जानें IMD ने उत्तर भारत के लोगों को शीत लहर के दौरान शराब न पीने की सलाह क्यों दी है

शीत लहर (Cold Wave) की प्रतिकूल प्रतिक्रिया से बचने के लिए, IMD ने शराब से बचने की सलाह दी है. आइये इस लेख के माध्यम से जानते हैं कि IMD ने उत्तर भारत के लोगों को शीत लहर के दौरान शराब न पीने की सलाह आखिर क्यों दी है.
Created On: Dec 29, 2020 16:26 IST
Modified On: Dec 29, 2020 16:38 IST
Why has IMD advised people in north India not to drink alcohol during the cold wave?
Why has IMD advised people in north India not to drink alcohol during the cold wave?

शीत लहर (Cold Wave) की प्रतिकूल प्रतिक्रिया से बचने के लिए, IMD ने शराब से बचने की सलाह दी है. भारतीय मौसम विभाग (IMD) के अनुसार, 29 दिसंबर से हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश, दिल्ली और राजस्थान के कुछ हिस्सों में शीत लहर की गंभीर स्थिति होने की संभावना है. 28 दिसंबर के बाद अधिकतम तापमान में 3 से 5 डिग्री सेल्सियस की गिरावट का भी अनुमान है.

इसीलिए भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने एक असामान्य सलाह जारी की है. यह एक प्रभाव-आधारित एडवाइजरी   (Impact-Based Advisory) है जिसमें IMD ने भारत के सबसे उत्तरी राज्यों के निवासियों को कड़कड़ाती ठंड से बचने के लिए शराब न पीने का आग्रह किया है.

IMD ने अपनी नवीनतम एडवाइजरी में क्या कहा है?

IMD ने अपनी नवीनतम एडवाइजरी में कहा कि मौसम की स्थिति से फ्लू जैसी बीमारियों के होने का खतरा बढ़ सकता है, और बहती / भरी हुई नाक और नाक से खून आना जैसे लक्षण भी हो सकते हैं, जो आमतौर पर लंबे समय तक ठण्ड के संपर्क में रहने के कारण होते हैं या बढ़ जाते हैं.

पोलर वोर्टेक्स क्या है और भारतीय जलवायु पर इसका क्या प्रभाव है?

ठंड के मौसम में शराब खतरनाक क्यों है?

थर्मल फिजियोलॉजी और मेडिसिन डिवीजन, यूएस आर्मी रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ एनवायर्नमेंटल मेडिसिन (Thermal Physiology and the Medicine Division, US Army Research Institute of Environmental Medicine) द्वारा संयुक्त रूप से किए गए एक अध्ययन के अनुसार, शराब शरीर के मुख्य तापमान को कम कर सकती है और ठंड के संपर्क में हाइपोथर्मिया का खतरा बढ़ा सकती है.

हाइपोथर्मिया क्या है?

हाइपोथर्मिया एक गंभीर चिकित्सा स्थिति है जहां शरीर गर्मी उत्पन्न करने से पहले ही इसे खो देता है, जिसके परिणामस्वरूप शरीर का तापमान कम हो जाता है. जबकि सामान्य शरीर का तापमान लगभग 37 डिग्री सेल्सियस होता है, हाइपोथर्मिया से पीड़ित व्यक्ति के शरीर का तापमान 35 डिग्री सेल्सियस से नीचे चला जाता है.

सामान्य संकेतों में कंपकंपी, सांस लेने की धीमी दर, सही से ना बोल पाना, ठंडी त्वचा और थकान शामिल हैं. भारी शराब की खपत अक्सर हाइपोथर्मिया के बढ़ते जोखिम और अन्य परिस्थितियों में अत्यधिक ठंड के मौसम से जुड़ी होती है.

एक अध्ययन के अनुसार शराब के मनोवैज्ञानिक और व्यवहारिक प्रभाव होते हैं, जो किसी व्यक्ति की क्षमता को प्रभावित करते हैं ये अनुभव करने में कि ठंड कितनी है. इसलिए, अत्यधिक ठंडे मौसम के स्थानों पर भारी पीने और बाहर जाने के बाद हाइपोथर्मिया के शिकार लोगों के मामले बहुत आम हैं.

अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ फैमिली फिजिशियन (American Association of Family Physicians) के अनुसार, 2004 में पूर्वव्यापी अध्ययन से पता चला कि शराब का सेवन 68 प्रतिशत हाइपोथर्मिया के मामलों से जुड़ा हुआ है.

आइये अब अध्ययन करते हैं कि शराब शरीर के तापमान को कैसे कम करती है?

शराब एक वैसोडिलेटर (Vasodilator) है, जिसका अर्थ है कि यह रक्त वाहिकाओं को रिलैक्स और पतला या खोल देती है. इसलिए शराब का सेवन करने के बाद, त्वचा की सतह पर रक्त की मात्रा बढ़ जाती है, जिसके परिणामस्वरूप व्यक्ति गर्मी महसूस करता है. नशे में व्यक्ति निस्तब्धता (flushed) का कारण भी बनता है.

जैसे ही शरीर यह मानना शुरू कर देता है कि वह गर्म है तो शराब का सेवन किया हुआ व्यक्ति को भी पसीना आना शुरू हो जाता है और इस प्रतिक्रिया के कारण शरीर का समग्र तापमान स्वचालित रूप से कम हो जाता है. शराब की प्रचुर मात्रा में पीने से शरीर में ठंड का ठीक से पता लगाने की क्षमता प्रभावित हो सकती है, जो फ्रॉस्टबाईट (frostbite) और हाइपोथर्मिया का कारण बनती है.

हालांकि, विशेषज्ञों का कहना है कि समशीतोष्ण वातावरण (Temperate Environments) में मध्यम रूप से पीने से शरीर के मुख्य तापमान पर महत्वपूर्ण प्रभाव नहीं पड़ता है.

अंत में शीत लहर (Coldwave) के बारे में अध्ययन करते हैं.

IMD के अनुसार, पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र से आने वाली ठंडी उत्तर-पश्चिमी हवाएँ 28 दिसंबर से दिल्ली, पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ के कुछ हिस्सों में शीत या गंभीर शीत लहर की स्थिति पैदा करेंगी. 28 दिसंबर के बाद अधिकतम तापमान में 3 से 5 डिग्री सेल्सियस की गिरावट का भी अनुमान है.

एक शीत लहर (Coldwave) तब होती है जब न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस या उससे कम हो जाता है और सामान्य तापमान से प्रस्थान  (Departure) 4.5 डिग्री सेल्सियस या उससे कम होता है. वहीं गंभीर शीत लहर की स्थिति में, सामान्य तापमान से प्रस्थान (Departure) 6.5 डिग्री या उससे कम होता है.

तो अब आपको ज्ञात हो गया होगा कि IMD ने उत्तर भारत के लोगों को शीत लहर के दौरान शराब न पीने की सलाह क्यों दी है.?

Source: Indian Express

भारत सरकार लद्दाख और कश्मीर में 10 सुरंगों के निर्माण की योजना क्यों बना रही है

 

FAQ

शीत लहर (Coldwave) क्या है?

शीत लहर (Coldwave) तब होती है जब न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस या उससे कम हो जाता है और सामान्य तापमान से प्रस्थान (Departure) 4.5 डिग्री सेल्सियस या उससे कम होता है. वहीं गंभीर शीत लहर की स्थिति में, सामान्य तापमान से प्रस्थान (Departure) 6.5 डिग्री या उससे कम होता है.

शराब एक वैसोडिलेटर (Vasodilator) है. इससे आप क्या समझते हैं?

शराब एक वैसोडिलेटर (Vasodilator) है, जिसका अर्थ है कि शराब रक्त वाहिकाओं को रिलैक्स और पतला या खोल देती है. इसलिए शराब का सेवन करने के बाद, त्वचा की सतह पर रक्त की मात्रा बढ़ जाती है, जिसके परिणामस्वरूप व्यक्ति गर्मी महसूस करता है.

हाइपोथर्मिया के लक्षण क्या हैं?

सामान्य लक्षण इस प्रकार हैं: कंपकंपी, सांस लेने की धीमी दर, त्वचा का ठंडा और थकान होना.

हाइपोथर्मिया क्या है?

हाइपोथर्मिया एक गंभीर चिकित्सा स्थिति है जहां शरीर गर्मी उत्पन्न करने से पहले ही इसे खो देता है, जिसके परिणामस्वरूप शरीर का तापमान कम हो जाता है. जबकि सामान्य शरीर का तापमान लगभग 37 डिग्री सेल्सियस होता है, हाइपोथर्मिया से पीड़ित व्यक्ति के शरीर का तापमान 35 डिग्री सेल्सियस से नीचे चला जाता है.
Comment (0)

Post Comment

6 + 6 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.

    Related Categories