जाने कितने प्रयासों में ये बने आईएएस टॉपर्स 2015

आईएएस के उम्मीदवारों के लिए आईएएस बन चुके उम्मीदवारों के प्रोफाइल के बारे में जानना अत्यंत महत्वपूर्ण है। कितने प्रयासों में वे आईएएस अधिकारी बने, यह बात आईएएस उम्मीदवार के लिए काफी प्रेरक होती है। यहां हम IAS टॉपर्स 2015 के बारे में यह महत्वपूर्ण जानकारी दे रहे हैं ।

आईएएस के उम्मीदवारों के लिए आईएएस बन चुके उम्मीदवारों के प्रोफाइल के बारे में जानना अत्यंत महत्वपूर्ण है। कितने प्रयासों में वे आईएएस अधिकारी बने, यह बात आईएएस उम्मीदवार के लिए काफी प्रेरक होती है। यदि कोई उम्मीदवार अपने पहले या दूसरे प्रयास में मेधा सूची में नहीं आ पाता तो इसका यह मतलब नहीं है कि वह अपने बाकी बचे प्रयासों में आईएएस की परीक्षा में कोई रैंक नहीं ला सकता। इस लेख में आपको आईएएस परीक्षा में अव्वल आने वाले 10 में से 4 ऐसे उम्मीदवार मिलेंगे जो अपने तीसरे और चौथे प्रयास में सफल हो पाए थे। इसलिए असफल प्रयासों के बारे में चिंता करने की जरुरत नहीं है l लेकिन आप अपने अगले प्रयास में अपनी पढ़ाई के प्रति कितने निष्ठावान है, यह बेहद महत्वपूर्ण है।

जानें IAS टॉपर्स की रणनीति
टीना डाबी: दिल्ली की रहने वाली और दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक करने वाली टीना ने यूपीएससी की लोक सेवा परीक्षा 2015 में प्रथम स्थान हासिल किया था। दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रतिष्ठित कॉलेज लेडी श्री राम कॉलेज में भी वे अव्वल आईं थीं और 'स्टूडेंट ऑफ द ईयर' का खिताब जीता था. उन्होंने जीसस एंड मैरी कॉन्वेंट से अपनी पढ़ाई पूरी की थी। यहां 12वीं कक्षा में उन्होंने राजनीति विज्ञान और इतिहास में 100 फीसदी अंक अर्जित किए थे। उनके पिता नंद किशोर डाबी पिलानी में सीएसआईआर में काम करते हैं और मां हिमाली काम्बले एक योग्य इलेक्ट्रिकल इंजीनियर हैं।

रैंक(CSE 2015): 01

प्रयास : 01

विषय

अंक

निबंध (पेपर 1)

145

जीएस 1 (पेपर 2)

119

जीएस 2 (पेपर 3)

84

जीएस 3 (पेपर 4)

111

जीएस 4 (पेपर 5)

110

वैकल्पिक 1 (राजनीति विज्ञान और अंतरराष्ट्रीय संबंध )

128

वैकल्पिक 2 (राजनीति विज्ञान और अंतरराष्ट्रीय संबंध)

171

लिखित में कुल

868

व्यक्तित्व परीक्षा

195

कुल अंक

1063

अतहर आमिर उल शफी खान: अतहर आमिर खान, आईआईटी मंडी से स्नातक तथा  जम्मू और कश्मीर राज्य से हैं l सीएसई 2015 में इन्होंने दूसरा स्थान प्राप्त किया था । वर्ष 2014 में किए गए प्रयास में इनकी रैंक 560 थी और इन्हें आईआरटीएस में नियुक्ति मिली थी। 

अतहर के पिता उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, अनंतनाग, जम्मू -कश्मीर में प्रवक्ता है। उनकी मां एक गृहनी है। उनके पिता उनकी विनम्रता और ईमानदारी के लिए पूरे इलाके में जाने जाते  है।

रैंक (सीएसई 2015): 02

प्रयास: 02

विषय

अंक

लिखित में कुल

825

व्यक्तित्व परीक्षा

193

कुल अंक

1018

नौकरी के साथ IAS Exam की तैयारी कैसे करें ?

जसमीत सिंह संधू

बेहद विनीत परिवार से ताल्लुक रखने वाले जसमीत सिंह संधू ने अपने चौथे प्रयास में सीएसई 2015  में तीसरा स्थान प्राप्त किया था। वर्ष 2014 में तीसरे स्थान में आईआरएस प्राप्त करने में सफल रहे और सहायक आयुक्त के तौर पर काम कर रहे थे। उनकी लगातार कड़ी मेहनत के प्रतिफल को सिविल लोक सेवा परीक्षाओं में उनको मिलने वाली बार – बार सफलता के रूप में स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है। 2013 में वे पंजाब पीसीएस परीक्षा में चुने गए थे और उनकी सफलता की यात्रा यहीं से शुरु होती है।  
शुरुआत से ही वे पढ़ाई में काफी अच्छे रहे हैं। 10वीं और 12वीं में उन्होंने  क्रमशः 89.6% और  86.4% अंक प्राप्त किए थे और फिर वे आईआईटी रूड़की चले गए जहां उन्होंने 85.22% अंक प्राप्त किए। 

रैंक (सीएसई 2015): 03

प्रयास: 04

विषय

अंक

निबंध  (पेपर 1)

139

जीएस 1 (पेपर 2)

120

जीएस 2 (पेपर 3)

100

जीएस 3 (पेपर 4)

111

जीएस 4 (पेपर 5)

109

वैकल्पिक 1 ( पंजाबी भाषा साहित्य)

120

वैकल्पिक 2 (पंजाबी भाषा साहित्य)

125

लिखित में कुल

824

व्यक्तित्व परीक्षा

190

कुल अंक

1014

अर्तिका शुक्ला
मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज, नई दिल्ली से एमबीबीएस स्नातक अर्तिका ने सीएसई 2015 में चौथा स्थान प्राप्त किया। इससे पहले वे पीआईएमईआर, चंडीगढ़ में जूनियर रेजिडेंट के तौर पर काम कर रही थीं और इसी कॉलेज में पोस्ट ग्रेजुएशन के लिए नामांकन करा रखा था। वे वाराणसी उत्तर प्रदेश के नराई, रोहित नगर की रहने वाली है। आईएएस की परीक्षा की तैयारी के लिए उन्होंने कभी कोई कोचिंग क्लास नहीं ज्वाइन की और दिसंबर 2014 से पूरी ईमानदारी के साथ आईएएस परीक्षा की तैयारी शुरु कर दी थी।

रैंक ( सीएसई  2015): 04

प्रयास: 01

विषय

अंक

निबंध  (पेपर 1)

139

जीएस 1 (पेपर 2)

088

जीएस 2 (पेपर 3)

096

जीएस 3 (पेपर 4)

112

जीएस 4 (पेपर 5)

106

वैकल्पिक 1 (चिकित्सा विज्ञान)

114

वैकल्पिक 2 (चिकित्सा विज्ञान)

142

लिखित में कुल

827

व्यक्तित्व परीक्षा

173

कुल अंक

1000

ये गलतियां आपको IAS बनने से रोक सकती हैं

शशांक त्रिपाठी

आईआईटी कानपुर के ग्रेजुएट शशांक ने सीएसई 2015 में पांचवां स्थान हासिल किया। शुरुआत से ही उनका एक मात्र लक्ष्य आईएएस बनने का था इसलिए आईआईटी कानपुर में 2013 के प्लेसमेंट सेशन में उन्होंने हिस्सा नहीं लिया। वर्ष 2014 में अपने पहले प्रयास में शशांक ने  272वीं रैंक हासिल की और उन्हें भारतीय राजस्व सेवा मिली लेकिन वे इससे संतुष्ट नहीं थे। नागपुर में आईआरएस के प्रशिक्षण के दौरान भी आईएएस बनने का इनका सपना धूमिल नहीं पड़ा और उन्हें अपने पिता नारायण त्रिपाठी से लगातार समर्थन और प्रेरणा मिलती रही।  आखिरकार 2015 में उन्होंने अपने परिवार और सभी शुभचिंतकों को गौरवान्वित किया।

 रैंक (सीएसई 2015): 05

प्रयास: 02

विषय

अंक

लिखित कुल

824

व्यक्तित्व परीक्षा

172

कुल अंक

996

 भारत के 10 सर्वश्रेष्ठ IAS/IPS अधिकारी

आशीष तिवारी

एनआईटी जमशेदपुर से मैकेनिकल इंजीनियरिंग किए आशीष ने सीएसई 2015 में छठा स्थान ( 6 रैंक )  प्राप्त किया। इन्होंने अपनी मूल और उच्च स्कूली शिक्षा मध्यप्रदेश के छत्तरपुर के सरकारी स्कूल से पूरी की थी। इससे पहले वे भारतीय तेल निगम लिमिटेड (आईओसीएल) में काम करते थे और उसी दौरान उन्हें महसूस हुआ कि यूपीएससी की परीक्षा पास करना मुश्किल नहीं है।

रैंक (सीएसई 2015): 06

प्रयास: 01

विषय

अंक

निबंध  (पेपर 1)

136

जीएस 1 (पेपर 2)

112

जीएस 2 (पेपर 3)

100

जीएस 3 (पेपर 4)

113

जीएस 4 (पेपर 5)

119

वैकल्पिक 1 (लोक प्रशासन)

132

वैकल्पिक 2 (लोक प्रशासन)

115

लिखित कुल

827

व्यक्तित्व परीक्षा

168

कुल अंक

995

शरण्या अरी

एसआरएम  यूनिवर्सिटी से आईटी में स्नातक करने वाली शरण्या ने सीएसई 2015 में सातवीं रैंक प्राप्त की। उनके पिता एम. अरिवझागन, सेवानिवृत्त वायु सेना अधिकारी, ने उन्हें भारतीय प्रशासनिक सेवा में आकर देश की सेवा करने के लिए प्रेरित किया और यह उनके माता– पिता का काफी पुराना सपना था। इनकी मां तमिलनाडु के पूर्वी ताम्बरम जिले में सरकारी बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय की शिक्षिका हैं। उन्होंने इनके वैकल्पिक विषय समाजशास्त्र की तैयारी में काफी मदद भी की थी।

रैंक (सीएसई 2015): 07

प्रयास: 04

SUBJECTS

MARKS

लिखित कुल

818

व्यक्तित्व परीक्षा

165

कुल अंक

983

IAS उम्मीदवार से IAS अधिकारी बनने का सफर

कुंभेजकर योगेश विजय

आईआईटी मुंबई के इलेक्ट्रिकल इंजीनियर कुंभेजकर ने सीएसई 2015 में आठवीं रैंक हासिल की थी। वर्ष 2014 के यूपीएससी परीक्षा में उन्होंने 146 वां रैंक हासिल किया था l  इससे पहले वे सिटी बैंक में काम करते थे। वे महाराष्ट्र के शोलापुर जिले से हैं और उनके पिता भी बैंककर्मी हैं।  जिस समय उन्हें यूपीएससी में अखिल भारतीय रैंक आठ (8) आने की खबर मिली वे आईपीएस का प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे थे। बीते 25 वर्षों में महाराष्ट्र के किसी छात्र द्वारा प्राप्त की गई यह सर्वोच्च रैंक है। उन्होंने अपने आस– पास के लोगों के साथ राज्य को भी गौरवान्वित किया है।

 

रैंक (सीएसई 2015): 08

प्रयास: 03

विषय

अंक

लिखित कुल

845

व्यक्तित्व परीक्षा

138

कुल अंक

983

कर्ण सत्यार्थी

आईआईटी खड़गपुर से खान इंजीनियर बने कर्ण ने सीएसई 2015 में अपने दूसरे प्रयास में 9वीं रैंक प्राप्त की। इनके पिता बीआईटी सिंदरी में सिविल इंजीनियरिंग विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर हैं जबकि मां एक गृहणी हैं । उन्होंने अपने गृहनगर झारखंड राज्य के धनबाद जिले के डी नोबिली स्कूल, डिग्वाडिह से स्कूली शिक्षा पूरी की है।

रैंक (सीएसई 2015): 09

प्रयास: 02

विषय

अंक

लिखित कुल

776

व्यक्तित्व परीक्षा

206

कुल अंक

982

आईएएस बनने के लिए सबसे अच्छा स्नातक कोर्स

अनुपम शुक्ला

दिल्ली विश्वविद्यालय से भौतिक शास्त्र में स्नातक करने वाले अनुपम ने सीएसई  2015 में दसवां स्थान प्राप्त किया। इससे पहले  2013 में उन्होंने आईएफएस पास की थी और  लखनऊ, उत्तर प्रदेश में बतौर सहायक वन– संरक्षक काम कर रहे थे। पढ़ाई में वे शुरु से ही अच्छा करते आए थे। देहरादून में वन सेवा प्रशिक्षण के दौरान वानिकी एवं पर्यावरण में एमएससी की डिग्री भी विशेष योग्यता के साथ पूरी की थी। ये बिहार राज्य की राजधानी पटना से ताल्लुक रखते हैं।  इन्होंने एजी मिशन स्कूल, बेतिया (प. चंपारण), डीएवी पब्लिक स्कूल मुजफ्फरपुर और 12वीं केंद्रीय विद्यालय, बेली रोड, पटना से पूरी की है।

रैंक (सीएसई 2015): 10

प्रयास: 03

विषय

अंक

लिखित कुल

798

व्यक्तित्व परीक्षा

182

कुल अंक

980

  आईएएस बनने की प्रेरक कहानियाँ

Related Categories

Jagran Play
खेलें हर किस्म के रोमांच से भरपूर गेम्स सिर्फ़ जागरण प्ले पर
Jagran PlayJagran PlayJagran PlayJagran Play

Related Stories