रिया के द्वारा कानून लागू किया जाता है वह सुलभ, प्रभावशाली और निष्पक्ष हो।

    4. न्याय सक्षम, नैतिक और स्वतंत्र प्रतिनिधियों और तटस्थ व्यक्तियों द्वारा प्रदान किया जाता है, जो पर्याप्त संख्या में उपलब्ध हैं एवं उनके पास पर्याप्त संसाधन भी उपलब्ध हैंl इसके अलावा वे जिस समुदाय की सेवा करते हैं, वह उनके काम में प्रतिबिंबित होता है।

    किन मानकों के आधार पर इस रिपोर्ट को बनाया गया है :

    1. सरकारी शक्तियों पर प्रतिबंध (Constraints on Government Powers)

    2. भ्रष्टाचार का अभाव (Absence of Corruption)

    3. आदेश और सुरक्षा (Order and Security)

    4. मौलिक अधिकार (Fundamental Rights)

    5. ओपन सरकार (Open Government)

    6. नियामक प्रवर्तन (Regulatory Enforcement)

    7. नागरिक न्याय (Civil Justice)

    8. आपराधिक न्याय (Criminal Justice)

    9. अनौपचारिक न्याय (Informal Justice)

    इस सर्वे के अनुसार सबसे ज्यादा कानून मानने वाले (lawful countries) देशों के नाम इस प्रकार हैं :

           देश

          रैंक

     स्कोर

     1. डेनमार्क

     1

     0.89

     2. नॉर्वे

     2

     0.88

     3. फ़िनलैंड

     3

     0.89

     4. स्वीडन

     4

     0.86

     5. नीदरलैंड

     5

     0.86

    जानें भारत के किस राज्य में मांसाहारियों (नॉन वेज खाने वालों) का प्रतिशत सबसे अधिक है?

    most-lawful-countries-2016

    Image source:indy100

    सबसे कम कानून मानने वाले (lawless countries) देशों के नाम इस प्रकार हैं :

     देश

     रैंक

     स्कोर

     1. वेनेजुएला

     113

     0.28

     2. कम्बोडिया

     112

     0.33

     3. अफगानिस्तान

     111

     0.35

     4. मिश्र

     110

     0.35

     5. केमरून

     109

     0.37

    most-lawless-countries-2016

    Image source:The New York Times

    Note: इस सर्वे में भारत 0.51 स्कोर के साथ 66 वें स्थान पर है, हालांकि सन 2015 में भारत की रेंक 69 थी l

    इस प्रकार ऊपर दी गयी विभिन्न देशों की रैंकिंग इस बात का सबूत है कि यदि कोई देश सभी नागरिकों के अधिकारों की रक्षा करता है, कानून का दर सभी के लिए सामान हो, और भ्रष्टाचार की कमी हो तो वह देश सबसे अच्छी रैंकिंग का हकदार बन ही जाता है l

    कौन-कौन से ब्रिटिशकालीन कानून आज भी भारत में लागू हैं

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...