Search

हवाई जहाज में कौन से ईंधन का उपयोग किया जाता है?

हवाई जहाज में सफर करने वालों की गिनती दिन पर दिन बढ़ती जा रही है. परन्तु क्या आपने कभी ध्यान दिया है कि हवाई जहाज किस ईंधन से चलता है, भारत में कौन से ईंधन का इस्तेमाल हवाई जहाज में किया जाता है. हवाई जहाज में कितने प्रकार के ईंधन होते हैं. आइये इस लेख के माध्यम से अध्ययन करते हैं.
Oct 18, 2018 16:42 IST
Which type of fuel is used in an Aeroplane?

आजकल हवाई जहाज में उड़ान भरने वालो की संख्या में वृद्धि हो रही है. हवाई जहाज को उड़ते हुए अधिकतर सबने देखा होगा. परन्तु क्या आपने कभी सोचा है कि हवाई जहाज में ईंधन कौन सा इस्तेमाल होता है. भारत में हवाई जहाज में किस प्रकार के ईंधन का प्रयोग किया जाता है. क्या ये सामान्य पेट्रोल या डीजल से अलग होता है. आइये इस लेख के माध्यम से अध्ययन करते है.

हम आपको बता दें कि हवाई जहाज या बड़े विमान को उड़ान भरने के लिए उनका रनवे लंबा होता है. आमतौर पर वाणिज्यिक एयरपोर्ट का रनवे एस्फाल्ट (asphalt) से बना होता है जिसकी परतें 4 फीट तक मोटी होती हैं. हवाई जहाज करीब 35,000 फीट यानी 10.668 किलोमीटर की उंचाई पर उड़ते हैं. आइये अब अध्ययन करते हैं कि इनमें किस प्रकार के ईंधन का उपयोग किया जाता है.

हवाई जहाज में कौन से ईंधन का उपयोग होता है?
भारत में इंडियन ऑयल विमानन सेवा एक प्रमुख विमानन ईंधन समाधान प्रदाता और प्रमुख अंतरराष्ट्रीय और घरेलू एयरलाइनों को जेट ईंधन को सप्लाई करती है.

विमानन उद्योग में उपयोग किए जाने वाले विभिन्न प्रकार के ईंधन होते हैं और किस प्रकार के ईंधन का उपयोग किया जाएगा ये विमान के इंजन के प्रकार पर निर्भर करता है. वाणिज्यिक विमानों और लड़ाकू विमानों में उपयोग किया जाने वाला ईंधन केरोसिन आधारित होता है, जहां पूर्ण शुद्ध केरोसिन का उपयोग किया जाता है और इसके अलावा कुछ additives को भी मिलाया जाता है जैसे एंटीऑक्सिडेंट्स,एंटीफ्रीज़, हाइड्रोकार्बन, धातु निष्क्रिय करने वाले पदार्थ इत्यादि क्योंकि ये additives गैस टर्बाइनों में जंग नहीं लगने देते हैं, उच्च ऊंचाई पर फ्रीज़ नहीं होने देते और अन्य नुकसान से भी बचाते हैं.

सामान्य विमानन में आमतौर पर उपयोग किए जाने वाले दो प्रकार के ईंधन जेट ईंधन और एवीगैस (Avgas) होते हैं. जैसा कि नाम से पता चलता है, जेट ईंधन का मुख्य रूप से जेट इंजनों को पॉवर देने के लिए उपयोग किया जाता है, जो विमान को आगे बढ़ाने के लिए निष्कासित हवा के शक्तिशाली जोर पर भरोसा करते हैं. एवीगैस (विमानन गैसोलीन) छोटे टर्बोप्रॉप (turboprop) विमान पर पिस्टन इंजन ड्राइव करने के लिए प्रयोग किया जाता है, जो विमान को ऊपर उड़ाने में प्रोपेल्लर्स की मदद करता है.  

हवाई जहाज 1 लीटर में कितना माइलेज देता है?

जेट ईंधन (Jet Fuel)

जेट ईंधन एक केरोसिन-प्रकार का ईंधन है जो हाइड्रोकार्बन अणुओं से बना होता है और एक रंगहीन, दहनशील, सीधे चलने वाला तरल पेट्रोलियम डिस्टिलेट है. आमतौर पर एक रंगहीन या भूरे रंग का तरल होता है, दो सबसे व्यापक रूप से उपयोग किएकी जाने वाली श्रेणियां जेट ए और जेट ए -1 हैं. इन दोनों के बीच मुख्य अंतर फ्रीज़िंग पॉइंट का है, जिसे तापमान के रूप में परिभाषित किया जाता है जहां प्रयोगशाला परीक्षण के तहत मोम के क्रिस्टल गायब हो जाते हैं.

हम आपको बता दें कि जेट ईंधन सका मुख्य उपयोग जेट इंजन ईंधन के रूप में किया जाता है. दुनिया भर में सबसे आम जेट ईंधन एक केरोसिन आधारित ईंधन है जो जेट ए-1 के रूप में वर्गीकृत है. भारत में शासी विनिर्देश IS 1571: 2001 है.

1. जेट ए (JET A)

यह केरोसिन के एक समान प्रकार का ईंधन है, जो उत्पादित और आमतौर पर केवल यू.एस. में उपलब्ध होता है. इसमें जेट ए -1 के समान फ्लैश प्वाइंट है लेकिन उच्चतम फ्रीज पॉइंट (- 40 डिग्री सेंटीग्रेड) है.

2. जेट ए 1 (JET A1)

जेट ए 1 अधिकांश टरबाइन इंजन वाले विमानों के लिए उपयुक्त ईंधन का केरोसिन ग्रेड है. इसमें फ्लैश प्वाइंट न्यूनतम 38 डिग्री सेल्सियस (100 F) और फ्रीज पॉइंट अधिकतम -47 डिग्री सेल्सियस है. यह यू.एस.ए. के बाहर व्यापक रूप से उपलब्ध है. भारत में भी इस ईंधन का उपयोग किया जाता है.

उदाहरण के लिए: जेट ए में आमतौर पर कोई स्थिर विघटन करने वाला additive नहीं होता है, जबकि अधिकांश जेट ए -1 में होता है.

3. जेट बी (JET B)

जेट बी को व्यापक कट ईंधन कहा जाता है क्योंकि यह गैसोलीन और केरोसिन अंशों का मिश्रण है. जेट बी का फ्रीज़िंग पॉइंट है, लगभग -60 डिग्री सेल्सियस और इसका वाष्प दबाव केरोसिन की तुलना में अधिक है और गैसोलीन की तुलना में कम है. इसका उपयोग जेट ए -1 के विकल्प के रूप में किया जा सकता है, लेकिन क्योंकि इसे संभालना अधिक कठिन होता है (उच्च ज्वलनशीलता) इसलिए इस ईंधन का ज्यादातर ठंडे मौसम वाले क्षेत्रों में उपयोग किया जाता है.

एवीगैस (Avgas) (Aviation gasoline)

एवीगैस का इस्तेमाल छोटे पिस्टन इंजन संचालित विमानों को आमतौर पर निजी पायलटों, विमानन प्रशिक्षण स्कूलों या उड़ान क्लबों द्वारा किया जाता है. इन विमानों के इंजन भी ऑटोमोबाइल में पाए जाने वाले स्पार्क इग्निशन इंजन की तरह वैसे ही सिद्धांतों के अनुसार काम करते हैं, हालांकि उड़ान को अधिक से अधिक प्रदर्शन की आवश्यकता होती है इसलिए अधिक उच्च ऑक्टेन ईंधन की मांग होती है. जेट-ईंधन वाले विमानों की तुलना में वर्तमान में सेवा में बड़ी संख्या में एवीगैस-ईंधन वाले विमान हैं. हालांकि, इनमें से अधिकतर छोटे, शॉर्ट-रेंज विमान होते हैं, इसलिए बेची गई एवीगैस की कुल मात्रा जेट ईंधन की तुलना में कम होती है.

दो मुख्य एवीगैस ग्रेड उपयोग होते हैं: 100 और 100LL (low lead). एवीगैस 100, उच्च-ऑक्टेन विमानन ईंधन पिस्टन इंजन के लिए उपयोग किया जाता है. इस ईंधन में एक उच्च lead सामग्री होती है, और हरे रंगा का होता है. एवीगैस 100LL भी एवीगैस 100 की तरह बनता है, लेकिन यह कम lead सामग्री के साथ नीले रंग का होता है.

राफेल जैसे दुनिया के 6 सबसे खतरनाक लड़ाकू विमान

ईंधन के अन्य प्रकार

उपरोक्त सामान्य विमानन में चार सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले ईंधन हैं और अधिकांश गंतव्यों में व्यापक रूप से उपलब्ध होते हैं. कुछ और ईंधन की एक विस्तृत श्रृंखला भी उपलब्ध है, जिनमें से अधिकतर चरम जलवायु या सैन्य विमानन से संबंधित विशेष अनुप्रयोग होते हैं. इसमें शामिल है:

TS-1: रूस और CIS राज्यों में उपलब्ध प्राथमिक जेट ईंधन ग्रेड है. यह केरोसिन-प्रकार वाला ईंधन अधिक अस्थिर होता है, लेकिन जेट ए -1 की तुलना में इसका फ्रीज़िंग पॉइंट कम (<-50 डिग्री सेल्सियस) है, जो ठंडे मौसम में परिचालन के लिए आवश्यक है.

JP-8: JP-8 को जेट ए -1 के सैन्य समकक्ष के रूप में देखा जा सकता है. इसके ईंधन में कुछ अतिरिक्त तत्व होते हैं, जिनमें एंटी-आइसिंग additives और संक्षारण अवरोधक शामिल हैं. JP-8 सैन्य जेट ईंधन ग्रेड है जो आमतौर पर नाटो वायु सेनाओं द्वारा उपयोग किया जाता है.

JP-5: यह एक उच्च फ्लैश प्वाइंट केरोसिन आधारित ईंधन है जिसका मुख्य रूप से विमान वाहक के आधार पर सैन्य जेटों के लिए उपयोग किया जाता है.

मोगैस (Mogas)

आमतौर पर, मोगैस (Mogas) एवीगैस (यूरोप) से सस्ता होता है इसलिए इस ईंधन का उपयोग करने के लिए पायलट इच्छुक रहते हैं. Rotax चार स्ट्रोक मॉडल (912, 914) एवीगैस पर चलते हैं, लेकिन उच्च lead सामग्री होने के कारण तेल में हर 50 घंटों में परिवर्तन किया जाना चाहिए और मिश्रण में खनिज या अर्ध सिंथेटिक होना चाहिए.

बायोकेरोसिन (Biokerosene)

जीवाश्म ईंधन के रूप में, लंबी अवधि में जेट ईंधन अधिक महंगा हो जाएगा. इसलिए, कुछ समय के लिए नवीकरणीय विकल्पों पर शोध चल रहा है, उदाहरण के लिए jatropha और camelina तेल से जैव ईंधन या शैवाल (algae) या "सौर जेट" पर आधारित बायोकेरोसिन पर. बायोकेरोसिन, केरोसिन और जैव ईंधन का मिश्रण है जो कि विमानन उद्योग कई परीक्षण उड़ानों में कई सालों से इसका परीक्षण कर रहा है.

विमानन ईंधन का अवलोकन

Designation

Aviation fuel type

Application

Jet A-1

(USA: Jet A)

Kerosene

Civil aviation (jet engine, turboprop)

Jet B

Kerosene-gasoline mixture

Civil aviation, military (jet engine)

Avgas 100 LL

Gasoline

Sports aircraft (piston/gasoline engine)

Mogas

Super gasoline with additives

 

Biokerosene

Kerosene-biofuel mixture

Civil aviation, also tests for military

तो अब आपको ज्ञात हो गया होगा कि हवाई जहाज में किस प्रकार के ईंधन का उपयोग किया जाता है.

जानें पासपोर्ट 4 रंगों में ही क्यों जारी किए जाते हैं?

विश्व के शीर्ष 10 उच्चतम ऊंचाई वाले हवाई अड्डों की सूची