1. Home
  2. Hindi
  3. Difference: Resume और CV में क्या होता है अंतर, जानें

Difference: Resume और CV में क्या होता है अंतर, जानें

Difference: पढ़ाई पूरी करने के बाद अधिकांश युवाओं का सपना होता है कि वे किसी अच्छी और बड़ी कंपनी में काम करें। इसके लिए रेज्यूमे और सीवी की सबसे पहली आवश्यकता होती है। लेकिन, क्या आप भी इन दोनों को एक ही समझते हैं। यदि हां, तो इन दोनो के बीच अंतर को समझने के लिए इस लेख को पढ़ें।

Difference: Resume और CV में क्या होता है अंतर, जानें
Difference: Resume और CV में क्या होता है अंतर, जानें

Difference: अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद अधिकांश युवाओं और उनके माता-पिता की ख्वाहिश होती है कि बच्चा किसी भी बड़ी कंपनी में अच्छ पद पर काम करे। हालांकि, इसके लिए योग्यता और क्षमता देखी जाती है। लेकिन, इन सब चीजों के साथ एक और चीज महत्वपूर्ण है और वह होती है रेज्यूमे या सीवी। लेकिन, क्या आप इन दोनों को ही एक समझते हैं या फिर दोनों को लेकर दुविधा में हैं। यदि हां, तो इस लेख के माध्यम से हम आपको रेज्यूमे और सीवी के बीच अंतर को बताएंगे, जिससे यदि आप कहीं नौकरी के लिए आवेदन कर रहे हैं, तो आपको निश्चित ही इससे मदद मिलेगी। 




क्या होता है रिज्यूमे ?

 

रेज्यूमे अक्सर 1-2 पेज का होता है, जिसमें उम्मीदवार के बारे में संक्षिप्त और टू द प्वाइंट सारांश लिखा होता है। इसका उद्देश्य उम्मीदवार को भीड़ से अलग कर उसके बारे में बताना होता है। इसके साथ ही अकादमिक सीवी की तुलना में रेज्यूमे की  शैली अनौपचारिक होती है। रेज्यूमे में वह चीजें शामिल की जाती हैं, जो नौकरी की मांग होती है। 

 

रिज्यूमे में शामिल होने वाले बिंदु

 

-शिक्षा और प्रशिक्षण कौशल

-सार

-किसी भी शुरू की गई परियोजना पर काम

-संपर्क विवरण

-प्रमाणपत्र और पुरस्कार

-वालांटरी वर्क

-बोली जाने वाली भाषाएं



क्या होता है सीवी ?

 

CV यानि Curriculum Vitae का लैटिन में अर्थ "जीवन का पाठ्यक्रम" होता है। सीवी रेज्यूमे की तुलना में बड़ा होता है। यह कई पेज का हो सकता है, जिसमें व्यक्ति की नौकरी का इतिहास, शिक्षा, उपलब्धि, प्रस्तुतियां, सम्मान व पुरस्कार, अनुसंधान और अन्य उपलब्धियों का विवरण शामिल होता है।

 

उदाहरण के तौर पर एक अकादमिक सीवी स्नातक स्कूल, पीएचडी या शैक्षणिक पद पर आवेदन के लिए इस्तेमाल होता है। 

 

तीन प्रकार के होते हैं सीवी

 

1.क्रॉनोलॉजिकल सीवी: यह सबसे लोकप्रिय सीवी प्रारूपों में से एक है। यह सबसे हाल की नौकरी से शुरू होता है और पिछले सभी रोजगार का विवरण भी देता है। जिन लोगों को अनुभव प्राप्त होता है, वे इसका इस्तेमाल करते हैं। 

 

2.फंक्शनल सीवी:  यह कौशल आधारित होता है। इसका उद्देश्य आपके क्रॉनोलॉजिकल रोजगार के बारे में बताने के बजाय आपकी क्षमताओं और पेशेवर अनुभव को उजागर करना होता है। ऐसे में आपने पहले कोई नौकरी नहीं की है या फिर आपकी नौकरी के कार्यकाल में अंतराल आ गया है या आप करियर बदलने की दिशा में विचार कर रहे हैं, तो यह आपके लिए बेहतर साबित हो सकता है। 

 

3.कांबिनेशन सीवी: इस तरह का सीवी फंक्शनल और क्रॉनोलॉजिकल सीवी को जोड़ता है। इसमें आप अपने रोजगार के बारे में जानकारी देने के साथ अपने कौशल को लेकर भी जानकारी दे सकते हैं। 




सीवी में शामिल होने वाले बिंदु

 

 

-शिक्षा

-कार्य अनुभव

-प्रकाशन

-कौशल

-प्रशंसा और पुरस्कार

-प्रमाणपत्र

-संपर्क विवरण

-फैलोशिप और अनुदान

-अनुसंधान

-सदस्यता

-सम्मेलन

-शोध

 

यहां आपको एक बार और स्पष्ट कर देते हैं कि सीवी का लैटिन में मतलब "किसी के जीवन के पाठ्यक्रम" से होता है, जबकि रिज्यूमे फ्रेंच है और इसका अर्थ "सारांश करना" होता है। वहीं, सीवी एक अधिक पेज संख्या वाला होता है, जिसमें व्यक्ति की पिछली शिक्षा, रोजगार इतिहास, उपलब्धियों और कौशल का विवरण होता है। वहीं, रिज्यूमे एक व्यक्ति की शिक्षा, पेशेवर पृष्ठभूमि, कौशल  और पूर्व रोजगार के अनुभवों का एक संक्षिप्त दस्तावेज है। यहां बता दें कि एक सीवी 2 से 20 पेज लंबा हो सकता है, हालांकि, रिज्यूमे केवल 1 या 2 पेज लंबा होता है।

 

हम आशा करते हैं कि ऊपर दी गई जानकारी से आप इन दोनों के बीच अंतर को समझ गए होंगे। 

 

पढ़ेंः Difference: RBC और WBC में क्या होता है अंतर, जानें