1. Home
  2. Hindi
  3. UPPCS Success Story: असफलता से लिया सबक, दूसरे प्रयास में पाया दूसरा स्थान, जानें उन्नाव की सौम्या की कहानी

UPPCS Success Story: असफलता से लिया सबक, दूसरे प्रयास में पाया दूसरा स्थान, जानें उन्नाव की सौम्या की कहानी

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने पीसीएस 2021 का रिजल्ट जारी कर दिया है, इस रिजल्ट में उत्तर प्रदेश के उन्नाव की सौम्या मिश्रा को दूसरा स्थान मिला हैं. सौम्या का ये दूसरा प्रयास था. आइये जानें सौम्या की सक्सेस स्टोरी के बारे में.

UPPCS 2021 Success Story
UPPCS 2021 Success Story

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने हाल ही में पीसीएस 2021 के फाइनल रिजल्ट की घोषणा की है. फाइनल रिजल्ट में कुल 627 उम्मीदवारों का चयन हुआ है. पीसीएस परीक्षा 2021 में उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले की सौम्य मिश्रा ने दूसरा स्थान प्राप्त किया है. सौम्या को ये सफलता अपने दूसरे प्रयास में प्राप्त हुई है. इनका चयन डिप्टी कलेक्टर के पद पर हुआ है. सौम्य ने बताया कि उनके पहले प्रयास में उनका प्री भी नहीं निकला था इसलिए उन्हें फाइनल रिजल्ट में भी बहुत ज्यादा उम्मीद नहीं थी.

माता-पिता को देतीं हैं  सफलता का श्रेय  

विभिन्न मिडिया रिपोर्ट में दिए गए इंटरव्यू में सौम्या ने बताया है कि, पहली बार में प्री भी पास न होने से उन्हें काफी निराशा हुई थी इसलिए उन्हें इस बार रिजल्ट से कोई बहुत ज्यादा उम्मीद नहीं थी. सौम्या उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के पुरवा तहसील के अजयपुर गाँव की रहने वाली हैं. सौम्या के पिता दिल्ली में एक सरकारी कर्मचारी हैं इसलिए इनकी शिक्षा दिल्ली के एक सरकारी स्कूल से हुई है. इनका परिवार दिल्ली के भजनपुरा में रहता है. सौम्या के पिता राघवेन्द्र कुमार मिश्रा एक सरकारी कर्मचारी और माँ एक हाउस वाइफ है. परिवार में  सौम्या के अतिरिक्त उनका एक भाई और एक बहन हैं.

दिल्ली के किरोड़ीमल कॉलेज से किया है ग्रेजुएशन 
सौम्या ने अपनी शिक्षा दिल्ली के राजकीय प्रतिभा विकास विद्यालय से पास की है, इंटर में सौम्या के 95 प्रतिशत मार्क्स थे. इन्होने अपना ग्रेजुएशन दिल्ली स्थित किरोड़ीमल कॉलेज से भूगोल विषय और अपना पोस्ट ग्रेजुएशन दिल्ली स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स से किया है. सौम्या अपनी जीत का श्रेय अपने माता-पिता को देतीं हैं.    

मन में था डर लेकिन फिर भी नहीं हुई निराश 
सौम्या ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि जब पहले प्रयास में उनका पीसीएस परीक्षा का प्री भी नहीं निकला तो उनके मन में परीक्षा को लेकर काफी डर हो गया था लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और माता-पिता ने भी उन्हें बराबर प्रोत्साहित किया जिससे आज वो अपने लक्ष्य प्राप्त कर लिया है.