1. Home
  2. Hindi
  3. Indian Railway: यात्रा में किस ट्रेन में बदले जाते हैं सबसे अधिक लोकोमोटिव, जानें

Indian Railway: यात्रा में किस ट्रेन में बदले जाते हैं सबसे अधिक लोकोमोटिव, जानें

Indian Railway: रेलवे यात्रा के दौरान कई ट्रेनों में लोकोमोटिव को बदल देता है। हालांकि, रेलवे में एक ऐसी भी ट्रेन चलती है, जो कि अपनी यात्रा के दौरान सबसे अधिक बार लोकोमोटिव बदलने को लेकर जानी जाती है। कहां से कहां तक चलती है यह ट्रेन और कौन सी है यह ट्रेन, जानने के लिए लेख पढ़ें। 

यात्रा में किस ट्रेन में बदले जाते हैं सबसे अधिक लोकोमोटिव, जानें
यात्रा में किस ट्रेन में बदले जाते हैं सबसे अधिक लोकोमोटिव, जानें

Indian Railway: भारतीय रेलवे देश में यातायात का प्रमुख साधन है। प्रतिदिन करोड़ों लोग रेलवे के माध्यम से अपनी मंजिल तक का सफर पूरा करते हैं। वहीं, भारतीय रेलवे रेल यात्रा के दौरान कई बार लोकोमोटिव बदलता है। यह यात्रा की आवश्यकता को देखते हुए किया जाता है। हालांकि, क्या आपको पता है कि भारतीय रेल में एक ऐसी भी ट्रेन है, जो अपनी पूरी यात्रा के दौरान सबसे अधिक बार लोकोमोटिव बदलने को लेकर जानी जाती है। इस लेख के माध्यम से हम आपको भारत की इस ट्रेन के बारे में बताने जा रहे हैं। साथ ही यह भी बताएंगे कि यह ट्रेन किन-किन स्टेशनों पर अपने लोकोमोटिव को बदलती है। जानने के लिए पूरा लेख पढ़ें। 

 

यह है सबसे अधिक लोकोमोटिव बदलने वाली ट्रेन

 

भारतीय रेलवे की यह ट्रेन सारे जहां से अच्छा एक्सप्रेस है, जो कि अहमदाबाद से कोलकाता के बीच चलती है। 

 

कितनी दूरी कवर करती है

 

यह ट्रेन अहमदाबाद से कोलकाता के बीच कुल 2607 किलोमीटर की दूरी कवर करती है। अपनी इतनी लंबी यात्रा के दौरान यह ट्रेन कुल 36 स्टेशनों से होकर गुजरती है। साथ ही इसके कुल यात्रा का समय 57 घंटे हैं। 

 

इन स्टेशनों पर बदलती है लोकोमोटिव

 

1.अहमदाबाद से चलने पर सबसे पहले यह ट्रेन अजमेर पहुंचने पर लोकोमोटिव बदलती है, जिसे लोको रिवर्स भी कहा जाता है। दरअसल, यहां पहुंचने पर इस ट्रेन की दिशा जयपुर की तरफ होती है, लेकिन ट्रेन को भोपाल की तरफ जाना होता है। ऐसे में यहां पर लोकोमोटिव को बदला जाता है। 

 

2.यह ट्रेन दूसरी बार रतलाम स्टेशन पर अपना लोकोमोटिव बदलती है, क्योंकि भोपाल से इसे कटनी की तरफ जाना होता है। 

 

3.तीसर बार इस ट्रेन का लोकोमोटिव चोपन में बदला जाता है। क्योंकि, यहां पहुंचने पर इसकी दिशा चुनार की तरफ होती है, जबकि इसे बरकाकाना जाना होता है।

 

4.बरकाकाना पहुंचने पर फिर से ट्रेन का लोकोमोटिव बदला जाता है। क्योंकि, क्योंकि यहां आने पर इसका दिशा मुरी की तरफ होती है, लेकिन इसे जाना कोलकाता होता है। ऐसे में यहां भी ट्रेन का लोकोमोटिव बदला जाता है। 

 

इस तरह से बदले जाते हैं लोकोमोटिव

 

भारतीय रेलवे यात्रा के दौरान जरूरत पड़ने पर कई बार लोकोमोटिव को आगे से हटाकर पीछे और पीछे से हटाकर आगे करता है। वहीं, कुछ मामलों में इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव की जगह डीजल व डीजल की जगह इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव को बदला जाता है। यह यात्रा की आवश्यकता को ध्यान में रखकर किया जाता है। 




पढ़ेंः Indian Railway: इन 11 कारणों से ट्रेन बजाती है हॉर्न, जानें