बेसिक देशों ने जलवायु वित्त लक्ष्य को किया रेखांकित

ब्राजील, दक्षिण अफ्रीका, भारत और चीन - 'बेसिक' समूह बनाने वाले देश - ग्लासगो में COP26 शिखर सम्मेलन में इस ब्लॉक की ओर से एक नए दीर्घकालिक जलवायु वित्त लक्ष्य की मांग कर रहे हैं.       

BASIC nations outline climate finance target
BASIC nations outline climate finance target

भारतीय पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव ने COP26 के उद्घाटन के यह दौरान कहा कि, इस समूह ने विकासशील देशों के लिए वादा किए गए 100 बिलियन डॉलर के जलवायु वित्त समर्थन के वितरण और एक कार्बन बाजार तंत्र, जो जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में निजी क्षेत्र की भागीदारी की सुविधा प्रदान करता है, के लिए समर्थन किया है.

जलवायु संकट पर भारत का रवैया

भारत के पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव द्वारा प्रस्तुत एक बयान के अनुसार, ब्राजील, दक्षिण अफ्रीका, भारत और चीन - 'बेसिक' समूह बनाने वाले देश - ग्लासगो में COP26 शिखर सम्मेलन में इस ब्लॉक की ओर से एक नए दीर्घकालिक जलवायु वित्त लक्ष्य की मांग कर रहे हैं.  

जलवायु के संकट पर नेताओं की मुलाकात और 'कयामत की निरंतर आगे बढ़ती घड़ी'

विश्व के नेताओं, पर्यावरण विशेषज्ञों और कार्यकर्ताओं ने सोमवार को स्कॉटिश शहर ग्लासगो में दो सप्ताह के COP26 शिखर सम्मेलन की शुरुआत में लगातार बढ़ते हुए ग्लोबल वार्मिंग को रोकने के लिए निर्णायक कार्रवाई की गुहार लगाई, जिससे इस ग्रह के भविष्य को खतरा है.

WMO का बड़ा बयान: 10 वर्षों के भीतर दो गुना बढ़ गया विश्व में समुद्र का स्तर

यादव ने COP26 के उद्घाटन के दौरान यह कहा कि, इस समूह ने विकासशील देशों के लिए वादा किए गए 100 बिलियन डॉलर के जलवायु वित्त समर्थन के वितरण और एक कार्बन बाजार तंत्र, जो जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में निजी क्षेत्र की भागीदारी की सुविधा प्रदान करता है, के लिए समर्थन किया है.

जलवायु वित्त लक्ष्य के बारे में बेसिक देशों का बयान

बेसिक ग्रुप ने यह कहा कि, इसके विचार पश्चिमी अफ्रीकी देश गिनी द्वारा विकासशील देशों और चीन के G77 समूह की ओर से ली गई स्थिति के अनुरूप थे.

वर्ष, 2009 में कोपेनहेगन में COP15 की बैठक में, विकसित देशों ने जलवायु परिवर्तन शमन प्रयासों में विकासशील देशों का समर्थन करने के लिए वर्ष, 2020 तक प्रति वर्ष 100 बिलियन डॉलर जुटाने के लिए अपनी प्रतिबद्धता जाहिर की थी. ये फंड सार्वजनिक और निजी, द्विपक्षीय और बहुपक्षीय, और वित्त के वैकल्पिक स्रोतों सहित विभिन्न प्रकार के स्रोतों से हासिल किये जाने थे.

बेसिक देशों ने यह कहा कि वे वर्ष, 2021 से वर्ष, 2025 तक प्रति वर्ष 100 बिलियन डॉलर जुटाने के लिए अपने मौजूदा दायित्वों पर विकसित देशों से एक स्पष्ट रोड मैप की उम्मीद कर रहे थे, जोकि वित्त पर एक नया सामूहिक मात्रात्मक लक्ष्य है.

बेसिक ब्लॉक ने यह भी कहा कि, यह एक बाजार तंत्र की उम्मीद कर रहा था जो जलवायु संकट के खिलाफ बड़ी लड़ाई में कार्बन बाजारों में निजी क्षेत्र की भागीदारी की सुविधा प्रदान करता है.

जलवायु वित्त की पृष्ठभूमि

कनाडा और जर्मनी के नेतृत्व में संयुक्त रूप से एक वित्त वितरण योजना में पिछले महीने यह कहा गया था कि, विकसित देश केवल वर्ष, 2023 में तीन साल की देरी के साथ 100 बिलियन डॉलर का फंड जुटाने में सक्षम होंगे.

वर्ष, 2030 तक अमेरिका में कोयले के ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को पीछे छोड़ देगा प्लास्टिक

भारत जैसे विकासशील देशों ने जिम्मेदारी और जलवायु न्याय में समानता की कमी की ओर इशारा किया है क्योंकि विकसित देशों ने आमतौर पर दशकों तक बेलगाम जलवायु प्रतिबंधों के तहत दोहन किया है जब वे विकसित हुए थे.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Read the latest Current Affairs updates and download the Monthly Current Affairs PDF for UPSC, SSC, Banking and all Govt & State level Competitive exams here.
Jagran Play
खेलें हर किस्म के रोमांच से भरपूर गेम्स सिर्फ़ जागरण प्ले पर
Jagran PlayJagran PlayJagran PlayJagran Play