1. Home
  2. Hindi
  3. Incredible India: जानें भारत के 8 बेहद खुबसूरत प्राकृतिक और रहस्यमयी जगहों के बारे में

Incredible India: जानें भारत के 8 बेहद खुबसूरत प्राकृतिक और रहस्यमयी जगहों के बारे में

देश में अलग-अलग कई ऐसी जगहें हैं जो विश्व के सबसे खुबसूरत स्थानों में शामिल हैं. ये जगहें न केवल अपनी प्राकृतिक सुन्दरता के लिए बल्कि अपने अनसुलझे रहस्यों के लिए भी जानें जाते हैं. 

7 wonder of India
7 wonder of India

Incredible India: भारत में उत्तर से लेकर दक्षिण तक और पूर्व से लेकर पश्चिम तक अनेक ऐसी जगहें हैं जो विश्व की सबसे खुबसूरत जगहों में शामिल हैं. ये जगहें न केवल बेहद खुबसूरत हैं बल्कि अपने अंदर कई रहस्यों को भी समायें हैं. इनमें से कोई अपने घने वनों के कारण लोक प्रिय है तो कोई अपने आकर्षक घाटियों और तेज बहते झरनों के कारण प्रसिद्ध हैं.

1. मणिपुर की झील में तैरता आइलैंड 
नार्थईस्ट के मणिपुर राज्य में स्थित लोकटक झील पर एक तैरता हुआ आइलैंड स्थित है. ये जगह देखने में बहुत ही खुबसूरत और आकर्षक लगती है. लोकटक झील पूर्वोत्तर भारत की सबसे बड़ी ताजे पानी की झील है जो मणिपुर और इसके आस-पास के क्षेत्रों के लिए एक लोकप्रिय पर्यटक स्थल है. इस झील पर एक गोल आकार का तैरता हुआ दलदल स्थित है जो इसके ऊपर तैरता तो है लेकिन डूबता नहीं है. इसकी प्राकृतिक सुन्दरता अद्वितीय है जो इसे भारत के प्रमुख प्राकृतिक आश्चर्यों में से एक बनाती हैं. इस झील पर आप डांसिंग डिअर 200 से अधिक पौधों की प्रजातियाँ, 100 प्रकार के पक्षी, मछुआरे, और 500 से अधिक प्रजातियों के जानवर देखने को मिलते हैं.       

2. लेह की मैग्नेटिक हिल
देश के सबसे उत्तर में स्थित लद्दाख न केवल अपनी खूबसूरती के लिए बल्कि अपने अनगिनत रहस्यों के लिए भी प्रसिद्ध है. लद्दाख की राजधानी लेह में मैग्नेटिक हिल नाम का एक पर्वतीय क्षेत्र है. इस पहाड़ी क्षेत्र को ग्रेविटी हिल के नाम से भी जाना जाता है. ये असामान्य पहाड़ी श्रीनगर-लेह राजमार्ग पर स्थित है. इस क्षेत्र की सबसे असामान्य बात है कि जब कभी यहाँ ऊपर चढ़ते टाइम कार का इंजन बंद किया जाता है या कार पार्किंग की जाती है तो कार अपने आप धीरे-धीरे ऊपर चढ़ती है. हालाँकि कई लोग इसे ऑप्टिकल इल्यूजन मानते हैं.

3. सुंदरबन की अलेया घोस्ट लाइट्स
अलेया घोस्ट लाइट्स वो रहस्यमयी प्रकाश है जो सुंदरबन के जंगलों में देखा जा सकता है. वन के दलदलों में कुछ ही दूरी पर चमचमाती रंगीन रोशनी देखी जा सकती है. हालाँकि लोग उस रौशनी के क्षेत्र में नहीं जाते हैं क्योंकि वो लोगों को अपनी ओर आकर्षित करती है. वैज्ञानिक इस रौशनी को मीथेन गैस का आयनीकरण मानते हैं. जबकि स्थानीय लोगों के अनुसार, ये मृतक मछुआरों की आत्माएं हैं. 

4. मध्य प्रदेश की चमचमाती मार्बल की घाटियाँ 
मध्य प्रदेश में एक ऐसा क्षेत्र है जहाँ मार्बल की चमचमाती घाटियाँ स्थित हैं. ये घाटियाँ दूर से देखने में नक्काशीदार लगतीं हैं. ये प्रकृति का एक सुंदर और आश्चर्य चकित नमूना है. मध्य प्रदेश के जबलपुर में भेडा घाट पर स्थित ये खुबसूरत घाटियाँ नर्वदा नदी के किनारे पर स्थित हैं. इन घाटियों को नर्वदा नदी द्वारा बेहद खूबसूरती से संवारा गया है. नदी सफेद संगमरमर के पहाड़ों को तराशने से पहले 10 मीटर तक के क्षेत्र में अत्यंत संकरी हो जाती है. ये प्रकृति द्वारा निर्मित घाटी दिन के दौरान चमकती और रात में देखने में मंत्रमुग्ध कर देती है.

4. दूध सागर जल प्रपात
गोवा और कर्नाटक की सीमा पर स्थित दूध सागर जल प्रपात मंडोवी नदी पर स्थित है. ये जल प्रपात देश के सबसे ऊँचे जल प्रपातों पर स्थित है. इस प्रपात की औसत ऊंचाई 100 फीट और चौड़ाई 310 फीट है. ये झरना दूर से देखने पर दूध से निर्मित लगता है. जिस कारण इसका नाम दूध सागर पड़ा है. इस झरने के आस पास का स्थान अत्यंत रमणीय है ये अत्यंत घने जंगलों के मध्य से बहता हुआ अत्यंत सुंदर प्रतीत होता है.

5. कच्छ का सफ़ेद मरुस्थल 
कच्छ का मरुस्थल जिसे दूर से ही देख के ऐसा लगता है मानो दूर तक कोई सफेद या दुधिया कालीन बिछी हो. द ग्रेट रन ऑफ़ कच्छ नमक से निर्मित विश्व का एक अनोखा मरुस्थल है, जो देखने में अत्यधिक शानदार लगता है. ये एक नमकीन दलदलीय क्षेत्र है यहाँ आप बड़ी संख्या में फ्लेमिंगो पक्षियों को देख सकते हैं. ये पक्षी अपने प्रजनन काल के दौरान यहाँ आते हैं. सामान्य: मानसून में इस क्षेत्र में जल भर जाता है जिससे ये एक दलदलीय क्षेत्र बन जाता है. और जब ये पानी निकलता है तो अपने पीछे नमक के महीन कण छोड़ जाता है. जो सुंदर सफेद एक चादर से लगते हैं.

6. वैली ऑफ़ फ्लावर 
उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित वैली ऑफ़ फ्लावर एक खुबसूरत प्राकृतिक आश्चर्य है. ये अपने खुबसूरत घास के मैदानों अनोखे फूलों के लिए प्रसिद्ध है. यहाँ आप दुर्लभ पक्षियों और जानवरों को भी देख सकते हैं. यहाँ बड़ी संख्या में अल्पाइन वन और फूल मिलते हैं. वर्ष 1931 में ब्रिटिश पर्वतारोही फ्रैंक एस. स्माइथ, और उनका ग्रुप कैमेट के सफल अभियान से लौटने के दौरान अपना रास्ता भटक गए थे अपना मार्ग खोजते हुए वे एक ऐसी घाटी में पहुंचे जो तरह-तरह के फूलों से भरी हुई थी. इसकी सुन्दरता से आकर्षित हो कर उन्होंने इस क्षेत्र का नाम वैली ऑफ फ्लावर का रख दिया. ये फूलों की घाटी हर दो सप्ताह में अपना रंग भी परिवर्तित करती है, कभी लाल तो कभी पीले फूलों के खिलने से यहाँ की प्राकृतिक सुन्दरता देखते ही बनती है. 

7. चांदीपुर बीच
ये समुद्री तट ओडिशा में स्थित है. इस बीच को हाईड एंड सीक बीच के नाम से भी जाना जाता है. ये बीच निम्न ज्वार के दौरान लुप्त हो जाता है और इसके बाद ये फिर से दिखाई देने लगता है. चांदीपुर बीच की यह विशिष्ट विशेषता इसे अन्य बीचों से अलग करती है. ये बीच विभिन्न प्रकार की वनस्पतियों और जीवों का घर है. इस तट पर घूमना एक शानदार अनुभव है. 

8. लोनार झील 
महाराष्ट्र में स्थित लोनार झील एक क्रेटर झील है अर्थात इसका निर्माण एक उल्का पिंड गिरने से बने खड्ड में जल के भरने से हुआ है. ये शांत हरे रंग की झील है जो अपने आस-पास खुबसूरत प्राकृतिक सुन्दरता से सुसज्जित है. इस झील में मिलने वाला जल क्षारीय होने के साथ-साथ खारा भी है.