1. Home
  2. Hindi
  3. इंटरनेट पर ताबूत वाली कुर्सी क्यों हो रही है वायरल जिसे दिया गया है द लास्ट शिफ्ट चेयर का नाम

इंटरनेट पर ताबूत वाली कुर्सी क्यों हो रही है वायरल जिसे दिया गया है द लास्ट शिफ्ट चेयर का नाम

 पूरी दुनिया के ऑफिसों में घंटो-घंटो तक कुर्सी पर बैठकर काम किया जाता है जिसके खिलाफ कई शोधों में यह जानकरी दी गयी है की ऐसा लाइफस्टाइल हमें मौत के करीब लेकर जा रहा है. इस समस्या के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए चेयरबॉक्स ने एक नये डिज़ाइन की कुर्सी बनाई है . जानें क्या है इसकी खासियत .

why coffin shaped chair goes viral on internet which has the name of the last shift chair
why coffin shaped chair goes viral on internet which has the name of the last shift chair

आज पूरी दुनिया में ऑफिसों की कोई कमी नही हैं. लाखों की संख्या में बने इन ऑफिसों में करोड़ो लोग काम करते हैं. आमतौर पर ऑफिस में प्रत्येक व्यक्ति को 6-9 घंटे तक काम करना पड़ता है जिसके लिए वह निरंतर अपनी कुर्सी से लगकर बैठे रहते हैं . कई शोधों में यह बताया गया है कि यदि इंसान 8 घंटे से अधिक बैठता है तो हाई ब्लड प्रेशर, हाई शुगर लेवल और अनियमित कॉलेस्ट्रोल जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है जिनके कारण इंसान की मृत्यु जल्दी होने का खतरा बना रहता है . 

हालांकि डॉक्टर्स के द्वारा इस गम्भीर सूचना पर कई बार पहले भी चेतावनियाँ दी गयी हैं लेकिन किसी ने भी इस समस्या पर अधिक ध्यान नहीं  दिया जिसके चलते इस समस्या का कोई समाधान निकालने में अब तक असमर्थता ही हासिल हुई है . लेकिन लोगों में इस गम्भीर समस्या को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए UK की एक कम्पनी ने कुछ अलग रास्ते का चयन किया है .

कम्पनी की पहल 

UK की कम्पनी चेयरबॉक्स जो की फर्नीचर बनाने का काम करती है , ने एक विचित्र कुर्सी को डिज़ाइन किया है . इस कम्पनी ने यह कुर्सी इसलिए डिज़ाइन की है ताकि वो उन लोगों के सामने लम्बे समय तक बैठने का हानिकारक प्रभाव रख सकें जो घंटो - घंटों तक कुर्सी पर बैठकर कंप्यूटर से काम करते हैं.

क्या है कुर्सी का डिजाइन 

source: boingboing.net

UK की कम्पनी चेयरबॉक्स ने कॉफिन के डिजाईन की कुर्सी का निर्माण किया है . यह कुर्सी दूर से देखने में ऐसी लगती है जैसी की कोई कॉफिन हो , हालांकि इसमें नीचे की तरफ आम कुर्सियों की तरह ही पहिये लगे है , केवल इस कुर्सी का वही हिस्सा कॉफिन जैसा है जिसपर बैठा जाता है . इस कुर्सी के कैस्टर ( casters) पर चारों और लकड़ी लग रही है जोकि चेयरबॉक्स के स्वयं लंबे समय तक कुर्सी पर बैठकर काम करने के अनुभव के बाद बनाया गया है . गौरतलब है कि इस कुर्सी का डिज़ाइन भले ही कॉफिन जैसा है लेकिन फिर भी इस कुर्सी पर लम्बे समय तक आसानी से बैठा जा सकता है. 

जाने क्या है चेयरबॉक्स का कहना 

इस पूरे मामले पर चेयरबॉक्स का कहना है की इंसानी संरचना लम्बे समय तक कुर्सी पर बैठकर काम करने के हिसाब से नही है इसलिए मानव शरीर उस तरीके के अनुरूप नही है . इस समस्या के समाधान के लिए व्यायाम करना भी काफी नही है . यहाँ गौरतलब है की UK के एक नियम के अनुसार आप अपने लिए standing desk का ऑप्शन ले सकते हालाँकि यह रास्ता अब भी काफी नही है .  

द लास्ट शिफ्ट चेयर के डिज़ाइनर का इस मामले में कहना है की चौंकाने लायक तो यह है कि यह इतनी बड़ी समस्या सोसाइटी में व्यापक रूप से स्वीकार्य है . यह एक तरह का मानदंड बन चुका है की हम दिन प्रतिदिन खुद को मौत के करीब लेकर जा रहे है जिसके बदले में हमें लगभग कुछ भी नही मिल रहा .यदि एक तरह से कहा जाए तो यह स्वेच्छा से मरने की स्थिति है . आगे उनका कहना है की हम इस सोच में डूबे हुए हैं कि यह जीवन है जिसे ऐसा ही माना जाता है , हम उन ताबूतों में बैठते हैं और हितधारकों के लिए मूल्य उत्पन्न करते हैं, लेकिन एक बार समय आने पर वे ढक्कन को बंद कर देते हैं और हमें कॉर्पोरेट कब्रिस्तान में ले जाते हैं।"

 हालांकि चेयरबॉक्स के अनुसार उनकी यह पहल लोगों को जागरूक करके उनके हित में हैं लेकिन फिर भी व्यापक रूप से इस चेयर को लेकर सोशल मीडिया पर “no thanks” जैसी प्रतिक्रिया मिल रही हैं.