Jagran Josh Logo
  1. Home
  2. |  
  3. CBSE Board|  

CBSE Class 10 Hindi (Course B) Board Exam 2017: Marking Scheme

Sep 22, 2017 13:30 IST
    Class 10 Hindi B Marking Scheme 2017
    Class 10 Hindi B Marking Scheme 2017

    Here you get the CBSE Class 10 Hindi (Course B) SA-II Board Exam 2017: Marking Scheme. This marking scheme released by the CBSE itself, has key answers (or values point) along with mark wise break up of every answer which gives better idea about the division of marks inside a question.

    Importance of CBSE Class 10 Hindi (Course B Board Examination Marking Scheme:

    Every year CBSE Board releases the marking scheme that used while checking the answer booklets of CBSE Board Examinations. CBSE does this with a purpose of helping its students get an idea to frame a perfect answer that contains every important key point.

    CBSE Class 10 Hindi (Course A) Board Exam 2017: Marking Scheme

    The word limit while answering questions of CBSE board examination is the most crucial factor. With the help of key answers in marking scheme, students will easily understand the criteria of word limit of answers to be written in CBSE Board Exams.

    A few sample questions and their key points from the CBSE Class 10 Hindi (Course B) Board Exam 2017: Marking Scheme, are given below:

    प्रश्न:

    निर्देशानुसार वाक्य-रूपांतरण कीजिए:

    (क) वह बगल के कमरे से कुछ बर्तन ले आया l तौलिये से बर्तन साफ़ किए l  (संयुक्त वाक्य में)

    (ख) लिखकर अभ्यास करने से कुछ भूल नहीं सकते l (मिश्र वाक्य में)

    (ग) सीमा पर लड़ने वाले सैनिक ऐसे हैं कि जान हथेली पर लिए रहते हैं l (सरल वाक्य में)

    उत्तर:

    (क) वह बगल के कमरे से कुछ बर्तन ले आया और उन्हें तौलिये से साफ़ कियाl (1)

    (ख) यदि लिखकर अभ्यास करें तो कुछ भूल नहीं सकते /

    जब लिखकर अभ्यास करते हैं तब कुछ भूल नहीं सकतेl (1)

    (ग) सीमा पर लड़ने वाले सैनिक जान हथेली पर लिए रहते हैंl (1)

    CBSE Class 10 Hindi Course-B Syllabus 2017-2018

    प्रश्न:

    निम्नलिखित वाक्यों को शुद्ध रूप में लिखिए:

    (क) बलिदानियों का देश सदा आभारी रहेगा l

    (ख) ये पुस्तकें मेरे को नहीं चाहिए l

    (ग) मैं तो पहले ही कहा कि ऐसा मत करो l

    (घ) क्या आप उसकी बात समझ लेते हो?

    उत्तर:

    (क) देश बलिदानियों का सदा आभारी रहेगाl (1)

    (ख) ये पुस्तकें मुझे नहीं चाहिएl (1)

    (ग) मैंने तो पहले ही कहा था कि ऐसा मत करोl (1)

    (घ) क्या आप उसकी बात समझ लेते हैंl (1)

    प्रश्न:

    निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए:

    (क) शेख अयाज़ के पिता भोजन छोड़कर क्यों खड़े हुए? ‘अब कहाँ दुसरे के दुःख से दुखी होने वालेपाठ के आधार पर लिखिए l

    (ख) शुद्ध आदर्श की तुलना सोने से और व्यावहारिकता की तुलना ताँबे से क्यों की गई है? ‘पतझर में टूटी पत्तियाँपाठ के आधार पर लिखिए l

    (ग) कारतूसपाठ में सआदत अली को किस प्रकार का व्यक्ति बताया गया है?

    उत्तर:

    (क)

    • अपने बाजू पर रेंगते हुए काले चींटे को वापस उसके घर (कुएँ पर) छोड़ने के लिए उठ खड़े हुएl
    • जीवों के प्रति प्रेम व दया की भावना (2)

    (ख)

    • शुद्ध आदर्श सोने के खरे, मूल्यवान और लचीले होते हैंl
    • व्यावहारिकता ताँबे के समान चमकदार और मज़बूत होती हैl (1+1=2)

    (ग)

    • ऐशपसंद, अंग्रेज़ों का मित्र, मौकापरस्त, देशद्रोही

    (किन्हीं दो बिन्दुओं का उल्लेख अपेक्षित)   (½ +½=1)

    प्रश्न:

    निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए :

          असल में दोनों काल मिथ्या हैं l एक चला गया है, दूसरा आया नहीं है l  हमारे सामने जो वर्तमान क्षण है, वही सत्य है l उसी में जीना चाहिए l चाय पीट-पीते उस दिन मेरे दिमाग से भूत और भविष्य दोनों काल उड़ गए थे l केवल वर्तमान क्षण सामने था l और वह अनंत काल जितना विस्तृत था l

    (क) गद्यांश में किन दो कालों के बारे में बात की गई है और उनकी क्या विशेषता है?

    (ख) लेखक ने किस काल को सत्य माना है और क्यों?

    (ग) गद्यांश से लेखक क्या समझना चाहता है?

    उत्तर:

    (क)

    • भूतकाल एवं भविष्यकाल
    • दोनों मिथ्या हैंl  (1+1=2)

    (ख)

    • वर्तमान कल को
    • केवल वर्तमान क्षण सामने होता हैl (1+1=2)

    (ग)

    • तनाव रहित जीवन जीने के लिए वर्तमान कल में ही जीना चाहिएl (1)

    प्रश्न

    (क) बिहारी ने ग्रीष्म-ऋतु की तुलना किस्से की है ? प्राणियों पर उसका क्या प्रभाव पड़ता है ?

    (ख) मनुष्यताकविता में कवि ने सबको एक होकर चलने की प्रेरणा क्यों दी है ?

    (ग) आत्मत्राणकविता में कोई सहायक न मिलने पर कवि की क्या प्रार्थना है ?

    उत्तर:

    (क)

    • (विद्यार्थी ग्रीष्म ऋतु की तुलना जिससे भी करें, वह स्वीकार्य)
    • परस्पर वैरभाव वाले प्राणी एक साथ रहने के लिए विवश (1+1=2)

    (ख)

    • परस्पर मेलजोल के लिए और भिन्नता की भावना की समाप्ति के लिए
    • परस्पर मेलजोल से सभी कामों के सिद्ध होने की संभावना के कारण
    • संगठन / एकता से ही विकास संभव

    (किन्हीं दो बिन्दुओं का उल्लेख अपेक्षित)   (1 +1=2)

    (ग)

    • आत्मविश्वास और पराक्रम  बना रहेl

    हानि होने पर भी दुःख सहने की क्षमता बनी रहेl    (½ +½=1)

    Download CBSE Class 10 Hindi (Course B) Question Paper SA – II, 2017

    Download CBSE Class 10 Hindi (Course B) Marking Scheme SA – II, 2017

    DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.

    Latest Videos

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Newsletter Signup
    Follow us on
    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK
    X

    Register to view Complete PDF