1. Home
  2. Hindi
  3. Incredible India: जानें भारत में ऐसे कौन से 5 मंदिर हैं जहाँ पुरुषों के प्रवेश पर है पाबंदी

Incredible India: जानें भारत में ऐसे कौन से 5 मंदिर हैं जहाँ पुरुषों के प्रवेश पर है पाबंदी

देश में ऐसे कई मंदिर हैं जहाँ पुरुषों के प्रवेश करने पर पाबंदी है, और इन मंदिरों में केवल महिलाएं ही प्रवेश कर सकती हैं. आइये जाने ऐसे कौन से मंदिर हैं 

Temple in india where males are not allow
Temple in india where males are not allow

Incredible India:  आपने ऐसे कई मंदिरों के बारे में सुना होगा जहाँ महिलाओं को प्रवेश की अनुमति नहीं होती है, लेकिन क्या आप जानते हैं देश में ऐसे भी कई मंदिर हैं जहाँ पुरुषों के जानें पर पाबंदी है जबकि महिलाएं यहाँ आराम से जा सकती हैं. देश के अलग-अलग भागों में ऐसे 5 मंदिर हैं जहाँ पुरुषों को जाने की अनुमति नहीं दी गई है. इन मंदिरों के रीति-रिवाज और परम्पराएँ पुरुषों के प्रवेश पर रोक लगतीं हैं और महिलाओं को पूजा की अनुमति देतीं हैं. इन मंदिरों में बिहार का माता मंदिर, कन्याकुमारी का अम्मन मंदिर केरल का अटुकल भगवती मंदिर प्रमुख हैं, आइये जानें ऐसे मंदिरों के बारे में 


कन्याकुमारी स्थित अम्मन मंदिर 
कुमारी अम्मन मंदिर तमिलनाडु के कन्याकुमारी में स्थित है ये मंदिर माँ दुर्गा को समर्पित है. इस मंदिर में महिलाओं को प्रवेश की अनुमति है जबकि पुरुषों को प्रवेश की मनाही है. ब्रह्मचारी और सन्यासी यहाँ मंदिर के द्वार तक जा सकते हैं. हिन्दू परम्पराओं के अनुसार इस मंदिर में माता पार्वती ने महादेव से विवाह के लिए तप किया था. यहाँ वैवाहिक पुरुषों को भी जानें की अनुमति नहीं है.

पुष्कर का ब्रह्मदेव मंदिर 
ये मंदिर राजस्थान के पुष्कर में स्थित है. ये मंदिर भारत में स्थित ब्रह्मदेव का अकेला मंदिर है. इस मंदिर का निर्माण 14वीं शताब्दी में करवाया गया था. यहाँ वैवाहिक पुरुषों के आने पर पाबंदी है इसका कारण देवी सरस्वती द्वारा दिया गया श्राप है. कहते हैं एक बार ब्रह्मा जी ने यहाँ स्थित पुष्कर झील में एक यज्ञ किया था ये यज्ञ उन्हें अपनी पत्नी देवी सरस्वती के साथ करना था लेकिन किसी कारण से देवी सरस्वती को यहाँ आने में देर हो गई, जिसके बाद ब्रह्मा जी ने देवी गायत्री से विवाह कर ये अनुष्ठान पूरा किया, जब ये बात देवी सरस्वती को पता चली तो उन्होंने क्रुद्ध होकर मंदिर को श्राप दे दिया. और तब से ही यहाँ शादीशुदा पुरुषों को आना मना है.

कामरूप कामाख्या मंदिर
ये मंदिर असम के गुवाहाटी में स्थित है. ये मंदिर नीलांचल पर्वत पर स्थित है. ये देवी के 52 शक्ति पीठों में से एक है और इसका एक प्रमुख स्थान है. माता के माहवारी के दिनों के दौरान यहां उत्सव मनाया जाता है और इन दिनों पुरुषों की एंट्री यहाँ बिलकुल बैन होती है यहां की पुरुष पुजारियों को भी इस दौरान एंट्री नहीं मिलती और महिलायें ही एक पुजारियों का कार्य करती हैं.  

अटुकल देवी मंदिर, केरल 
ये मंदिर दक्षिण राज्य केरल में स्थित है. इस मंदिर का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है, क्योंकि यहां एक साथ 30 लाख से अधिक महिलाओं ने पोंगल उत्सव में एक साथ भाग लिया था. इस मंदिर में ये त्योहार बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है. ये मंदिर विशेष रूप से भद्रकाली को समर्पित है. ऐसी मान्यता है कि, भद्रकाली देवी पोंगल उत्सव के दौरान यहाँ 10 दिन तक वास करती हैं और इसी कारण यहाँ पुरुषों का आना मना है. 

बिहार में माता का मंदिर 
इस मंदिर में महिलाओं को माता के माहवारी के दिनों के दौरान जाने की अनुमति होती है. इस मंदिर में नियमों का इतनी कठोरता से पालन होता है कि इस दौरान पुरुष पुजारी भी मंदिर परिसर में प्रवेश नहीं कर सकते हैं और इस दौरान ये मंदिर    केवल महिलाओं के मंदिर में परिवर्तित हो जाता है.