1. Home
  2. Hindi
  3. Highest Paying Countries: दुनिया के इन टॉप 10 देशों में Teachers को मिलती है अधिक Salary

Highest Paying Countries: दुनिया के इन टॉप 10 देशों में Teachers को मिलती है अधिक Salary

Highest Paying Countries: अधिकांश बच्चों को बड़े होकर डॉक्टर, इंजीनियर या सिविल सेवा में अधिकारी बनने का सपना होता है। बहुत ही कम बच्चे होते हैं, जो बड़े होकर शिक्षक बनना चाहते हैं। आज हम आपको दुनिया में 10 ऐसे देशों की सूची बताएंगे, जहां शिक्षकों को सबसे अधिक वेतन मिलता है।

Highest Paying Countries: दुनिया के इन टॉप 10 देशों में शिक्षकों को मिलता है अधिक वेतन
Highest Paying Countries: दुनिया के इन टॉप 10 देशों में शिक्षकों को मिलता है अधिक वेतन

Highest Paying Countries: शिक्षा ऐसा पेशा है, जिससे अन्य पेशों को जन्म मिलता है। लोग शिक्षक के पेशे से दूर रहकर किसी मल्टीनेशनल कंपनी में कार्पोरेट लाइफ जीने के साथ अन्य तरह के पेशों को तवज्जों देते हैं। कुछ लोगों का इसके पीछे तर्क हो सकता है कि इस पेशे में शिक्षकों को मिलने वाला वेतन बहुत कम होता है। यदि आप भी कुछ इसी तरह सोचते हैं, तो  आर्थिक सहयोग और विकास संगठन(OECD) की 2021 की रिपोर्ट आपको चौंका सकती है। OECD ने दुनिया के ऐसे देशों की सूची जारी की है, जहां शिक्षकों को सबसे अधिक वेतन मिलता है। इस लेख के माध्यम से हम आज आपको टॉप 10 देशों की सूची के बारे में बताएंगे, जहां उच्चतर माध्यमिक शिक्षक अच्छा खासा वेतन प्राप्त कर रहे हैं।

 

1. लक्ज़मबर्ग

लक्जमबर्ग सूची में पहले पायदान पर है। यहां टीचर्स की सैलरी 112266 डॉलर सालाना है। OECD की रिपोर्ट के मुताबिक, यहां दुनिया में सबसे अधिक सैलरी पाने वाले शिक्षक रहते हैं, जो कि उच्चतर माध्यमिक शिक्षक श्रेणी में दूसरे शिक्षकों की तुलना में बहुत अधिक सैलरी प्राप्त करते हैं। लक्ज़मबर्ग के शिक्षक 15 साल के करियर के बाद अपना उच्चतम वेतन प्राप्त करने लगते हैं।

 

2. जर्मनी

सूची में दूसरा स्थान जर्मनी का है। यहां टीचर्स की सालाना आय 95933 डॉलर है। आपको यह भी बता दें कि जर्मनी की शिक्षा प्रणाली बाकी देशों की तुलना में अलग है। यहां के अधिकांश छात्र निजी के बदले सरकारी स्कूलों में पढ़ते हैं। इसके साथ ही अधिकांश कक्षाओं का संचालन भी जर्मन में किया जाता है। बता दें कि दुनिया के बाकी हिस्सों की तुलना में जर्मनी और यूरोपीय देशों में होमस्कूलिंग की प्रथा अवैध है।

 

3. नीदरलैंड

नीदरलैंड में शैक्षिक प्रणाली में मिडिल स्कूल या जूनियर स्कूल नहीं हैं, इसकी जगह यहां पर ब्रिज कक्षाओं का संचालन किया जाता है। यह प्राथमिक शिक्षा के समान्तर ही होती है। यहां शिक्षकों को सालाना मिलने वाली सैलरी 84315 डॉलर है। इससे पहले साल 2017 की रिपोर्ट में इस देश को 10वां स्थान मिला था।

 

4. कनाडा

कनाडा में शिक्षकों को मिलने वाली सालाना सैलरी 70331 डॉलर है। यहां प्राथमिक और माध्यमिक स्कूली शिक्षा से मिलकर, पूर्व-उच्च कनाडा शिक्षा प्रणाली में नामांकित एक छात्र प्रारंभिक चरण से गुजरता है, जो 4-6 वर्ष की उम्र से शुरू होता है और कक्षा 12 तक विस्तारित होता है। 

 

5. मेक्सिको

मेक्सिको की शिक्षा प्रणाली शुरुआत में कैथोलिक चर्च से प्रभावित हुआ करती थी। इससे औपनिवेशिक युग के दौरान शिक्षा प्रदान की गई थी। हालांकि, 1992 से मेक्सिको में शिक्षा प्रणाली को शिक्षा में केंद्र सरकार की प्रतिबंधित भूमिका के साथ विकेंद्रीकृत किया गया। इसके बाद यहां शिक्षकों के वेतन में वृद्धि होना शुरू हुई। यहां के शिक्षकों को 67968 डॉलर सालाना मिलते हैं।

 

 


6. अमेरिका

अमेरिका को विकसित देशों की सूची में गिना जाता है। यहां का जीडीपी सबसे अधिक है। अमेरिका के श्रम सांख्यिकी ब्यूरो के मुताबिक, यहां वर्ष 2019 से 2029 तक हाई स्कूल में शिक्षकों के लिए 4% रोजगार वृद्धि का अनुमान लगाया गया है। यहां  शिक्षकों के वेतन की बात करें तो वह सालाना 66750 डॉलर है।

 

7. डेनमार्क

डेनमार्क में  शिक्षकों की सालाना सैलरी 65827 डॉलर है। शिक्षकों के सैलरी के प्रतिशत में वृद्धि उनके अनुभव पर आधारित होती है। आपको यह भी बता दें कि डेनमार्क में नौ साल की अनिवार्य शिक्षा के लिए मुफ्त शिक्षा प्रणाली की भी व्यवस्था है।

 



8. ऑस्ट्रिया 

 ऑस्ट्रिया में छात्रों के लिए स्कूल के आठ साल , प्राथमिक स्कूल में चार साल और व्याकरण स्कूल में कम से कम चार साल पूरा करना अनिवार्य होता है। यहां शिक्षकों का सालाना वेतन 65749 डॉलर है। यहां करीब 1,20,000 शिक्षक काम करते हैं। वहीं, यहां के रोमन कैथोलिक स्कूलों में कठिन अनुशासन का पालन करना होता है। 

 

9. स्पेन

 यदि आप  विदेश में अंग्रेजी पढ़ाना चाहते हैं, तो आपके लिए स्पेन एक अच्छा विकल्प है। यहां की शिक्षा प्रणाली काफी बेहतर मानी जाती है। शिक्षकों को वेतन देने के मामले में स्पेन का नौंवा स्थान है। यहां के शिक्षकों को सालाना 56428 डॉलर मिलते हैं। 



10. नॉर्वे

अधिक वेतन देने के मामले में नार्वे का 10वां स्थान है। इससे पहले साल 2017 में यह चौथे पायदान पर था। इस देश में शिक्षकों को सालाना 55524 डॉलर मिलते हैं। यहां के शिक्षकों को अच्‍छी सैलरी के साथ-साथ आवास, परिवहन और अन्य लाभ भी दिए जाते हैं। नॉर्वे अपने द्विभाषी अंतरराष्ट्रीय स्कूलों में पूर्व-पैट बच्चों के लिए विदेशों से कई शिक्षकों की भी भर्ती करता है।



Read: इन्टरव्यू में सफलता के बाद कैसे करें सैलरी पर समझौता ?