1. Home
  2. Hindi
  3. जानिएं कितने भारतीयों ने बीते 11 सालों में छोड़ दी भारत की नागरिकता और क्यों

जानिएं कितने भारतीयों ने बीते 11 सालों में छोड़ दी भारत की नागरिकता और क्यों

किसी भी देश में रहने के लिए वहां की नागरिकता जरूरी होती है, लेकिन भारत में रहने वाले लोग यहां की नागरिकता को छोड़ रहे हैं। बीते 11 सालों में 16 लाख से अधिक लोगों ने भारत की नागरिकता छोड़ दी है।

जानिएं कितने भारतीय ने बीते 11 सालों में छोड़ दी भारत की नागरिकता और क्यों
जानिएं कितने भारतीय ने बीते 11 सालों में छोड़ दी भारत की नागरिकता और क्यों

भारत एक घनी आबादी वाला देश है। यहां चारों दिशाओं में अलग-अलग राज्यों में विभिन्न समदुाय के लोग निवास करते हैं। सभी भारतीयों के पास भारत की नागरिकता है, लेकिन बीते कई सालों से ऐसे मामले देखने में आ रहे हैं, जिसमें लोगों को लगातार साल दर साल भारत की नागरिकता छोड़ना पड़ रही है। तो आइये इस लेख के माध्यम से जानते हैं कि बीते 11 सालों में कब-कब कितने भारतीयों ने छोड़ी भारत की नागरिकता और इसके पीछे क्या हैं कारण। 

 

बीते शुक्रवार को लोकसभा में विदेश राज्य मंत्री वी मुरलीधरन ने एक सवाल के जवाब में कहा है कि इस साल 183,741 लोगों ने भारत की नागरिकता छोड़ दी है। वहीं, 2011 से अब तक 16 लाख से अधिक भारतीयों ने भारतीय नागरिकता छोड़ दी है।

 

मंत्री ने कहा कि 2015 में अपनी भारतीय नागरिकता छोड़ने वाले भारतीयों की संख्या 1,31,489 थी, जबकि 2016 में 1,41,603 और 2017 में 1,33,049 लोगों ने इसे छोड़ा था।

वहीं, 2018 में यह संख्या 1,34,561 थी, जबकि 2019 में 1,44,017, 2020 में 85,256 और 2021 में 1,63,370 ने अपनी नागरिकता छोड़ी थी। मंत्री के मुताबिक, साल 2022 में 31 अक्टूबर तक 1,83,741 लोगों ने भारतीय नागरिकता छोड़ दी है।

 

मंत्री ने आंकड़ों को साझा करते हुए कहा कि 2011 में यह डाटा 1,22,819 था, जबकि 2012 में यह डाटा 1,20,923, 2013 में 1,31,405 और 2014 में यह डाटा 1,29,328 था। अभी तक

2011 के बाद से भारतीय नागरिकता छोड़ने वाले भारतीयों की कुल संख्या 16,21,561 है।

 

मंत्री ने यह भी कहा है कि भारतीय नागरिकता लेने वाले बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान के नागरिकों को छोड़कर विदेशी नागरिकों की संख्या 2015 में 93, 2016 में 153, 2017 में 175, 2018 में 129, 2019 में 113, 2020 में 27, 2021 में 42 और 2022 यह संख्या 60 थी। 




इसलिए लोग छोड़ रहे हैं भारत की नागरिकता

भारत दोहरी नागरिकता की अनुमति नहीं देता है और दूसरे देश की नागरिकता लेने से भारतीय नागरिकता स्वतः ही रद्द हो जाती है। यही वजह है कि भारत में दोहरी नागरिकता नहीं चलती है और लोग भारत की नागरिकता को छोड़ देते हैं। आपको यहां बता दें कि सिपरस, चेक रिपब्लिक, डेनमार्क, फ्रांस, फिनलैंड, जर्मनी, ग्रीस, हंगरी, आयरलैंड, इटली, माल्टा, पोलैंड और स्पेन समेत अन्य देशों में दोहरी नागरिकता मान्य है।